एडवांस्ड सर्च

Advertisement

मौनी अमावस्या 2018: इस दिन हुआ था द्वापर युग का प्रारंभ

माघ महीने की तीसरी शुभ तिथि है मंगलवार,16 जनवरी. इस दिन माघी अमावस्या है. जिसे कृष्ण पक्ष की मौनी अमावस्या भी कहा जाता है कहा जाता है कि यह दिन मुनियों के लिए अनंत पुण्यदायक है. इस दिन मौन रहने से पुण्य लोक, मुनि लोक की प्राप्ति होती है.
मौनी अमावस्या 2018: इस दिन हुआ था द्वापर युग का प्रारंभ मौनी अमावस्या
aajtak.in [Edited By: प्रज्ञा बाजपेयी]नई दिल्ली, 15 January 2018

हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक महीने के शुक्ल पक्ष के अंत में अमावस्या तिथि आती है इन सभी तिथियों में माघ मास की अमावस्या का विशेष महत्व है. इसे मौनी अमावस्या या माघी अमावस्या कहा जाता है. इस बार 16 जनवरी के दिन माघी अमावस्या है. जिसे कृष्ण पक्ष की मौनी अमावस्या भी कहा जाता है. कहा जाता है कि यह दिन मुनियों के लिए अनंत पुण्यदायक है. इस दिन मौन रहने से पुण्य लोक, मुनि लोक की प्राप्ति होती है. अमावस्या के दिन काल विशेष रूप से प्रभावी रहता है इस दिन चांद पूरी तरह अस्त रहता है.

यह तिथि भी अत्यंत पवित्र होती है. यह पितरों के लिए तर्पण करने का दिन है. माना जाता है कि इस दिन त्रिवेणी संगम या गंगा तट पर स्नान करना चाहिए. और स्नान के बाद तिल के लड्डू, तिल का तेल, आंवला, वस्त्र वगैरह का दान करना चाहिए.

शास्त्रों के अनुसार इस दौरान सभी देवी देवता प्रयाग तीर्थ में इकट्ठे होते हैं माघ की अमावस्या के दिन यहां पितृलोक के सभी पितृदेव भी आते हैं. अतः यह दिन पृथ्वी पर देवों एवं पितरों के संगम के रूप में मनाया जाता हैं.

हुआ था द्वापर युग का प्रारम्भ

माघ कृष्ण अमावस्या के विषय में मान्यता है कि इसी दिन द्वापर युग का प्रारम्भ हुआ था. जो कि बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है.

शास्त्रों के अनुसार माना जाता है कि इसी दिन भगवान मनु महाराज का जन्म हुआ था. इसके लिए ब्रह्मा जी के मनु तथा शतरुपा को उत्पन्न करके सृष्टि उत्पन्न करने का आदेश दिया था. इसी कारण ब्रह्मा जी की आज्ञा से मनु महाराज ने शतरूपा सहित पृथ्वी के प्राणियों की रचना की थी. इसलिए इसे दिन का अधिक महत्व है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay