एडवांस्ड सर्च

पाकिस्तान के आम चुनाव में किंग मेकर साबित होगा हाफिज सईद?

पाकिस्तान की सत्ता पर अपनी पार्टी को क़ाबिज़ करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मियां नवाज़ शरीफ दस साल की जेल काटने लंदन से पाकिस्तान पहुंच जाते हैं. ये जानते हुए भी कि उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाएगा

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर/ शम्स ताहिर खान नई दिल्ली, 21 July 2018
पाकिस्तान के आम चुनाव में किंग मेकर साबित होगा हाफिज सईद? पाकिस्तान चुनाव में नवाज़ शरीफ और इमरान खान की पार्टी के बीच मुख्य मुकाबला है

पाकिस्तान की सत्ता पर अपनी पार्टी को क़ाबिज़ करने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मियां नवाज़ शरीफ दस साल की जेल काटने लंदन से पाकिस्तान पहुंच जाते हैं. ये जानते हुए भी कि उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाएगा. और ऐसा ही होता है. अब मियां नवाज के जेल जाने का उन्हें कितना फायदा या नुकसना होता है. इमरान खान की पार्टी इसे चुनाव में कितना भुना पाती है. बेनजीर भुट्टो के बेटे बिलावल भुट्टो की पार्टी की दावेदारी कितनी मजबूत होती है. या फिर इस उथल-पुथल का फायदा अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी हाफिज सईद कितना उठा पाता है. इसी पर अब सबकी नज़र है. 25 जुलाई का चुनावी नतीजा ये तय करेगा कि पाकिस्तान कहीं आतंकिस्तान तो नहीं बन जाएगा.

नेताओं की ज़ुबानी जंग

सालों-साल तानाशाही की आंच में सिंकने और सिसकने के बाद अब पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान जम्हूरियत के सबसे बड़े त्यौहार की तैयारी में है. 25 जुलाई को पाकिस्तान में आम चुनाव है. वहां के सियासतदानों की अंधाधुंध ज़ुबानी रस्साकशी उसी त्यौहार की तैयारी है.

कुर्सी के लिए हर दावपेंच

इस चुनाव में ज़ोरआजमाइश कर रही हर पार्टी और हर सियासी नुमाइंदे की अपनी ढफली और अपना राग है. कोई सामने वाले को मुल्क के लिए नासूर करार देकर उसके खिलाफ़ होने वाली कार्रवाई को नए पाकिस्तान का आगाज़ बता रहा है. कोई खुद पर होने वाली कार्रवाई को सियासी साज़िश करार दे रहा है. तो कोई इन सबसे अलग पानी पी-पी कर हिंदुस्तान, अमेरिका और इज़रायल को कोस रहा है. ऐसे ही बोल-वचनों से मुल्क की सबसे ऊंची कुर्सी पर काबिज़ होने का ख्वाब देख रहा है.

नवाज को 10 साल की जेल

दरअसल, चुनाव से ऐन पहले पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ और उनकी बेटी मरियम शरीफ़ को अदालत से भ्रष्टाचार के मामले में मिली दस साल जेल की सज़ा ने इस सियासी दंगल में नया रंग घोल दिया है. मियां नवाज़ की हालत आने वाले दिनों में क्या होगी, ये तो ख़ैर चनावी नतीजा ही बताएगा.

नया सियासी दांव

हालांकि शरीफ़ और उनकी सियासी पार्टी अदालत के फ़ैसले पर साज़िश का मुलम्मा चढ़ा कर और सज़ा के फ़ौरन बाद कहीं दुबकने की बजाय पाकिस्तान आकर अपने विरोधियों के खिलाफ़ हमदर्दी का नया सियासी दांव खेल दिया है. तो वहीं पूर्व क्रिकेटर और तहरीके इंसाफ पार्टी के चीफ़ इमरान ख़ान भी मियां नवाज के जेल जाने से खुद को प्रधानमंत्री की कुर्सी के बेहद करीब महसूस कर रहे हैं.

PM बनने का ख्वाब देख रहा है आतंकी हाफिज सईद

लेकिन इन सबसे अलग इंटरनेशनल आतंकवादी हाफ़िज़ सईद पाकिस्तान के इस उथल-पुथल भरे माहौल का भरपूर फायदा उठाने में लगा है. पाकिस्तान की सभी प्रमुख सियासी पार्टियों के बीच आपसी रस्साकशी को देखते हुए हाफिज सईद को लगता है कि इस बार पाकिस्तानी अवाम सीधे नहीं तो पिछले दरवाजे से ही उसे प्रधानमंत्री के दफ्तर और फिर कुर्सी तक जरूर ले जाएगी. और उस कुर्सी तक पहुंचने के लिए वो पूरा दम लगा कर भारत के खिलाफ चीख रहा है. ज़हर उगल रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay