एडवांस्ड सर्च

शुक्रवार को ऐसे करें मां संतोषी की पूजा...

मां संतोषी की पूजा करने का विधान शास्त्रों में मिलता है. मां की पूजा करने से भक्तों के बड़े से बड़े दुख भी दूर हो जाते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं मां की उपासना करने का तरीका...

Advertisement
aajtak.in [Edited by: वंदना यादव]नई दिल्‍ली, 19 August 2016
शुक्रवार को ऐसे करें मां संतोषी की पूजा... मां संतोषी

संतोषी माता की उपासना का सबसे अच्छा दिन शुक्रवार है और इस दिन इनकी पूजा करने से मां सुख-समृद्धि का वरदान देती हैं. सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिए मां के पूजन के बाद आरती करने का विधान होता है. ऐसा करने से मां प्रसन्न होती हैं.

संतोषी माता की आरती
जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता।
अपने सेवक जन को, सुख संपति दाता॥
जय सुंदर चीर सुनहरी, मां धारण कीन्हो।
हीरा पन्ना दमके, तन श्रृंगार लीन्हो॥

जय गेरू लाल छटा छवि, बदन कमल सोहे।
मंद हंसत करूणामयी, त्रिभुवन जन मोहे॥
जय स्वर्ण सिंहासन बैठी, चंवर ढुरे प्यारे।
धूप, दीप, मधुमेवा, भोग धरें न्यारे॥

जय गुड़ अरु चना परमप्रिय, तामे संतोष कियो।
संतोषी कहलाई, भक्तन वैभव दियो॥
जय शुक्रवार प्रिय मानत, आज दिवस सोही।
भक्त मण्डली छाई, कथा सुनत मोही॥

जय मंदिर जगमग ज्योति, मंगल ध्वनि छाई।
विनय करें हम बालक, चरनन सिर नाई॥
जय भक्ति भावमय पूजा, अंगीकृत कीजै।
जो मन बसे हमारे, इच्छा फल दीजै॥

जय दुखी, दरिद्री ,रोगी , संकटमुक्त किए।
बहु धनधान्य भरे घर, सुख सौभाग्य दिए॥
जय ध्यान धर्यो जिस जन ने, मनवांछित फल पायो।
पूजा कथा श्रवण कर, घर आनंद आयो॥

जय शरण गहे की लज्जा, राखियो जगदंबे।
संकट तू ही निवारे, दयामयी अंबे॥
जय संतोषी मां की आरती, जो कोई नर गावे।
ॠद्धिसिद्धि सुख संपत्ति, जी भरकर पावे॥

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay