एडवांस्ड सर्च

मां गंगा की आरती

मां गंगा को नदियों में सबसे पवित्र और पूज्‍यनीय माना गया है. इनके पावन जल में स्‍नान करने से सारे कष्‍ट दूर हो जाते ह‍ैं और जन्‍मों के पाप भी धुल जाते हैं...

Advertisement
वंदना यादवनई दिल्ली, 14 June 2016
मां गंगा की आरती मां गंगा की आरती

बनारस के घाट पर गंगा आरती का दृश्‍य हर किसी को भक्तिमय करने के लिए काफी होता है, सिर्फ बनारस ही क्‍यों मां गंगा के हर किनारे पर होने वाली मां की आरती हर किसी के जीवन को सुख और समृद्धि से भर देती है.

मां गंगा की आरती
जय गंगा मैया मां जय सुरसरी मैया।
भव वारिधि उद्धारिणी अतिहि सुदृढ़ नैया।।

हरि पद पद्म प्रसूता विमल वारिधारा।
ब्रह्मद्रव भागीरथि‍ शुचि पुण्यागारा।।

शंकर जटा बिहारिणि‍ हारिणी त्रय तापा।
सगर पुत्र गण तारिणि‍, हरिणी सकल पापा।।

'गंगा-गंगा' जो जन उच्चारत मुखसों।
दूर देश में स्थित भी तुरत तरत सुखसों।।

मृत की अस्थि तनिक तुव जल धारा पावै।
सो जन पावन होकर परम धाम जावै।।

तव-तटबासी तरुवर जल थल चरप्राणी।
पक्षी-पशु पतंग गति पावैं निर्वाणी।।

मातु! दयामयि कीजै दीनन पर दाया।
प्रभु पद पद्म मिलाकर हरि लीजै माया।।

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay