एडवांस्ड सर्च

आतंकी मसूद अजहर को लेकर बदले चीन के सुर, अब नहीं देगा साथ

अब मसूद अज़हर को लेकर चीन की राय अचानक बदल गई. अब चीन मसूद अज़हर को नहीं बचाएगा. अब उसने संयुक्त राष्ट्र में मसूद का मसला जल्द हल होने की बात कही है. चीन की इस बात ने पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ा दी हैं

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर नई दिल्ली, 19 March 2019
आतंकी मसूद अजहर को लेकर बदले चीन के सुर, अब नहीं देगा साथ आतंकी मसूद अजहर भारत के खिलाफ कई हमलों में शामिल है

पुलवामा हमले के बाद जिस तरह पूरी दुनिया आतंकवाद के खिलाफ भारत के साथ खड़ी दिखी उससे उम्मीद जगी थी कि आतंकी सरगना मसूद अजहर को लेकर चीन की राय अब तो बदलेगी. संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में वो मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किए जाने का समर्थन करेगा. ताकि मसूद अजहर पर शिकंजा पूरी तरह से कसा जा सके. मगर पिछले तीन बार की तरह चौथी बार भी चीन से धोखा ही मिला.

लेकिन अब मसूद अज़हर को लेकर चीन की राय अचानक बदल गई. अब चीन मसूद अज़हर को नहीं बचाएगा. अब उसने संयुक्त राष्ट्र में मसूद का मसला जल्द हल होने की बात कही है. चीन ने अचानक ये कह कर पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ा दी हैं कि मसूद अज़हर को लेकर वो भारत की चिंता समझता है और मसूद का मसला अभी खत्म नहीं हुआ है. भारत में चीन के राजदूत लुओ झाहुई ने भरोसा दिलाया है कि यूएन में मसूद अजहर का मामला जल्द निपटेगा. उन्होंने कहा कि मसूद का मामला अभी टेक्निकल होल्ड पर रखा गया है.

ये वही चीन है जो अब तक चार बार संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में वीटो का इस्तेमाल कर मसूद अजहर को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित किए जाने से रोकता आया है. मगर अब चौतरफा दबाव के बाद पहली बार चीन ने मसूद के बारे में इस तरह की बातें कही हैं.

पिछले 16 सालों में हिंदुस्तान में हुए बीस से ज्यादा आतंकी हमलों का गुनहगार, सैकड़ों बेगुनाहों का क़ातिल और दुनिया के सबसे घाघ आतंकवादियों में से एक ये है मौलाना मसूद अज़हर. वही मसूद अज़हर जिसके संगठन जैश-ए-मोहम्मद को 18 साल पहले 2001 में ही संयुक्त राष्ट्र संघ ने आतंकवादी संगठन करार दे दिया. मगर कमाल देखिए कि वही संयुक्त राष्ट्र 18 साल बाद भी ये फैसला नहीं कर पा रहा है कि जिसका संगठन आतंकवादी है उस संगठन के मुखिया को वो आतंकवादी करार दे या ना दे?

भारत में एक बड़ी पुरानी कहावत है. एक हाथ दे. एक हाथ ले. मगर ये कहावत चीन के रास्ते पाकिस्तान पहुंचते पहुंचते बदलने लगती है. पाकिस्तान के साथ चीन इस कहावत को थोड़ा बदलकर इस्तेमाल करता है. यानी एक हाथ दे और कई हाथ ले. हिंदुस्तानी कहावत के इस चीनी स्टाइल को थोड़ा आसान लफ्ज़ों में समझिए. इसका मतलब ये है कि आतंक के मामले में तो चीन दुनिया के पटल पर पाकिस्तान की बेइज़्ज़ती होने से बचा लेगा. मगर पाकिस्तान को उसके इस एहसान का बदला चुकाना होगा. और ये बदला थोड़ा चीनी स्टाइल में होगा.

चीनी स्टाइल का बदला होता क्या है ये हम आपको एक एक करके समझाएंगे. मगर पहले ये जानिए चीन ने अंतर्राष्ट्रीय बिरादरी के सामने कैसे रख ली पाकिस्तान की लाज. चीन ने फिर की आतंकी मसूद अज़हर की मदद. यूएन में ग्लोबल आतंकी घोषित होने में डाला रोड़ा. मसूद अजहर पर 10 साल में चीन ने चौथी बार ये चाल चली है. और मसूद अजहर को बचाने के लिए वीटो लगाया.

पिछले 18 सालों से.. यानी 2001 के संसद हमलों से 2019 के पुलवामा हमले तक. पाकिस्तान का ये खूंखार आतंकी एक के बाद एक भारत को कई ज़ख्म दे चुका है. दुनिया के तमाम देशों ने माना की जैश का ये सरगना पूरी इंसानियत के लिए खतरा है. लिहाज़ा इसे ग्लोबल टेरेरिस्ट घोषित किया जाना चाहिए ताकि आतंक पर नकेल कसी जा सके. मगर पिछले 10 सालों से चीन आतंक के इस सरगना की ढाल बना बैठा है. और जब-जब भारत ने इसे ग्लोबल टेररिस्ट लिस्ट में डालने की कोशिश. तब-तब चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अड़ंगा डाल दिया.

हालांकि पुलवामा हमले के बाद इस बार 27 फरवरी को ये प्रस्ताव फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका लाया था. 10 से ज़्यादा देशों ने प्रस्ताव का समर्थन किया. तय किया गया कि अगर सुरक्षा परिषद के किसी सदस्य को इस पर ऐतराज़ ना हुआ तो. जैश के सरगना मसूद अज़हर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित कर दिया जाएगा. इस लिहाज़ से प्रस्ताव की समय सीमा बुधवार यानी 13 मार्च रात 12:30 बजे खत्म हो रही थी. लगा इस बार तो मसूद को उसके किए की सज़ा मिल ही जाएगी. मगर प्रस्ताव की समय सीमा खत्म होने से ठीक एक घंटे पहले. चीन ने इस पर अड़ंगा लगा दिया.

चीन ने कहा कि वो पहले भी कह चुका है कि बिना सबूतों के कार्रवाई ग़लत है. जिस पर अमेरिका ने चीन से गुजारिश की थी कि वो समझदारी से काम लें. क्योंकि भारत-पाक में शांति के लिए मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करना जरूरी है. चीन के अड़ंगे के बाद मसूद अज़हर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित किए जाने की एक और कोशिश नाकाम हो गई. हालांकि इस प्रस्ताव पर अड़ंगे के बाद सुरक्षा परिषद के सदस्यों ने चीन को साफ चेतावनी दी है कि अगर वो मसूद अज़हर को लेकर अपने रुख को नहीं बदलेगा तो कार्रवाई के दूसरे विकल्प भी खुले हैं.

कुल मिलाकर पिछले 10 सालों में चीन मसूद अजहर को बचाने के लिए चार बार चाल चल चुका है. 2009 में भारत खुद ये प्रस्ताव लेकर आया था. वहीं 2016 में भारत ने पी-3 यानी अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने मिलकर प्रस्ताव पेश किया था. 2017 में पी-3 देशों ने ही ये प्रस्ताव पेश किया था. और इस बार भी पुलवामा आतंकी हमले के बाद ये प्रस्ताव फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका लेकर आया.

हालांकि इस बार चीन ने इस प्रस्ताव को गिराने के लिए वीटो पॉवर का इस्तेमाल नहीं किया है, बल्कि सूत्रों के मुताबिक चीन ने प्रस्ताव को ‘टेक्निकल होल्ड’ पर रखा है. टेक्निकल होल्ड का मतलब है कि उसे प्रस्ताव पर विचार करने के लिए कुछ और वक्त चाहिए. इस लिहाज़ से ऐसा नहीं है कि मसूद अज़हर के सिर पर लटकी अंतर्राष्ट्रीय आतंकी घोषित होने की तलवार हट गई है. नतीजा जो भी हो लेकिन अब मसूद अजहर को लेकर चीन का नया बयान उम्मीद जगाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay