एडवांस्ड सर्च

ओबामा का सुरक्षा घेरा तोड़ पाना है नामुमकिन!

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत आ चुके हैं. उनके भारत में कदम रखते ही दिखा ओबामा का सुरक्षाजाल जिसे भेद पाना नामुमकिन है. ओबामा की सुरक्षा के लिए जिस तरह के इंतजाम किए गए हैं उसे जान कर आप दांतों तले उंगलियां दबा लेंगे.

Advertisement
aajtak.in
आजतक ब्यूरोनई दिल्ली, 26 January 2015
ओबामा का सुरक्षा घेरा तोड़ पाना है नामुमकिन!

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा भारत आ चुके हैं. उनके भारत में कदम रखते ही दिखा ओबामा का सुरक्षाजाल जिसे भेद पाना नामुमकिन है. ओबामा की सुरक्षा के लिए जिस तरह के इंतजाम किए गए हैं उसे जान कर आप दांतों तले उंगलियां दबा लेंगे.

बस यूं समझ लीजिए कि जहां-जहां ओबामा के पांव पड़ने वाले हैं उसके आसपास मीलों तक हर कोने पर आंखें गड़ी हैं. ओबामा बेशक 25 जनवरी को तड़के दिल्ली पहुंचेंगे मगर उनकी हिफाजत के लिए उनकी सेना के हजारों जवान पहले से ही हर उस जगह के चप्पे-चप्पे को खंगाल चुके हैं या खंगाल रहे हैं जहां उनके कदम पड़ने वाले हैं. हालांकि बुनियादी तौर पर राष्ट्रपति की सुरक्षा की जिम्मेदारी अमेरिकी एजेंसी यूएसएसएस यानी युनाइटिड स्टेट्स सीक्रेट सर्विस के पास होती है.

इनके एजेंट हमेशा सादी वर्दी में राष्ट्रपति के आसपास मौजूद रहते हैं. काले चश्मे के पीछे इनकी नजरें हमेशा प्रेसिडेंट के आसपास मौजूद लोगों पर ही गड़ी रहती है। इनके कोट पर लगे माइक्रोफोन और कान में लगे इयरपीस के जरिये ये हमेशा सिक्योरिटी कंट्रोल रूम के संपर्क में रहते हैं. सीक्रेट सर्विस के एजेंट अपने कोट के बटन कभी बंद नहीं करते. ताकि जरूरत पड़ने पर इनके हाथ छिपे हुए हथियार ताकि बिजली की तेजी से पहुंच पाएं.

अमेरिकी राष्ट्रपति की सुरक्षा की असल जिम्मेदारी होती है सीक्रेट सर्विस, सीआईए और अमेरिकी फौज की उस साझा टीम पर जिनके लोग जमीन, आसमान और समंदर से हमेशा राष्ट्रपति पर कड़ी नजर रखते हैं। ये सभी सुरक्षाकर्मी एक नेटवर्क के जरिये हमेशा सिक्योरिटी कंट्रोल रूम से जुड़ें रहते हैं। इनके पास राष्ट्रपति के खिलाफ किसी भी तरह के रासायनिक, जैविक या फिर परमाणु हमले से निपटने के इंतजाम भी हर वक्त मौजूद रहते हैं.

अमेरिकी सुरक्षा घेरे के बाहर की सुरक्षा की जिम्मेदारी भारतीय खेमे की है. ओबामा की सुरक्षा में मुंबई और दिल्ली पुलिस के बेहतरीन अफसरों के अलावा, क्विक रिएक्शन टीम्स, स्वैट, एनएसजी, एसपीजी के कमांडो, पैरामिलिट्री फोर्स, डॉग स्क्वॉड, बम निरोधक दस्ते, सीबीआई, आईबी और खुफिया एजेंसी रॉ के लोग भी मौजूद रहेंगे. एक अंदाजे के मुताबिक इनकी तादाद नब्बे हजार से ज्यादा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay