एडवांस्ड सर्च

Advertisement

महिलाओं की हत्या कर जमीन में आधा दफनाता, शव को देख करता तंत्र साधना

कुख्यात सीरियल किलर अहमद सुरदजी का जन्म 10 जनवरी 1949 इंडोनेशिया में हुआ था. उसे नसीब कलेवांग या दत्तुक मर्गीग्ह के नाम से भी जाना जाता है. इस कुख्यात किलर ने स्वीकार किया था कि उसने 1986 से 1997 के बीच 42 महिलाओं को अपना शिकार बनाया है.
महिलाओं की हत्या कर जमीन में आधा दफनाता, शव को देख करता तंत्र साधना सीरियल किलर अहमद सुरदजी की खौफनाक दास्तान
मुकेश कुमार गजेंद्रनई दिल्ली, 20 August 2017

मानवीय इतिहास में सीरियल किलिंग की घटनाएं काफी पुरानी हैं. 'सीरियल किलर' ठग बहराम से लेकर निठारी के सुरेंद्र कोली तक अनेकों नाम हमारे सामने हैं. aajtak.in ऐसी घटनाओं पर एक सीरीज पेश कर रहा है. इस कड़ी में हम बताने जा रहे हैं इंडोनेशिया के कुख्यात सीरियल किलर अहमद सुरदजी के बारे में, जिसने 42 से अधिक महिलाओं को शिकार बनाया था.

 

सीरियल किलर अहमद सुरदजी की खौफनाक दास्तान

1- कुख्यात सीरियल किलर अहमद सुरदजी का जन्म 10 जनवरी 1949 इंडोनेशिया में हुआ था. उसे नसीब कलेवांग या दत्तुक मर्गीग्ह के नाम से भी जाना जाता है.

2- इस कुख्यात सीरियल किलर ने खुद स्वीकार किया था कि उसने 1986 से 1997 के बीच 42 महिलाओं को अपना शिकार बनाया है.

3- अहमद सुरदजी महिलाओं की हत्या के बाद उनके शव को जमीन में आधा दफना देता था. शरीर का आधा हिस्सा जमीन से उपर रहता था.

4- वह शव का मुंह अपने घर की तरफ रखता था, ताकि उससे उसे शक्ति मिले. उसके बाद तांत्रिक गतिविधियां किया करता था.

5- सुरदजी एक तांत्रिक था, इसलिए कई बार महिलाएं अपने पति या ब्वॉयफ्रेंड को वश में करने के लिए उसकी मदद लेती थी.

6- तांत्रिक महिलाओं से पैसे लेता और उनके घर जाकर तांत्रिक अनुष्ठान किया करता था. इसी दौरान मौका देखकर उनकी हत्या कर देता था.

7- उसके निशाने पर 11 से 30 साल की लड़कियां और महिलाएं रहा करती थी. वह उन्हें अपनी जाल में फंसाकर भी कई बार मार देता था.

8- 24 अप्रैल 1997 की बात है. 21 साल की केमाला देवी एक रिक्शा से सुरदजी के घर के लिए गईं. उसके बाद तीन दिन तक उसका पता नहीं चला.

9- तीन दिन बाद महिला का शव सुरदजी के घर के पास गन्ने के खेत में बरामद हुआ. लोगों ने महिला का शव निकालकर पुलिस को सूचना दी.

10- पुलिस ने सुरदजी से महिला के बारे में पूछताछ की, तो उसने मना कर दिया. लेकिन उसके घर से महिला का पर्स और ब्रेसलेट बरामद हुआ.

11- 30 अप्रैल, 1997 को पुलिस ने अहमद सुरदजी को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ के दौरान उसने जो खुलासा किया उसे सुनकर हर किसी के होश उड़ गए.

12- इसके बाद उसकी तीन पत्नियों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. 10 जुलाई 2008 को अहमद सुरदजी को फांसी पर लटका दिया गया.

 

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay