एडवांस्ड सर्च

दिल्ली हिंसाः अब खुलेगा उपद्रवियों का राज, खूनी साजिश होगी बेनकाब!

दिल्ली में दंगों की साजिश डिकोड करने में जुटी दिल्ली पुलिस के हाथ कई ऐसे मोहरे लगे हैं, जो CAA के समर्थन या विरोध के नाम पर न सिर्फ दंगे भड़काने और दिल्ली में आग लगाने की साजिश में शामिल हो सकते हैं बल्कि जिन पर पूरा शक है कि दिल्ली पुलिस के कॉन्स्टेबल रतनलाल और IB कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या में भी शामिल रहे.

Advertisement
aajtak.in
सुप्रतिम बनर्जी / परवेज़ सागर नई दिल्ली, 16 March 2020
दिल्ली हिंसाः अब खुलेगा उपद्रवियों का राज, खूनी साजिश होगी बेनकाब! दिल्ली में भड़की हिंसा में 50 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है

  • दिल्ली पुलिस के हाथ लगे हैं कई अहम मोहरे लगे हैं
  • अंकित की हत्या कर शव को नाले में फेंक दिया था

दिल्ली के दंगों ने कई लोगों की जान ले ली और बहुत से परिवारों को बर्बाद कर दिया. लेकिन अब इन दंगों के गुज़र जाने के बाद हिसाब की घड़ी आन पड़ी है. वो हिसाब, जो कानून हर गुनहगार से लेता है. और तब तक लेता है, जब तक गुनहगार अपने अंजाम तक ना पहुंच जाए. कुछ इसी कड़ी में दिल्ली पुलिस ने जबसे दंगों की साज़िश डी-कोड करने की शुरुआत की है, तो ना सिर्फ़ एक से बढ़ कर एक साज़िश की परतें खुल रही हैं, बल्कि वो चेहरे भी बेनक़ाब हो रहे हैं, जिन्होंने नक़ाब के पीछे छुप कर अमन को ग्रहण लगाने की कोशिश की.

दिल्ली में दंगों की साजिश डिकोड करने में जुटी दिल्ली पुलिस के हाथ कई ऐसे मोहरे लगे हैं, जो CAA के समर्थन या विरोध के नाम पर न सिर्फ दंगे भड़काने और दिल्ली में आग लगाने की साजिश में शामिल हो सकते हैं बल्कि जिन पर पूरा शक है कि दिल्ली पुलिस के कॉन्स्टेबल रतनलाल और IB कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या में भी शामिल रहे. कॉन्स्टेबल रतनलाल की हत्या के मामले में पुलिस ने गाजियाबाद के रहने वाले दानिश को गिरफ्तार किया है.. दानिश इस मामले का 7वां आरोपी है. वहीं अंकित शर्मा की हत्या के मामले में मोमिन उर्फ सलमान नाम के एक शख्स को दबोचा है.

दरअसल, हसीन उर्फ मोमिन उर्फ मुल्ला उर्फ नन्हे उर्फ सलमान. पांच नामों से जाने जानेवाले इस शख्स पर आरोप है कि इसने अंकित शर्मा पर चाकुओं से कई वार किए. पुलिस के मुताबिक व्हाट्सएप ग्रुप से जुड़े नन्हें और कुछ और लड़के 25 फरवरी की दोपहर घर से निकलकर चांद बाग इलाके में आकर इकट्ठे हुए और इसके बाद उन्होंने अंकित शर्मा की हत्या कर उसके शव को नाले में फेंक दिया था. बताया जा रहा है कि जिस वक्त अंकित की हत्या की गई वो उस वक्त एक पक्ष को समझा रहा था तभी उसे निशाना बनाया गया.

ये ज़रूर पढ़ेंः हिंसा की आग में झुलसी दिल्ली, कहां से आया 'मौत का सामान'?

दानिश और सलमान के अलावा दिल्ली पुलिस ने विवादित संगठन पीएफआई के दो और सदस्यों को गिरफ्तार किया था. पीएफआई की दिल्ली यूनिट का अध्यक्ष परवेज़ और सेक्रेटरी इलियास पहले ही गिरफ्तार कर लिए गए थे. पुलिस ने इन दोनों के खिलाफ हिंसा की साजिश रचने और फंड जुटाने के सबूत मिलने का दावा किया था. पुलिस के मुताबिक माहौल सुधरने पर दोनों आरोपी CAA विरोधी प्रदर्शनों में शामिल हो गए थे. मगर कमजोर केस की वजह से अदालत ने दोनों को जमानत दे दी.

दरअसल, दिल्ली हिंसा में पीएफआई का हाथ इसके बारे में दिल्ली पुलिस को तब पता चला जब त्रिलोकपुरी इलाके से पीएफआई के एक सदस्य दानिश अली को गिरफ्तार किया गया था. पूछताछ में उसने पीएफआई के सेक्रेटरी और दिल्ली यूनिट के अध्यक्ष की संलिप्ता के बारे में भी बताया.

पुलिस ने दानिश के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है. जिसमें धारा 147/148/149/120 B के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है. जांच में पता चला है कि दानिश शाहीन बाग में खाना और पैसे देता था. दंगों में भी दानिश ने पैसे और बाहर से लोग मुहैया कराए. दानिश पीएफआई में काउंटर इंटेलिजेंस का हेड था. काउंटर इंटेलिजेंस का काम जांच अफसरों को निशाना बनाना है.

Must Read: कैमरों में कैद हिंसा का सच, पत्थरबाजों के साथ दिखी थी दिल्ली पुलिस

ये वहीं पीएफआई है, जिसे यूपी सरकार उत्तर प्रदेश में सीएए के दौरान हुई हिंसा के लिए जिम्मेदार बता रही थी. दानिश पर सोशल मीडिया के जरिए सीएए को लेकर भड़काऊ बातें लिखने का भी आरोप हैं. वहीं दानिश की मां का कहना है कि उनका बेटा एक साल से पीएफआई से जुड़ा था. और शाहीन बाग में वो प्रदर्शनकारियों को खाना देने जाता था. लेकिन साजिश से उसका कोई कनेक्शन नहीं है.

पीएफआई का कहना है कि दिल्ली पुलिस उसके सदस्यों को फर्जी केस में फंसा रही है. और कोर्ट में कुछ भी साबित नहीं हो पाएगा. उधर, संसद में भी दिल्ली हिंसा का मामला गूंजा. राज्यसभा में कांग्रेस सांसद कपिल सिब्बल ने दिल्ली पुलिस पर दंगाइयों का साथ देने का आरोप मढ़ दिया. दिल्ली हिंसा के मामले में अब तक 712 एफआईआर दर्ज की जा चुकी हैं. आरोपियों से पूछताछ और जांच में ED और NIA जैसी एजेंसियां भी उसका साथ दे रही हैं. सियासी आरोप जो भी लगें, दिल्ली पुलिस को उसके मुखिया यानी गृहमंत्री अमित शाह से लोकसभा में शाबाशी मिल ही चुकी है.

इतना ही नहीं, दिल्ली हिंसा की साजिश और सीएए के खिलाफ हो रहे प्रदर्शन के तार अब आईएसआई तक पहुंच गए हैं. दिल्ली पुलिस ने जामिया इलाके से एक कश्मीरी दंपति को गिरफ्तार किया है. जो राजधानी में रह कर आईएस के आतंकी एजेंडे को आगे बढ़ा रहा था. बताया जा रहा है कि दोनों आईएस के अफगानिस्तान बेस के इस्लामिक स्टेट खुरासान मॉड्यूल से जुड़े हैं और वो लगातार संपर्क में थे. दोनों के घर से 4 मोबाइल फोन, एक लैपटॉप, एक हार्ड डिस्क के साथ-साथ कई भड़काऊ सामाग्री मिली है. आरोप है कि आईएस की ऑनलाइन मैगजीन पर भी दोनों सक्रिय रहे हैं.

जांच में पता चला है कि ये दंपत्ति कई फर्जी अकाउंट सोशल मीडिया में चला रहा था. जहां से सीएए को लेकर भड़काऊ पोस्ट किए जाते थे. दोनों भड़काने वाले बैनर-पोस्टर, लिटेरेचर फैलाकर लोगों को सड़क पर उतरने के लिए उकसाते थे. मामले की गंभीरता को देखते हुए एनआईए की टीम भी अब इनसे पूछताछ कर रही है. जिसमें महिलाएं भी शामिल हैं.

आम आदमी पार्टी से निष्कासित पार्षद ताहिर हुसैन पर भी दिल्ली पुलिस का शिकंजा लगातार कसता जा रहा है. दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच टीम ने ताहिर के भाई शाह आलम को भी गिरफ्तार कर लिया है. शाह आलम पर चांद बाग में हुई हिंसा में शामिल होने का आरोप है. पुलिस सूत्रों के मुताबिक ताहिर का भाई हिंसा के वक़्त ताहिर के घर की छत पर मौजूद था. जहां से पेट्रोल बम फेंकने और पत्थरबाजी की तस्वीरें सामने आईं थी. वहीं बाद में पुलिस को हिंसा से जुड़ी काफी सामग्री मिली थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay