एडवांस्ड सर्च

हरियाणा पुलिस की ये करतूत देख दंग रह गए लोग, वायरल वीडियो ने खोली पोल

गनीमत है कि ये वीडियो कहीं से लीक हो गया. पुलिस की थू-थू हो गई. एक्शन तो लेना ही था. सो आदर्श नगर पुलिस थाने के 5 लोग जांच में दोषी पाए गए. दो हेड कॉन्स्टेबल सस्पेंड हुए हैं. और तीन एसपीओ बर्ख़ास्त कर दिए गए.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर नई दिल्ली, 29 May 2019
हरियाणा पुलिस की ये करतूत देख दंग रह गए लोग, वायरल वीडियो ने खोली पोल इस मामले में आरोपी पुलिसवालों को निलंबित कर दिया गया है

हरियाणा पुलिस की एक और करतूत सामने आई है. एक महिला को बिना किसी संगीन जुर्म के रात के वक्त हिरासत में लेकर थाने लाया जाता है. इसके बाद थाने में 4-5 पुलिसवालों की मौजूदगी में एक पुलिसवाला महिला को बेल्ट से पीटता है. हालांकि कानून कहता है कि किसी महिला को पूछताछ या गिरफ्तारी के लिए रात के वक्त थाने में नहीं रखा जा सकता.

आइये आपको एक कहानी सुनाते हैं. ये कहानी कुछ पुलिसवालों की है. जो बेहद बहादुर. बेहद मुस्तैद हैं. इतने कि अगर वो किसी महिला को किसी के साथ पार्क में घूमते हुए भी देख लेते हैं. तो सीधे पुलिस स्टेशन में उठा लाते हैं. फिर उसे कुछ इस तरह थर्ड डिग्री टॉर्चर करते हैं कि महिला को बीच में खड़ा कर देते हैं और सारे पुलिसवाले उसके इर्द गिर्द खड़े होकर उसे बेल्ट से पीटने लगते थे.

हरियाणा के फरीदाबाद की पुलिस की पूरी कहानी आपको बताएंगे. दरअसल, इस घटना का वीडियो वायरल हो गया. जो किसी पुलिसवाले ने ही बनाया था. उसमें देखा जा सकता है कि कैसे महिला को थर्ड डिग्री टॉर्चर दिया गया. वीडियो फरीदाबाद में बल्लभगढ़ के आदर्श नगर थाने का है. नाम आदर्श नगर का थाना है. मगर ये करतूक आदर्शों वाली कतई नहीं है. 5 से 6 पुलिस वाले एक महिला की बेल्ट से पिटाई करते दिख रहे हैं.

यही नहीं बल्कि मज़े ले लेकर हंस रहे हैं. मानों महिला को पीटकर ये अपना टाइम पास कर रहे हैं. पुलिसवाले महिला से गुस्सा नजर आ रहे हैं. सूत्रों से पता चला है कि ये महिला पार्क में अपने किसी साथी के साथ रात के वक्त में घूम रही थी. तभी इसे गश्त कर रही है पुलिस ने पकड़ लिया. महिला का साथी तो भाग गया, मगर महिला को उन पुलिस वालों ने जबरन पकड़ लिया.

बस फिर क्या था. पुलिसवाले तमाम कायदे कानूनों को ताख़ पर रखकर रात के वक्त महिला को थाने ले आए और उससे लगातार तीन घंटे या फिर उससे भी ज़्यादा देर तक पूछताछ करते रहे. उससे उसके साथी का नंबर मांगते रहे. वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि पुलिसवाले बोल रहे हैं कि तीन घंटे से घुमा रही है. महिला बोलती है कि मैं नंबर बता दूंगी, मारो मत मुझे. इस दौरान एक पुलिस वाला बेल्ट से उसे पीटे जा रहा है. पुलिस वाला बोल रहा कि क्या में इसे नीचे लेटा दूं. खिलाड़ी है ये पूरी एक नंबर की खिलाड़ी.

जब थाने में सबके सामने ये दरिंदगी चल रही थी तो इनमें से ही एक पुलिसवाला चोरी छुपे वीडियो भी बना रहा था. वही वीडियो अब वायरल हो रहा है. बताया जा रहा है कि बल्लभगढ़ के आदर्श नगर पुलिस थाने का ये वीडियो महीनों पुराना है. लेकिन वायरल 26 मई के आस-पास होना बताया जा रहा है.

करीब 4 मिनट के वीडियो को देखकर जो समझ आया उसके मुताबिक इस महिला को पुलिसवाले पार्क में बैठने की वजह से पीट रहे हैं. जबकि ऐसा कुछ भी ग़ैर-कानूनी नहीं. जिसके लिए किसी औरत को उठाकर थाने लाया जाए. आसान शिकार देखकर पूरा पुलिस थाना अपने दिमाग की भभकती फ्रस्ट्रेशन उस औरत पर उतार दे.

लेकिन हमारे यहां पुलिस कानून के नहीं अपने मैनुअल के हिसाब से चलती है. और उन पुलिसवालों का मैनुअल सिखाता है कि अगर देर रात पार्क में अकेली औरत दिख गई तो ये मौक़ा किसी हाल में छोड़ना नहीं चाहिए. क़ानून-वानून कि भले धज्जियां उड़ जाए.

महिलाओं को लेकर क्या है कानून

महिला से पूछताछ या गिरफ्तारी को लेकर कानून कहता है कि किसी भी महिला को शाम छह बजे के बाद और सुबह छह बजे के पहले गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है. उसे हाउस-अरेस्ट किया जा सकता है मगर वो भी सिर्फ महिला पुलिस ही कर सकती है. दिन ढलने के बाद महिला से पूछताछ करना है तो पुलिस को ही उसके घर जाना होगा. महिला की जांच एक महिला पुलिसकर्मी ही कर सकती है. कोई पुरुष पुलिसकर्मी उसे हाथ नहीं लगा सकता. बिना कोर्ट के आदेश पर पुलिस महिला को हथकड़ी भी नहीं लगा सकती है. अगर कोई मेडिकल जांच होनी है तो महिला अपने किसी विश्वासपात्र को अपने साथ रख सकती है. गिरफ्तारी के बाद महिला को जिस पुलिस स्टेशन ले जाया जा रहा है वहां महिला पुलिस अधिकारी का होना जरूरी है. /p>

ये तो हालांकि कानून के नियम कायदे हैं. लेकिन यहां हो वही रहा है जो सदियों से होता आया है. एक कमज़ोर महिला है और ताक़तवर पुलिस थाना है. और अंदर कुछ कुंठित पुलिस वाले हैं. एक के हाथ में बेल्ट है. जिसे वो महिला पर बरसाने के लिए बेताब हैं. और रह रहकर अपने थर्ड डिग्री दिमाग़ का मुज़ाहरा पेश कर रहा है. पूरा पुलिस थाना मिलकर महिला को उसके साथी का मोबाइल नंबर याद दिलाने की कोशिश कर रहा है.

महिला बार-बार कोशिश कर रही है लेकिन दस अंक का मोबाइल नंबर नहीं बता पा रही है. एक पुलिस वाला उसे बार बार लिटाने की धमकी भी दे रहा है. मतलब अगर बेल्ट की धुनाई से बात नहीं बनी तो उसे लिटा कर मारा जाएगा. क्या पता मारा भी गया हो. वो इस वीडियो में नहीं है. क्योंकि वीडियो तो सिर्फ़ चार मिनट कुछ सेकंड का है.

वो तो गनीमत है कि ये वीडियो कहीं से लीक हो गया. पुलिस की थू-थू हो गई. एक्शन तो लेना ही था. सो आदर्श नगर पुलिस थाने के 5 लोग दोषी पाए गए. दो हेड कॉन्स्टेबल सस्पेंड हुए हैं. और तीन एसपीओ बर्ख़ास्त कर दिए गए हैं. जहां ये सारा परपंच चल रहा था. उस आदर्श नगर थाने से महज़ 100 मीटर की दूरी पर एक महिला पुलिस थाना भी था. यानी यही पूछताछ महिला पुलिसकर्मी भी कर सकती थीं. लेकिन ये सवाल ही बेमानी है कि उन्हें ख़बर क्यों नहीं दी गई.

बहरहाल वीडियो सामने आ चुका है. एक्शन भी लिया जा चुका है. आगे जांच चल रही है. लेकिन सवाल यही है कि ऐसी खूंखार पुलिसिया रातों के और कितने वीडियो होंगे. जो अब तक लीक नहीं हुए. और आज भी पार्कों में शिकार बदस्तूर जारी होगा. पुलिस वालों को क़ानून की भाषा समझनी समझानी चाहिए. इससे पार्कों में देर रातों को बैठी औरतों और लड़की की ज़िंदगी आसान होगी.

और अब वापस आते हैं उस कहानी पर जहां से हमने शुरूआत की थी. तो अब तक अगर आप कहानी समझ चुके हों तो अपने बच्चे-बच्चियों को भी समझा दें कि पुलिस अंकल उतने अच्छे भी नहीं होते. जितना उन्हें किताबों में पढ़ाए जाते हैं. लिहाज़ा पार्क में खेलने या बैठने से पहले उन्हें कई बार सोचने की सलाह दें. बाकी सब ठीक है..

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay