एडवांस्ड सर्च

आक्रोश को बेकार नहीं जाने देंगे: प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दिल्ली में 16 दिसंबर की रात चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई लड़की के निधन पर अफसोस व्यक्त करते हुए उम्मीद जताई है कि भारत को रहने के लिए सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से सभी राजनीतिक वर्ग और समाज अपने संकीर्ण गुटीय हितों को दरकिनार करेंगे.

Advertisement
aajtak.in
भाषानयी दिल्ली, 29 December 2012
आक्रोश को बेकार नहीं जाने देंगे: प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह

प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने दिल्ली में 16 दिसंबर की रात चलती बस में सामूहिक बलात्कार की शिकार हुई लड़की के निधन पर अफसोस व्यक्त करते हुए उम्मीद जताई है कि भारत को रहने के लिए सुरक्षित बनाने के उद्देश्य से सभी राजनीतिक वर्ग और समाज अपने संकीर्ण गुटीय हितों को दरकिनार करेंगे.

उन्होंने कहा कि पीड़ित की याद में सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि उसके साथ हुए भयावह हादसे को लेकर युवाओं में उपजी भावनाएं और ऊर्जा रचनात्मक दिशा का रूख करें.

पीड़ित की मौत पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए उन्होंने देशवासियों के साथ मिल कर उसके परिवार और मित्रों के प्रति संवेदना जताई है.

प्रधानमंत्री ने कहा ‘मैं लड़की के परिजनों और देश से कहना चाहता हूं कि वह भले ही जीवन की लड़ाई हार गई हो, लेकिन अब यह सुनिश्चित करना हमारी जिम्मेदारी है कि उसकी मौत को हल्के तौर पर न लिया जाए.’ उन्होंने कहा ‘हमने इस घटना से उत्पन्न भावनाओं और आक्रोश को देखा है. यह एक युवा भारत और ऐसे भारत की साफ समझ में आने वाली प्रतिक्रियाएं हैं जो वास्तव में बदलाव चाहता है. पीड़ित की याद में सच्ची श्रद्धांजलि यही होगी कि हम इन भावनाओं और आक्रोश को रचनात्मक कार्रवाई की दिशा में मोड़ें.’ सिंह ने कहा कि सामाजिक रवैये के लिए जरूरी महत्वपूर्ण बदलावों पर बहस और उनकी जांच समय की मांग है.

प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार ऐसे अपराधों के लिए दंड के प्रावधानों पर तथा महिलाओं की सुरक्षा और संरक्षा बढ़ाने के उपायों पर प्राथमिकता के आधार पर विचार कर रही है. सिंह ने अपने श्रद्धांजलि संदेश में कहा है ‘मुझे उम्मीद है कि पूरा राजनीतिक वर्ग और समाज अपने संकीर्ण गुटीय हितों तथा एजेंडा को दरकिनार करेगा ताकि हम भारत को महिलाओं के रहने के लिए पूरी तरह सुरक्षित और बेहतरीन स्थान बनाने की अपनी इच्छा पूरी कर सकें.’ प्रधानमंत्री ने कहा कि वह दिवंगत लड़की की आत्मा की शांति के लिए और उसके परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने के लिए ईश्वर से प्रार्थना करते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay