एडवांस्ड सर्च

राम सिंह की खुदकुशी से खौफ में हैं गैंगरेप के आरोपी

दिल्ली गैंगरेप के मुख्य आरोपी राम सिंह की खुदकुशी से बाकी आरोपी डर गए हैं.

Advertisement
आज तक ब्यूरोनई दिल्ली, 11 March 2013
राम सिंह की खुदकुशी से खौफ में हैं गैंगरेप के आरोपी

दिल्ली गैंगरेप के मुख्य आरोपी राम सिंह की खुदकुशी से बाकी आरोपी डर गए हैं.

गैंगरेप केस में सोमवार को साकेत कोर्ट में राम सिंह समेत सभी आरोपियों की सुनवाई होनी थी. जब बचाव पक्ष के वकील ने बताया कि राम सिंह ने खुदकुशी कर ली है, तो इस खबर को सुनकर बाकी सारे आरोपियों में खौफ छा गया. आरोपियों ने कोर्ट से अपनी सुरक्षा की गुहार लगाई.

कोर्ट ने इस मामले पर तिहाड़ जेल प्रशासन से जांच रिपोर्ट मांगी है. साथ ही कोर्ट ने सभी आरोपियों को भरोसा दिलाते हुए कहा कि उनकी सुरक्षा की रोज जांच की जाएगी.

गौरतलब है कि देश को हिला देने वाले दिल्ली गैंगरेप केस के मुख्य आरोपी राम सिंह ने जान दे दी. अजीब बात है कि सबसे सुरक्षित माने जाने वाली तिहाड़ जेल में राम सिंह ने फांसी लगा ली. रविवार रात से वो बेचैन था. उसकी बैरक में 3 और कैदी मौजूद थे. उनमें से एक ने रात 2 बजे के करीब राम सिंह को बेचैनी से टहलते देखा था और सुबह 5 बजे जेल के गार्ड ने उसे दरवाज़े के ऊपर बने झरोखे से लटकता पाया.

तिहाड़ जेल प्रशासन सवालों के घेरे में

राम सिंह की खुदकुशी ने तिहाड़ जेल प्रशासन के रवैये को सवालों के घेरे में ला खड़ा किया है. फांसी लगाने का तरीक़ा, वक्त और हालात और दूसरी कई बातों को लेकर अहम सवाल खड़े हो रहे हैं.

1. सबसे बड़ा सवाल ये है कि इतने संवेदनशील मामले के कैदी को, इतनी आसानी से ख़ुदकुशी करने की गुंजाइश कैसे मिल गई.

2. राम सिंह का कद साढ़े 5 फीट था ऐसे में उसके हाथ 7 फीट ऊंचे रोशनदान तक कैसे जा पहुंचे.

3. जिस तरह बताया जा रहा है कि राम सिंह ने दरी-कंबल और कपड़ों को फाड़कर रस्सी बनाई उस पर भी सवाल उठ रहे हैं. राम सिंह की सेल में 3 कैदी और सो रहे थे. रस्सी बनाने में काफी वक्त लगा होगा, अजीब बात है कि किसी को इस बात की भनक कैसे नहीं लगी.

4. राम सिंह के घरवाले एक अहम सवाल उठा रहे हैं कि जिस शख्स का एक हाथ खराब था, उसने सिर्फ एक हाथ से किस तरह रस्सी भी बना ली, फंदा भी बना लिया और फिर एक ही हाथ के सहारे खुद को फंदे से लटका भी लिया.

5. सवाल यह भी है कि राम सिंह ने फांसी लगाने के लिए सुबह 5 बजे का वक्त क्यों चुना, जबकि 5 बजे कैदियों को जगा दिया जाता है.

6. तो क्या तिहाड़ जेल प्रशासन कुछ तथ्यों पर पर्दा डाल रहा है. सवाल यह भी है कि इतनी बड़ी लापरवाही उजागर होने के बावजूद, अब तक किसी पर कार्रवाई क्यों नहीं की गई.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay