एडवांस्ड सर्च

दिल्ली गैंगरेपः कोर्ट ने नहीं की विनय की जमानत अर्जी पर सुनवाई

दिल्ली में 16 दिसंबर की काली रात के गुनहगारों में शुमार विनय की जमानत अर्जी पर सुनवाई से कोर्ट ने इनकार कर दिया. दिल्ली की एक कोर्ट ने कहा कि उसका कोई अधिकार क्षेत्र नहीं है.

Advertisement
भाषा [Edited By: नमिता शुक्ला]नई दिल्ली, 20 June 2013
दिल्ली गैंगरेपः कोर्ट ने नहीं की विनय की जमानत अर्जी पर सुनवाई रेप

दिल्ली में 16 दिसंबर की काली रात के गुनहगारों में शुमार विनय की जमानत अर्जी पर सुनवाई से कोर्ट ने इनकार कर दिया. दिल्ली की एक कोर्ट ने कहा कि उसका कोई अधिकार क्षेत्र नहीं है.

विनय ने पटियाला हाउस डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में अवकाशकालीन कोर्ट के समक्ष जमानत अर्जी पेश की थी. विनय और तीन सह आरोपियों के खिलाफ साकेत की डिस्ट्रिक्ट कोर्ट के विशेष न्यायाधीश मुकदमे पर सुनवाई कर रहे हैं.

उसने दावा किया कि पटियाला हाउस कोर्ट में अवकाशकालीन न्यायाधीश को उसकी याचिका पर सुनवाई का अधिकार है क्योंकि दिल्ली हाई कोर्ट के हालिया प्रशासनिक आदेश के मद्देनजर वसंत विहार थाने से संबंधित मामले यहां ट्रांसफर कर दिए गए हैं.

पटियाला हाउस कोर्ट परिसर में अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेश शर्मा ने कहा, ‘रिकार्ड का अध्ययन करने पर मैं पाता हूं कि मुख्य सुनवाई साकेत कोर्ट परिसर की विशेष फास्ट ट्रैक कोर्ट के पास लंबित है और इसलिए इस कोर्ट को आवेदन पर विचार करने का कोई अधिकार नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘कल यानि 20 जून के लिए कानून के अनुसार आवेदन को निपटारे के लिए साकेत कोर्ट परिसर स्थित संबद्ध कोर्ट के पास भेजा जाना है.’ विनय ने यह कहते हुए एक महीने के लिए अंतरिम जमानत मांगी है कि उसे दिल्ली विश्वविद्यालय के स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग की ओर से ली जाने वाली बीए (प्रोग्राम) की परीक्षा में बैठना है.

उसके वकील ए पी सिंह ने कोर्ट से कहा कि उसकी पहली परीक्षा आज (बुधवार) अपराह्न तीन बजे है और विनय को परीक्षा में शामिल होने के लिए पुलिस हिरासत में भेजा जाए.

सुनवाई के दौरान विशेष लोक अभियोजक ए टी अंसारी ने कहा कि साकेत में विशेष फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले में मुकदमे की सुनवाई चल रही है और अंतरिम जमानत याचिका वहां दायर की जानी चाहिए थी. विनय के अतिरिक्त तीन सह आरोपी अक्षय, पवन गुप्ता और मुकेश चलती बस में एक पैरामेडिकल छात्रा से गैंगरेप के आरोपों का सामना कर रहे हैं. पीड़िता की पिछले साल 29 दिसंबर को सिंगापुर के एक अस्पताल में मृत्यु हो गई थी.

बस का चालक राम सिंह भी इस मामले में आरोपी था. वह मार्च में तिहाड़ जेल में मृत पाया गया था. उसके खिलाफ सुनवाई समाप्त कर दी गई है. मामले में छठा आरोपी किशोर है और उसके खिलाफ यहां किशोर न्याय बोर्ड में मुकदमा चल रहा है.

सुनवाई के दौरान विनय के वकील ने कोर्ट से कहा कि उसे गत शनिवार को परीक्षा के लिए प्रवेश पत्र मिला है. उसके बाद उसने जमानत के लिए साकेत कोर्ट का दरवाजा खटखटाया लेकिन वहां उससे कहा गया कि पटियाला हाउस कोर्ट के अवकाशकालीन न्यायाधीश इसपर सुनवाई करेंगे.

उन्होंने कहा कि वसंत विहार थाना पटियाला हाउस कोर्ट के अधिकार क्षेत्र में पड़ता है इसलिए जमानत याचिका पर सुनवाई की जानी चाहिए और विनय को परीक्षा में शामिल होने की अनुमति दी जानी चाहिए. परीक्षा बुधवार से शुरू हो रही है.

अपनी याचिका में विनय ने कहा, ‘उसका (विनय का) भविष्य इस परीक्षा पर निर्भर करता है. इसलिए, आवेदक के लिए इस परीक्षा में उपस्थित होना आवश्यक है और शिक्षा का अधिकार भारत के संविधान में मौलिक अधिकार है.’ पुलिस ने उसकी याचिका का यह कहते हुए विरोध किया कि विनय अपने शरीर पर चोट पहुंचाने का प्रयास कर रहा है और उसे राहत नहीं दी जानी चाहिए.

कोर्ट ने हालांकि कहा कि मामले में मुकदमा साकेत स्थित विशेष कोर्ट के समक्ष लंबित है, इसलिए उसके पास इसपर सुनवाई करने का अधिकार क्षेत्र नहीं है. न्यायाधीश ने कहा, ‘मुकदमा सक्षम कोर्ट के समक्ष लंबित है. मैं कैसे फैसला कर सकता हूं. मैं इसपर फैसला करने नहीं जा रहा हूं. मैं इसे संबद्ध कोर्ट के पास भेजने जा रहा हूं.’

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay