एडवांस्ड सर्च

राधा अष्टमी आज, जानें शुभ मुहूर्त और व्रत करने की विधि

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार आज के दिन व्रत रखने से भगवान कृष्ण प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 06 September 2019
राधा अष्टमी आज, जानें शुभ मुहूर्त और व्रत करने की विधि राधा अष्टमी को बरसाने में इसे धूमधाम से मनाया जाता है क्योंकि राधा बरसाने की ही थीं.

कृष्ण जन्माष्टमी के 15 दिन के बाद यानी आज राधा अष्टमी मनाई जा रही है. इस दिन राधा का जन्म हुआ था इसलिए इसे राधा अष्टमी के तौर पर मनाते हैं. बरसाने में इसे धूमधाम से मनाया जाता है क्योंकि राधा बरसाने की ही थीं. बरसाना के सभी मंदिरों में राधा अष्टमी की खास रौनक दिखती है. इस दिन पति और बेटे की लंबी उम्र के लिए व्रत रखने का भी नियम है.

राधा अष्टमी की तिथि और शुभ मुहूर्त

तिथि- 6 सिंतबर, शुक्रवार

अष्टमी का मुहूर्त- रात 08.43 बजे तक

राधा अष्टमी का महत्व

हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार आज के दिन व्रत रखने से भगवान कृष्ण प्रसन्न होते हैं और भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूरी होती हैं. राधा अष्टमी का व्रत रखने से घर में कभी भी धन की कमी नहीं होती है और भगवान की कृपा बनी रहती है. संतान और पति की लंभी आयु के लिए भी इस व्रत का खास महत्व है.

राधा अष्टमी की पूजा विधि

भोर में स्‍नान करने के बाद साफ- सुथरे वस्‍त्र धारण करें.  पूजा घर के मंडप के बीचोंबीच कलश स्‍थापित करें. अब इस पर तांबे का बर्तन रखें. राधा जी की मूर्ति को पंचामृत से स्‍नान कराएं. अब  राधा जी को सुंदर वस्‍त्र और आभूषण पहनाएं. राधा जी की मूर्ति को कलश पर रखे पात्र पर विराजमान करें और धूप-दीप से आरती उतारें.  राधा जी को फल, मिठाई और भोग में बनाया प्रसाद अर्पित करें. पूजा के बाद दिन भर उपवास करें. व्रत के अगले दिन सुहागिन महिलाओं और ब्राह्मणों को भोजन कराएं और दक्षिणा दें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay