एडवांस्ड सर्च

Advertisement

ग्रहों का अपराध से कनेक्शन, हस्तरेखा में छिपा होता है क्राइम का योग

aajtak.in
20 August 2019
ग्रहों का अपराध से कनेक्शन, हस्तरेखा में छिपा होता है क्राइम का योग
1/6
चन्द्रमा और कर्क राशी की स्थिति को देखकर व्यक्ति की मनोदशा समझी जा सकती है. अपराध को समझने के लिए मंगल, चन्द्रमा और जलीय राशियों को देखना आवश्यक है. अपराध किस स्तर का होगा और व्यक्ति अपराधी होगा या नहीं, इसे समझने के लिए जन्म नक्षत्र और वृश्चिक राशी को देखना होगा. मंगल से दुस्साहस और कारागार के योग देखे जाते हैं, अतः मंगल की भी अपराध में महत्वपूर्ण भूमिका होती है.
ग्रहों का अपराध से कनेक्शन, हस्तरेखा में छिपा होता है क्राइम का योग
2/6
हाथ की रेखाओं से कैसे अपराध को समझ सकते हैं?
हथेलियों का रंग कालापन लिए हुए हो तो व्यक्ति का स्वभाव अपराधी होता है. हाथ में रेखाओं का जाल भी अपराध की तरफ ले जाता है. अगर मंगल के पर्वत पर तारा हो तो व्यक्ति अपराधी हो सकता है. अंगूठे का छोटा और मोटा होना भी व्यक्ति को अपराधी बना देता है.
ग्रहों का अपराध से कनेक्शन, हस्तरेखा में छिपा होता है क्राइम का योग
3/6
किन दशाओं में व्यक्ति अपराध कर देता है?
- मंगल और राहु की दशा में व्यक्ति अपराध कर देता है
- साढ़े साती के उतरते समय भी व्यक्ति अपराध कर देता है
- सबसे ज्यादा अपराध, पूर्णिमा या अमावस्या को होते हैं
- हाथ में बहुत सारी रेखाएं नीचे की तरफ जाने लगें तो व्यक्ति अपराध कर देता है
ग्रहों का अपराध से कनेक्शन, हस्तरेखा में छिपा होता है क्राइम का योग
4/6
किन दशाओं में व्यक्ति अपराध कर देता है?
- मंगल और राहु की दशा में व्यक्ति अपराध कर देता है
- साढ़े साती के उतरते समय भी व्यक्ति अपराध कर देता है
- सबसे ज्यादा अपराध, पूर्णिमा या अमावस्या को होते हैं
- हाथ में बहुत सारी रेखाएं नीचे की तरफ जाने लगें तो व्यक्ति अपराध कर देता है
ग्रहों का अपराध से कनेक्शन, हस्तरेखा में छिपा होता है क्राइम का योग
5/6
कैसे अपराध करने और अपराधी बनने से बचते हैं?
- कुंडली में बृहस्पति या शुक्र के मजबूत होने पर
- केंद्र में केवल शुभ ग्रह होने पर
- हथेलियों का रंग गुलाबी होने पर
- हाथ में बृहस्पति का वलय होने पर
- उंगलियों का आकार लम्बा होने से और नाखूनों के अच्छे होने से
ग्रहों का अपराध से कनेक्शन, हस्तरेखा में छिपा होता है क्राइम का योग
6/6
कुंडली या हाथ में अपराधी होने के योग हों तो क्या उपाय करें?
- नित्य प्रातः सूर्य को जल अवश्य अर्पित करें
- जल अर्पित करने के बाद कम से कम 27 बार गायत्री मंत्र का जाप करें
- हर मंगलवार को निर्धनों को हलवा-पूरी खिलाएं
- चांदी का एक त्रिभुज गले में मंगलवार को धारण करें
- मांस-मदिरा से परहेज करें.
Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay