एडवांस्ड सर्च

कटा हाथ, टूटा पांव, जख्मी जिस्म...ऐसे हुआ अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम का कत्ल

उस मासूम की दोनों आंखें डैमेज थीं. रीढ़ की सारी हड्डियां टूटी हुई थीं. सीधा हाथ कंधे तक कटा हुआ था. बायां पैर टूटा हुआ था. सीने पर ज़ख्म ही ज़ख्म थे. सिर की हड्डी टूटी हुई थी. उसके जिस्म को तेज़ाब से नहलाया गया था. सिर से पैर तक पूरा जिस्म कुत्तों के दांतों और नाखूनों के घाव से भरा हुआ था.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर अलीगढ़, 09 June 2019
कटा हाथ, टूटा पांव, जख्मी जिस्म...ऐसे हुआ अलीगढ़ में ढाई साल की मासूम का कत्ल मासूम की लाश मिलने के बाद पूरा देश दरिंदों को सजा-ए-मौत देने की मांग कर रहा है

अपराध की तमाम खबरें आप तक पहुंचाना हमारी जिम्मेदारी है. मगर कई बार कुछ वारदात ऐसी हो जाती हैं. जो हम सबको अंदर तक झकझोर कर रख देती हैं. दिल और दिमाग मानने को तैयार ही नहीं होता कि ऐसा भी हो सकता है. मगर लाशें सामने आकर सारी गलतफहमी दूर कर देती हैं. ढाई साल की उम्र होती ही क्या है. बच्चे नया-नया चलना सीखते हैं. नाजुक पांव थक जाते हैं तो मां की गोद या पालने में चले जाते हैं. भूखे कुत्तों का निवाला बनने के लिए कचरे के ढेर पर नहीं फेंके जाते. पर अलीगढ़ में ढाई साल की गुड़िया को पहले दो दिन तक भूसे की बोरी में रखा गया और फिर कचरे के ढेर पर फेंक दिया गया. अब अगर बच्चों की दुनिया ऐसी होगी तो फिर भला कौन बच्चा हमारी और आपकी इस दुनिया में बड़ा होना चाहेगा?

उस मासूम की दोनों आंखें डैमेज थीं. रीढ़ की सारी हड्डियां टूटी हुई थीं. सीधा हाथ कंधे तक कटा हुआ था. बायां पैर टूटा हुआ था. सीने पर ज़ख्म ही ज़ख्म थे. सिर की हड्डी टूटी हुई थी. उसके जिस्म को तेज़ाब से नहलाया गया था. सिर से पैर तक पूरा जिस्म कुत्तों के दांतों और नाखूनों के घाव से भरा हुआ था.

सिर्फ सोच कर ही रोंगटे खड़े हो जाते हैं. जिसके नन्हे-नन्हे नाजुक पांव अभी-अभी जमीन पर पड़े हों, उसी मासूम को उसकी मां की गोद से उठा कर किसी कचरे के ढेर पर भूखे कुत्तों के आगे फेंक दिया जाता है. फिर वो कुत्ते उसे घंटों नोचते हैं खसोटते हैं. पर आंसुओं में लिपटी उन मासूम चीखों को जब उसका कातिल ही नहीं सुन पाया तो फिर खामोश और बेज़ुबान उस गुड़िया की बेजान जिस्म को जानवर कैसे छोड़ देते?

दुनिया में आने के सिर्फ ढाई साल बाद दुनियावालों ने इस बच्ची के साथ क्या किया. उसके आधे-अधूरे जिस्म पर सड़-गल चुके जख्म खुद उसके गवाह हैं. कोई इंसान महज़ पांच हजार के लिए ढाई साल की किसी मासूम की आंखें निकाल ले. हाथ काट दे. पैर तोड़ डाले. जिस्म को तेजाब में डुबो दे. रीढ़ की सारी हड्डियां तोड़ डाले और फिर आखिर में कचरे के ढेर के बीच भूखे कुत्तों के आगे कुत्तों का निवाला बनने के लिए उसे फेंक आए, ये कैसे हो सकता है?

दिल और दिमाग दोनों नहीं मानते. पर क्या करें. ये बच्ची अपने तमाम जख्मों के साथ हमारे सामने है. कमबख्त मानने के अलावा और कोई चारा भी तो नहीं है. फेंकने वाले इतने पत्थरदिल थे कि शायद रोने की आवाज में जान बख्श देने की गुड़िया की गुजारिश भी उन्हें नहीं पिघला सकी. फेंक कर जाते हुए उन्होंने उसी कचरे के आसपास भूखे कुत्तों की गुर्राहट भी सुनी होगी. उन्हें ये भी पता होगा कि ये कुत्ते गुड़िया को अपना निवाला बना लेंगे. पर वो फिर भी नहीं पसीजे. कहते हैं बच्चे फ़ऱिश्ते होते हैं. पर यहां इंसान ही एक फऱिश्ते को कुत्तों का निवाला बना रहा था.

आसपास के लोगों ने कचरे के ढेर के करीब से गुजरते हुए कुत्तों के भौंकने की आवाज जरूर सुनी होगी. सोचिए ना कैसा मंज़र होगा वो? उस मंजर को देखना तो छोड़िए सुनने के लिए भी कलेजा चाहिए. कई कुत्ते एक साथ कचरे के ढेर पर पड़ी गुड़िया को झपट कर अपना निवाला बनाने की कशिश कर रहे होंगे. इस झपटा-झपटी में गुड़िया का पूरा जिस्म कुत्तों के दांतों और नाखुन के घाव से भर गया होगा, वो पूरी तरह लहूलुहान हो चुकी होगी.

और फिर खता क्या थी गुड़िया की. बस यही कि उसके पिता ने किसी को कर्ज दिया था. कर्जदार ने पांच हजार रुपये कम लौटाए तो झगड़ा हो गया. पर उस झगड़े का हिसाब गुड़िया से क्यों? वो भी इस हैवानियत के साथ कि जिसे देख कर शायद खुद हैवान भी खुद पर शर्मा जाए.

वैसे ढाई साल की इस मासूम का नाम गुड़िया भी नहीं है. मां-बाप ने कुछ और ही नाम रखा था. अलीगढ़ में पैदा हुई थी गुड़िया. अलीगढ़ उत्तर प्रदेश में आता है. प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं योगी आदित्यनाथ. जिन्होंने कहा था कि राज्य के सारे बदमाश यूपी छोड़ दें वर्ना कहीं और पहुंचा दिए जाएंगे. पर उसी उत्तर प्रदेश में ढाई साल की एक बच्ची के साथ वो सब कुछ होता है, जो किसी भी सभ्य समाज को शर्मसार कर जाए. मगर योगी जी की पुलिस तब तक सोती रहती है, जब तक कि गुडिया की मौत की कहानी पूरा देश नहीं जान जाता.

एक बच्ची तीन दिन तक गायब रहती है. पुलिस रिपोर्ट भी लिखती है. पर बस.. रिपोर्ट ही लिखती है. कानूनी कागज़ के बाहर आकर बच्ची को ढूंढने की ज़हमत नहीं उठाती. तीन दिन बाद बच्ची की लाश मिलती है. पुलिस फिर खानापूर्ती में लग जाती है. ड्यूटी तब भी नहीं निभाती. वो तो टप्पल से निकल कर खबर सोशल मीडिया के जरिए पूरे हिंदुस्तान में जब फैल जाती है, तब अलीगढ़ पुलिस को पहली बार अहसास होता है कि गुमशुदा बच्ची का मामला सचमुच बड़ा मामला था.

30 मई 2019, टप्पल, अलीगढ़

दो साल छह महीने की गुड़िया के मम्मी-पापा अलीगड़ के इसी टप्पल इलाके में रहते हैं. पापा प्लंबर हैं. 30 मई की शाम को अचानक गुड़िया गायब हो जाती है. घर वाले वाले पूरा मोहल्ला छान मारते हैं. पर गुड़िया का सुराग नहीं मिलता.

31 मई 2019, टप्पल पुलिस स्टेशन, अलीगढ़

पूरी रात बीत जाती है पर गुड़िया नहीं मिलती. इसी के बाद 31 मई को घर वाले टप्पल पुलिस स्टेशन में गुड़िया की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखा देते हैं. उधर, पुलिस एक आम गरीब बच्ची की गुमशुदगी को आम और गरीब लोगों की तरह ही लेती है. बच्ची की तलाश के नाम पर जांच और कोशिश जारी है का जुमला जारी रहता है. पर गुड़िया नहीं मिलती. 31 मई के बाद एक जून भी निकल जाता है. पर गुड़िया का सुराग नहीं मिलता.

2 जून 2019, टप्पल, अलीगढ़

गुड़िया की गुमशुदगी के तीन दिन बाद दो जून की सुबह टप्पल में ही गुड़िया के घर से मुश्किल से डेढ़ सौ मीटर की दूरी पर कूड़े के ढर कुछ लोगों की नजर पड़ती है. कुछ कुत्ते किसी इंसानी जिस्म को नोच कर घसीट रहे थे. लोगों ने कुत्तों को भगाया और फिर जब उनकी नजर उस चीज पर पड़ी तो वो सिहर उठे. कुत्ते जिसे नोच रहे थे वो किसी छोटी बच्ची की लाश थी. गुड़िया की गुमशुदगी के बारे में सारा मोहल्ला जानता था. गुड़िया के घर वाले भाग कर कचरे के ढेर के पास आए. वो उनकी गुड़िया की ही लाश थी. फौरन पुलिस को खबर दी जाती है.

लाश की हालत देख हर कोई सिहर उठा था. जिस्म का हर हिस्सा नोचा जा चुका था. जैसे-जैसे लाश की इस हालत की खबर लोगों को लगी लोगों का गुस्सा फूटने लगा. कुछ लोगों ने लाश और उसकी कहानी सोशल मीडिया पर डाल दी. अब खबर अलीगढ़ से निकल कर पूरे देश तक जा पहुंची. तब कहीं जाकर अलीगढ़ पुलिस को अहसास हुआ कि मामला संगीन है. लिहाज़ा रिपोर्ट लिखाने के करीब हफ्ते भर बाद पुलिस पहली बार ड्यूटी करती नजर आई. वो भी शायद अपनी गर्दन बचाने के लिए.

गुड़िया की लाश मिलने के बाद गुड़िया के घर वालों के बयान पर उसके पड़ोसी असलम और ज़ाहिद को गिरफ्तार कर जब पूछताछ की गई तो रौंगटे खड़ी कर देने वाली कहानी सामने आई. दरअसल, ज़ाहिद ने गुड़िया के पिता से कुछ पैसे उधार लिए थे. तय वक्त पर उसने उधार की कुल रकम में से पांच हजार कम लौटाए. इस पर दोनों में झगड़ा हो गया. ज़ाहिद को ये बात इतनी बुरी लगी कि उसने गुड़िया के पिता को सबक सिखाने का फैसला कर लिया.

इसी के बाद 30 मई को वो गुड़िया को उठा कर अपने घर ले आया. फिर उसी दिन गला दबा कर उसने गुड़िया का कत्ल कर दिया. गुड़िया को मारने के बाद उसकी लाश को उसने घर के अंदर ही भूसे के नीचे छुपा दिया. इस बीच 31 मई को घर वालों ने गुड़िया की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखा दी. ज़ाहिद डर गया. डर की वजह से एक जून की रात गुड़िया की लाश घर से निकाल कर कचरे के ढेर पर फेंक आया. गुडिया के घर से ज़ाहिद का घर मुश्किल से दो सौ मीटर की दूरी पर है.

इस तरह गुड़िया की लाश 30 और 31 मई की रात ज़ाहिद के घर में भूसे के अंदर रखी रही और एक जून की पूरी रात कचरे के ढेर पर. इसके बाद उसकी मौत का पता चला. पहले इंसान और फिर जानवरों के हाथों नोची-खसोटी गई ढाई साल की गुड़िया की मौत ने नेताओं से लेकर बॉलीवुड तक को झकझोर कर रख दिया है. हर कोई मुजरिम को कड़ी से कड़ी सज़ा देने की मांग कर रहा है. पांच पुलिसवालों को सस्पेंड कर दिया गया है जबकि केस की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है. लाश की हालत को देखते हुए फ़ोरेंसिक जांच के लिए उसे आगरा लैब भेजा गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay