एडवांस्ड सर्च

Advertisement

'सड़क पर पड़े रहे लेकिन मदद को कोई नहीं आया'

आज तक ब्‍यूरोनई दिल्‍ली, 06 January 2013

दिल्ली की सड़कों पर 16 दिसंबर की रात खौफनाक मंजर का एकमात्र गवाह और पीड़ित छात्रा के दोस्त ने बताया कि उनको मरा हुआ समझकर छह आरोपियों ने उन्हें बस से फेंक दिया था. साथ ही उन्हें बस से कुचलने की भी कोशिश की गई थी. सड़क पर डेढ़ घंटे तक मदद की गुहार करने पर भी कोई मदद के लिए सामने नहीं आया. दिल्‍ली के ही लोग वहां से गुजरते रहे लेकिन रुककर किसी ने एक चादर तक नहीं दी.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay