एडवांस्ड सर्च

साइको किलर: फिल्मी अंदाज में कर चुका है 20 लोगों का कत्ल!

बिहार के वैशाली जिले से पुलिस ने एक साइको किलर को गिरफ्तार किया है. इस का कहना है कि गैंग्स ऑफ वासेपुर फिल्म की कहानी उसी के जीवन से प्रेरित है. यहां तक कि फिल्म में दिखाया गया 32 बार गोली मारने वाला सीन भी उसने हकीकत में किया है.

Advertisement
Sahitya Aajtak 2018
सुजीत झा [Edited By: मुकेश कुमार]पटना, 25 July 2016
साइको किलर: फिल्मी अंदाज में कर चुका है 20 लोगों का कत्ल! सीरियल किलर अविनाश श्रीवास्तव उर्फ अमित

बिहार के वैशाली जिले से पुलिस ने एक साइको किलर को गिरफ्तार किया है. इसका कहना है कि गैंग्स ऑफ वासेपुर फिल्म की कहानी उसी के जीवन से प्रेरित है. यहां तक कि फिल्म में दिखाया गया 32 बार गोली मारने वाला सीन भी उसने हकीकत में किया है. यह साइको किलर उच्च शिक्षा प्राप्त कर चुका है. इंफोसिस का कर्मचारी रह चुका है. बिहार के एक पूर्व विधायक का बेटा है, लेकिन अब तक 20 हत्या करने का दावा करता है. इसका नाम है- अविनाश श्रीवास्तव उर्फ अमित.

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली के जामिया मिलिया विश्वविद्यालय से एमसीए की डिग्री लेने वाले अविनाश ने पिता की हत्या का बदला लेने के लिए जुर्म की दुनिया में कदम रखा. उसके पिता लल्लन श्रीवास्तव आरजेडी के पूर्व विधान पार्षद थे. 2002 में कुछ लोगों ने उनकी हत्या कर दी. इसके बाद अविनाश ने एक-एक करके पांच में से चार हत्यारों को मार दिया. यहां तक कि उसने पिता के हत्या के आरोपियों का केस लड़ रहे वकील को भी गोलियों से भून डाला.

फिल्मी अंदाज में मारा था गोली
2003 में अविनाश ने पिता की हत्या के मुख्य आरोपी मोईन खान को फिल्मी अंदाज में 32 बार गोलियों से भूना. हालांकि उसका कहना है कि फिल्म के क्लाइमैक्स में 32 बार गोली मारने वाला सीन उसी के वारदात की नकल थी. इसको पुलिस ने एक बैंक में चोरी को दौरान गिरफ्तार किया. वह वैशाली के महुआ इलाके के सेंट्रल बैंक से करोड़ो रूपए चंपत करने की फिराक में गेट को गैस कटर से काट ही रहा था. इसके खिलाफ हत्या के अलावा डकैती के भी केस दर्ज हैं.

कई वारदातों का किया खुलासा
अमित ने पटना में हत्या के कई ऐसे मामले को अंजाम देने का खुलासा किया जो बिहार पुलिस को लिए चुनौती बने हुए थे. पटना के गया घाट में एक ज्वैलर्स के 2 किलो सोने की लूट में इसी का हाथ था. इसके अलावा आरोपी ने पटना में ही एक दूसरी लूट के दौरान एक ज्वैलर की गोली मारकर हत्या कर दी थी. पूछताछ के दौरान उसने कहा कि, 'ये सब करके आप अपना और मेरा टाइम खराब मत कीजिए. गूगल में मेरा नाम टाइप करके देख लो. मेरा सारा रिकॉर्ड मिल जाएगा.'

ब्लू कलर को मानता है लकी
पुलिस ने इंटरनेट में इसके नाम से जानकारी निकालनी शुरू की तो वो खुद हैरान रह गए. कई अखबारों में उसकी वारदातों की घटनाएं दर्ज थीं. हालांकि ये अपराधी, साइको किलर के साथ-साथ अंधविश्वासी भी है. वो हमेशा नीले कपड़े और नीले जूते पहलकर ही वारदात को अंजाम देता था. उसका मानना है कि ब्लू उसके लिए लकी कलर है. 2011 से लेकर अब तक ये कई बार पुलिस के हत्थे आ चुका है, लेकिन हर बार किसी ना किसी वजह से जमानत पर रिहा हो जाता था.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay