एडवांस्ड सर्च

रेलवे के लिए कैसा रहा 2018? मोदी सरकार ने किए ये ऐतिहासिक काम

Indian Railway Year Ender: जानते हैं साल 2018 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली मोदी सरकार ने रेलवे के लिए क्या क्या कार्य किए हैं और ये साल रेलवे के लिए कैसा रहा...

Advertisement
aajtak.in [Edited By: मोहित पारीक]नई दिल्ली, 29 December 2018
रेलवे के लिए कैसा रहा 2018? मोदी सरकार ने किए ये ऐतिहासिक काम Indian Railway Year Ender

साल 2019 का आगाज होने वाला है और 2018 भारतीय रेलवे के लिए अच्छा भी रहा और कई दुर्घटनाओं का गवाह भी बना. वहीं रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि अगर भारतीय रेलवे पर उसकी उपलब्धियों के लिए इस साल कोई टैग लगाने की कोशिश की जाए तो यह शायद '2018, कई शुरुआतों का साल' होगा.

दरअसल, ट्रेन में देरी, खराब गुणवत्ता का भोजन, कैटरर द्वारा अधिक शुल्क लेना जैसी यात्रियों की शिकायतें इस साल भी आम रही, लेकिन इसके अलावा भारत की सबसे तीव्र गति की ट्रेन, सबसे लंबा पुल चालू करना, पहली बार डीजल से चलने वाले इंजन को इलेक्ट्रिक इंजन में बदलना, पहला परिवहन विश्वविद्यालय बनाना, पहली एयर कंडीशंड लोकल ट्रेन और संभवत: पिछले तीन दशकों में पहली बार सबसे कम दुर्घटना जैसी अच्छी चीजें भी उसके खाते में गईं.

ट्रेन 18 का ट्रायल रन: सात घंटे से भी कम वक्त में दिल्ली से पहुंची प्रयागराज

हालांकि, दशहरे पर अमृतसर ट्रेन हादसे के बाद रेलवे की भूमिका जांच के घेरे में आ गई. इस हादसे में 58 लोग मारे गए थे. मार्च 2017-18 तक 73 रेल दुर्घटनाएं हुईं जबकि अप्रैल से 15 दिसंबर तक ऐसे 45 मामले सामने आए. पिछले साल अप्रैल-दिसंबर के दौरान ऐसे 54 मामले सामने आए थे.

सरकार ने किए ये बड़े कार्य

- इंटीग्रल कोच फैक्टरी द्वारा 97 करोड़ रुपये की लागत से बनाई गई सबसे तीव्र गति वाली ट्रेन 18 ने 180 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम गति हासिल की लेकिन अभी इसे रेलवे के बेड़े में शामिल करने के समय का पता नहीं है. भारत की सबसे तेज गति वाली शताब्दी ट्रेनों की जगह ले रही टी18 दिल्ली से वाराणसी तक चलेगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने क्रिसमस पर असम में एशिया का दूसरा सबसे लंबा पुल खोला. पुल के उद्घाटन के 16 साल बाद इसे खोला गया है. पुल के चालू होने से असम में तिनसुकिया और अरुणाचल प्रदेश में नाहरलगुन के बीच यात्रा समय करीब 10 घंटे तक कम हो गया है.

- रेलवे ने दुनिया में पहली बार डीजल से चलने वाले इंजन को इलेक्ट्रिक इंजन में बदला.

वेस्ट सेंट्रल रेलवे में नौकरी का मौका, 10वीं पास करें अप्लाई

- 2018 को ऐसे वर्ष के तौर पर याद किया जाएगा जिसमें रेलवे ने अपना पहला परिवहन विश्वविद्यालय राष्ट्रीय रेल एवं परिवहन संस्थान (एनआरटीआई) स्थापित किया. यह संस्थान गुजरात के वडोदरा में खोला गया. रूस और चीन के बाद यह दुनिया का तीसरा ऐसा विश्वविद्यालय है.

- रेल मंत्री ने इसके साथ ही यह बताया कि कैसे रेलवे ने इस साल सुरक्षा और सेवाओं में सुधार लाने के लिए 1.3 लाख से अधिक पदों पर सबसे बड़ा भर्ती अभियान चलाया.

- मुंबई उपनगरीय रेलवे के लिए पहली एयर कंडीशंड लोकल ट्रेन के साथ रेलवे के खाते में एक और उपलब्धि जुड़ गई. ऐसी और ट्रेनें लाने की तैयारी है.

- इस बार रेलवे पहली बार टिकटिंग, शिकायतों का समाधान, फूड मेन्यू, ट्रेनों का पता लगाने के लिए कई ऐप लेकर आया.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay