एडवांस्ड सर्च

2025 तक भारत-पाक के बीच हो सकती है परमाणु जंग, मारे जाएंगे 10 करोड़ लोग!

2025 तक तो भारत और पाकिस्तान के पास परमाणु बमों की ताकत और भी ज़्यादा हो चुकी होगी. तो सोचिए ये युद्ध कितना भयानक होगा. मुमकिन है कि युद्ध को भयानक कहने के लिए आप हों ही नहीं.

Advertisement
aajtak.in
शम्स ताहिर खान / परवेज़ सागर नई दिल्ली, 04 October 2019
2025 तक भारत-पाक के बीच हो सकती है परमाणु जंग, मारे जाएंगे 10 करोड़ लोग! पाकिस्तान कश्मीर पर भारत के फैसले से बौखलाया हुआ है

  • भारत-पाक के सभी बड़े शहर होंगे निशाने पर
  • भारत-पाक पर शोध करने वाली अमेरिकी एजेंसी का दावा
  • रटगर्स विश्वविद्यालय की रिपोर्ट में जताई गई युद्ध की आशंका

जंग कोई बच्चों का खेल नहीं होता ना जंग कभी भावनाओं में बह कर लड़ी जाती है. जंग के लिए पूरी तैयारी की जाती है. दुश्मन की ताकत और कमजोरी से लेकर अपनी तैयारी को देखना पड़ता है. फिर जंग के मैदान में आमने-सामने जब दोनों देश एटम बम से लैस हों तो खतरा हजार गुना बढ़ जाता है. मगर इन तमाम चीजों से हट कर अमेरिका की एक यूनिवर्सिटी ने भारत-पाकिस्तान के मौजूदा तल्ख रिश्तों को देखते हुए ये अंदेशा जताया है कि आने वाले वक्त में दोनों के रिश्ते और खराब होंगे और 2025 तक दोनों देशों के बीच जंग हो सकती है.

भारत-पाक तनाव पर विशेषज्ञों की रिपोर्ट

दुनिया की अलग अलग हिस्सों और देशों में युद्ध के हालात पर रिसर्च करने वाली रटगर्स यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने भारत पाकिस्तान के बीच मौजूदा तनाव को देखते हुए एक रिपोर्ट तैयार की. इस रिपोर्ट को तैयार करने वाले शोधकर्ताओं में वो लोग शामिल हैं जो कई बड़ी अमेरिकी एजेंसियों का हिस्सा रहे हैं. इसीलिए जानकार इस रिपोर्ट को गंभीरता से ले रहे हैं.

जापान पर परमाणु हमला भूली नहीं दुनिया

अमेरिकी एजेंसी की इस रिपोर्ट को मानें तो इन दिनों भारत और पाकिस्तान के बीच तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है. जिसके नतीजे अच्छे नहीं हो सकते. सिर्फ दो बम गिरे थे जापान पर. एक हिरोशिमा, दूसरा नागासाकी और पूरा का पूरा देश ज़मींदोज़ हो गया. महीनों जापान के आसामान पर ये काला धुआं छाया रहा. और जब ये छटा तो सामने तबाही थी. लाशों के ढेर थे. बदहवासी का आलम था. और टूटे घरों के अंबार थे.

बर्बादी का मंजर और लाखों लाशें

करीब ढाई लाख लोग बेमौत मारे गए. ये सरकारी आंकड़े थे. असल तादाद तो इससे भी कहीं ज़्यादा थी. 60 साल लगे जापान जैसे विकसित देश को इस बर्बादी के बाद दोबारा खड़ा होने में. दशकों तक अपाहिज बच्चे पैदा हुए. आज भी वहां बच्चे अमूमन दमे और कैंसर की बीमारे से जूझ रहे हैं. आजतक जापान में रह रहकर भूकंप आते हैं.

अब बहुत खौफनाक होगी जंग!

तो बताइये, क्या ये धरती एक और परमाणु युद्ध के लिए तैयार है. वो भी हिरोशिमा या नागासाकी पर हुए परमाणु बम जैसे नहीं उनसे भी कई गुना ज़्यादा शक्तिशाली परमाणु बम. जो एक दो की तादाद में नहीं हैं. दोनों देशों के परमाणु बम मिला लिए जाएं तो करीब तीन सौ ऐसे परमाणु बम हैं. 2025 तक तो भारत और पाकिस्तान के पास परमाणु बमों की ताकत और भी ज़्यादा हो चुकी होगी. तो सोचिए ये युद्ध कितना भयानक होगा. मुमकिन है कि युद्ध को भयानक कहने के लिए आप हों ही नहीं.

इस जंग में मारे जाएंगे 10 करोड़ लोग

जम्मू-कश्मीर के मसले पर दोनों देश जिस तरह आगे बढ़ रहे हैं. उससे दुनिया को ऐसी भयंकर आशंका है कि दोनों देशों में भयंकर परमाणु युद्ध कभी भी छिड़ सकता है. पाकिस्तानी नेताओं के अलावा खुद इमरान खान जम्मू कश्‍मीर से आर्टिकल 370 के हटने के बाद भारत को परमाणु युद्ध की धमकी दे चुके हैं. और अब ये दावा अमेरिका की रटगर्स विश्वविद्यालय की एक रिपोर्ट भी कर रही है. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत और पाक के बीच परमाणु युद्ध की प्रबल संभावना है और अगर ये परमाणु जंग हुई तो दुनिया में 100 मिलियन यानी 10 करोड़ लोगों की मौत होगी.

PAK आतंकी कर सकते हैं हमला

हमलेइस रिपोर्ट के मुताबिक जम्मू-कश्मीर के मसले की वजह से पाकिस्तान में बैठे आतंकवादी भारत में हमला तेज कर सकते हैं. जिनका निशाना भारत की संसद तक हो सकता है और 2025 में ये मामला पूरी तरह चरम पर जा सकता है. भारत-पाकिस्तान पर जवाबी कार्रवाई करेगा. जिसकी क्षमता पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर यानी PoK तक होगी. यही लड़ाई दोनों देशों में सबसे बड़े युद्ध की वजह बनेगी.

20 से 35 फीसदी घट जाएगी सूरज की रोशनी

इस स्टडी में कहा गया है कि भारत और पाकिस्तान के पास अभी करीब 150 परमाणु हथियार हैं. लेकिन 2025 तक इनकी गिनती 200 को पार कर जाएगी. यानी दोनों देशों के पास परमाणु हथियारों की तादाद 400 से 500 हो सकती है. और ऐसे में परमाणु जंग अगर छिड़ती है, तो करीब 10 करोड़ लोगों की जान जा सकती है. अगर ऐसा हुआ तो परमाणु हथियारों के इस्तेमाल से 16 से 36 टन के बीच ब्लैक कार्बन फिज़ा में घुलेगा. जिसकी वजह से सूरज से होने वाली रेडिएशन ब्लॉक हो जाएगी. और सूरज से धरती को मिलने वाली रोशनी 20 से 35 फीसदी तक कम हो जाएगी. इस गिरावट की सजह से धरती दो से पांच डिग्री सेल्सियस तक ठंडी हो जाएगी. और असर दुनियाभर के मौसम पर भी पड़ेगा.

30 फीसदी गिर जाएगा तापमान

इतना ही नहीं मौसम का निज़ाम ही बदल जाएगा. तापमान इतना ज़्यादा गिर जाएगा कि वैसे हालात बन जाएंगे जैसे हिमयुग के दौरान हुआ करते थे. शहरों में लगी आग से निकलने वाले धुंए की वजह से 30 फीसदी तक तापमान में गिरावट होगी और इसका असर फसलों पर भी पड़ेगा. ठंडे तापमान और सूरज की कम रोशनी की वजह से अल्ट्रावॉयलेट रेडिएशन ओज़ोन की परत भी कम करने लगेंगी. रिपोर्ट को लिखने वाले एलन रोबॉक कहते हैं कि जम्मू-कश्मीर को लेकर जिस तरह लड़ाई जारी है और हर महीने बॉर्डर पर लोगों की जान जा रही है. उसकी वजह से ये जंग बहुत जल्द चरम पर पहुंच सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay