एडवांस्ड सर्च

कोरोना संकट पर राहुल बोले- लोगों का डर हटाए सरकार, आर्थिक मदद समय की मांग

कोरोना संकट और लॉकडाउन के बीच आज कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मीडिया से बात की. राहुल गांधी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रेस को संबोधित किया.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 08 May 2020
कोरोना संकट पर राहुल बोले- लोगों का डर हटाए सरकार, आर्थिक मदद समय की मांग कांग्रेस नेता राहुल गांधी (फोटो: PTI)

  • कोरोना संकट पर राहुल गांधी की प्रेस कॉन्फ्रेंस
  • मजदूरों को आर्थिक मदद दे केंद्र सरकार: राहुल

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार सुबह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीडिया से बात की. इस दौरान राहुल गांधी ने कोरोना वायरस के लगातार बढ़ते संकट और लॉकडाउन की वजह से आ रही मुश्किलों पर बात की. कांग्रेस लगातार मोदी सरकार के फैसलों और नीति पर सवाल उठाती आई है. कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने कहा कि सरकार को लॉकडाउन खोलने की नीति जनता को बतानी चाहिए और मजदूरों के खाते में सीधे पैसा डालना चाहिए. राहुल गांधी ने कहा कि भारत में कोरोना की रफ्तार जून-जुलाई के बाद भी तेज हो सकती है.

लॉकडाउन को लेकर सच्चाई बताए सरकार

प्रेस कॉन्फ्रेंस में राहुल गांधी ने कहा कि कांग्रेस में हमने सरकार को कुछ सुझाव देने का फैसला किया है. राहुल बोले कि अब वक्त आ गया है जब छोटे कारोबारियों के लिए राहत पैकेज का ऐलान किया जाए और लॉकडाउन को खोलने की तैयारी की जाए.

राहुल गांधी ने कहा कि अब सरकार को बताना चाहिए कि क्या हो रहा है, जनता को बताना होगा कि आखिर लॉकडाउन कब खुलेगा? लोगों को बताना जरूरी है कि किस परिस्थिति में लॉकडाउन खोला जाएगा. लॉकडाउन के दौरान काफी कुछ बदल गया है, अभी ये महामारी काफी खतरनाक हो गई है.

केंद्र को राज्य-जिला स्तर को साथ लेकर चलना होगा

कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्य सरकार और जिला प्रशासन को केंद्र सरकार का हिस्सेदार बनाना चाहिए और रणनीति पर साथ काम करना चाहिए. राहुल बोले कि अब लॉकडाउन को खोलने की जरूरत है, किसी भी अगर कारोबार वाले से पूछें तो सप्लाई चेन को लेकर दिक्कत सामने आएगी. प्रवासी मजदूर, गरीब, छोटे कारोबारियों को आज पैसे की जरूरत है, वरना नौकरी जाने की सुनामी आ जाएगी.

प्रवासी मजदूरों की मदद को लेकर राहुल गांधी ने कहा कि न्याय योजना की मदद से लोगों के हाथ में पैसा देना शुरू करें, इससे 65 हजार करोड़ का खर्च आएगा. अगर आप दिहाड़ी मजदूर हैं, तो आपको जरूरत है कि लोगों को मौका दिया जाए. मजदूरों को जाने को लेकर केंद्र सरकार को राज्य से बात करने होगी.

अर्थव्यवस्था को लेकर रिस्क लेना जरूरी

कांग्रेस नेता राहुल ने कहा कि सरकार सोच रही है कि अगर तेजी से पैसा खर्च करना शुरू कर देंगे, तो रुपये की हालत खराब हो जाएगी. लेकिन सरकार को इस वक्त रिस्क लेना होगा, क्योंकि जमीनी स्तर पर पैसा पहुंचाना जरूरी है. सरकार जितना सोच रही है, उतना हमारा समय बर्बाद हो रहा है.

राहुल गांधी बोले कि मुख्यमंत्रियों ने हमें अपने राज्य की हालत बताई, केंद्र से पैसा नहीं मिल रहा है. अभी देश में सामान्य हालात नहीं हैं, इस लड़ाई को जिले तक ले जाना जरूरी है. अगर पीएमओ में ये लड़ाई लड़ी जाएगी, तो लड़ाई हारी जाएगी. ये बीमारी सिर्फ एक फीसदी के लिए खतरनाक है, बाकी 99 फीसदी के मन में डर का माहौल है.

कांग्रेस नेता राहुल बोले कि आज कोई RSS, कांग्रेस या बीजेपी का नहीं है, हर किसी को एक हिन्दुस्तानी की तरह खड़ा होना पड़ेगा और लड़ना होगा. आज हर किसी को डर के माहौल को खत्म करना है, वरना लॉकडाउन नहीं हटेगा.

राहुल गांधी को इससे पहले गुरुवार को मीडिया से बात करनी थी, लेकिन विशाखापट्टनम में हुए गैस रिसाव के हादसे की वजह से उन्होंने प्रेस कॉन्फ्रेंस टाल दी थी. लेकिन अब आज वह सरकार पर सवाल उठाने को पूरी तरह से तैयार हैं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कांग्रेस नेता राहुल गांधी इससे पहले भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए मीडिया से मुखातिब हो चुके हैं और कोरोना-लॉकडाउन के मसले पर एक्सपर्ट्स से भी बात कर चुके हैं. राहुल गांधी ने बीते दिनों रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन, नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी से अर्थव्यवस्था के मसले पर बात की थी.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay