एडवांस्ड सर्च

...'नमस्ते बापू' कहकर गोडसे ने महात्मा गांधी के सीने में उतार दी थीं 3 गोलियां

उस दिन बापू, आभा और मनु के कंधों पर हाथ रखकर प्रार्थना सभा में शामिल होने के लिए मंच की तरफ आगे बढ़ रहे थे, तभी अचानक उनके सामने नाथूराम विनायक गोडसे आ गया. गोडसे ने अपने सामने गांधी जी को देखकर हाथ जोड़ लिए और फिर...

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर नई दिल्ली, 02 October 2019
...'नमस्ते बापू' कहकर गोडसे ने महात्मा गांधी के सीने में उतार दी थीं 3 गोलियां पूरा देश गांधीजी की 150वीं जयंती मना रहा है (फाइल फोटो- इंडिया टुडे)

बापू, महात्मा गांधी, गांधीजी यानी मोहनदास करमचंद गांधी. उनकी 150वीं जयंती पर आज पूरा राष्ट्र उन्हें याद कर रहा है. गांधीजी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. उन्होंने पूरा जीवन लोगों को अहिंसा का पाठ पढ़ाया. अंग्रेजों को भी उनके सामने झुकना पड़ा. देश आजाद हो चुका था. भारत के लोग खुश थे. देश में लोकतंत्र का परचम लहराने लगा था. लेकिन ये खुशी उस वक्त राष्ट्रीय शोक में बदल गई, जब 30 जनवरी 1948 को नई दिल्ली के बिड़ला भवन में गांधीजी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. हम आपको विस्तार से बता रहे हैं वो पूरा घटनाक्रम, जो भारत के इतिहास में एक दुखद अध्याय बन कर रह गया.

प्रार्थना सभा के लिए निकले थे बापू

वो 30 जनवरी 1948 का दिन था. गांधीजी ने सरदार पटेल को बातचीत के लिए शाम 4 बजे मिलने के लिए बुलाया था. पटेल अपनी बेटी मणिबेन के साथ तय समय पर गांधीजी से मिलने के लिए पहुंच गए थे. बिड़ला भवन में हर शाम 5 बजे प्रार्थना सभा का आयोजन किया जाता था. इस सभा में गांधी जी जब भी दिल्ली में होते तो शामिल होना नहीं भूलते थे. शाम के 5 बज चुके थे. गांधीजी सरदार पटेल के साथ बैठक में व्यस्त थे. तभी अचानक सवा 5 बजे गांधी जी की नजर घड़ी पर गई और उन्हें याद आया कि प्रार्थना के लिए वक्त निकलता जा रहा है.

नमस्ते कहकर मिला था नाथूराम गोडसे

बैठक समाप्त कर बापूजी आभा और मनु के कंधों पर हाथ रखकर प्रार्थना सभा में शामिल होने के लिए मंच की तरफ आगे बढ़ रहे थे, तभी अचानक उनके सामने नाथूराम विनायक गोडसे आ गया. गोडसे ने अपने सामने गांधी जी को देखकर हाथ जोड़ लिया और कहा- 'नमस्ते बापू!', तभी बापूजी के साथ चल रही मनु ने कहा- भैया, सामने से हट जाओ बापू को जाने दो, पहले से ही देर हो चुकी है.

बापू पर चलाई थीं एक बाद एक 3 गोलियां

तभी अचानक गोडसे ने मनु को धक्‍का दे दिया और अपने हाथों में छुपा रखी छोटी बैरेटा पिस्टल गांधीजी के सामने तान दी, और देखते-ही-देखते गांधीजी के सीने पर एक के बाद एक तीन गोलियां दाग दीं. दो गोलियां बापू के शरीर से होती हुईं बाहर निकल गईं, जबकि एक गोली उनके शरीर में ही फंसकर रह गई, और गांधीजी वहीं पर गिर पड़े.

नाथूराम गोडसे का कबूलनामा

गांधीजी हत्या के बाद नाथूराम ने अपने बयान में स्वीकारा था कि गांधी की हत्या केवल हमने की है. नाथूराम ने बाद में दूसरे आरोपी के तौर पर अपने छोटे भाई गोपाल गोडसे का नाम लिया था. गोडसे ने अपना जुर्म कबूल करते हुए कहा था, 'शुक्रवार की शाम 4.50 बजे मैं बिड़ला भवन के गेट पर पहुंच गया, मैं चार-पांच लोगों के झुंड के बीच में घुसकर सिक्योरिटी को झांसा देते हुए अंदर जाने में सफल रहा. मैंने भीड़ में अपने आप को छिपाए रखा, ताकि किसी को मुझ पर शक न हो.'

गोडसे ने कहा- 2 गोली चलाना चाहता था

गोडसे ने बताया था कि 'शाम 5.10 बजे मैंने गांधी जी को अपने कमरे से निकलकर प्रार्थना सभा की ओर जाते हुए देखा. गांधीजी के अगल-बगल दो लड़कियां थीं, जिसके कंधे पर वो हाथ रखकर चल रहे थे. मैंने अपने सामने गांधी को आते देख सबसे पहले उनके महान कामों के लिए हाथ जोड़कर प्रणाम किया और दोनों लड़कियों को उनसे अलग कर गोलियां चली दीं. मैं दो ही गोली चलाने वाला था. लेकिन तीसरी भी चल गई और गांधी जी वहीं पर गिर पड़े.'

खुद पुलिस-पुलिस चिल्लाया था गोडसे

गिरफ्तारी के बाद नाथूराम गोडसे ने कहा, 'जब हमने एक के बाद एक तीन गोलियां गांधीजी पर चली दीं तो गांधीजी के आसपास खड़े लोग दूर भाग गए. मैंने सरेंडर के लिए दोनों हाथ भी ऊपर कर दिए, उसके बाद कोई हिम्मत करके मेरे पास नहीं आ रहा था, पुलिसवाले भी दूर से ही देख रहे थे. मैं खुद पुलिस-पुलिस चिल्लाया, करीब 5-6 मिनट के बाद एक व्यक्ति मेरे पास आया. उसके बाद मेरे सामने भीड़ जमा हो गई और लोग मुझे पीटने लगे.

आग की तरह फैल गई थी बापू की हत्या की ख़बर

महात्‍मा गांधी की हत्या की खबर चंद मिनटों में आग की तरह फैल गई. बिड़ला हाउस में ही गांधी के पार्थिव शरीर को ढककर रखा गया था. तभी वहां उनके सबसे छोटे बेटे देवदास गांधी पहुंच गए और उन्होंने बापू के पार्थिव शरीर से कपड़े को हटा दिया, उनका कहना था कि अहिंसा के पुजारी के साथ हुई हिंसा को दुनिया देखे.

उसी दिन दर्ज हो गई थी हत्या की FIR

बापू की हत्या की एफआईआर भी उसी दिन यानी 30 जनवरी को दिल्ली के तुगलक रोड थाने में दर्ज की गई. एफआईआर की कॉपी उर्दू में लिखी गई थी, जिसमें पूरी वारदात के बारे में बताया गया था. दिल्ली के तुगलक रोड के रिकॉर्ड रूम में आज भी वो FIR के पन्ने संभाल कर रखी गई है.

8 लोगों के खिलाफ हत्या का आरोप

गांधीजी की हत्या के बाद इस मुकदमे में नाथूराम गोडसे समेत 8 लोगों को आरोपी बनाया गया था. जिसमें से दिगम्बर बड़गे को सरकारी गवाह बनने के कारण बरी कर दिया गया. वहीं शंकर किस्तैया को उच्च न्यायालय से माफी मिल गई. जबकि वीर सावरकर के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिलने की वजह से बरी कर दिया गया. बाकी बचे 5 अभियुक्तों में से गोपाल गोडसे, मदनलाल पाहवा और विष्णु रामकृष्ण करकरे को आजीवन कारावास हुआ था. जबकि नाथूराम गोडसे और नारायण आप्टे को 15 नवंबर 1949 को फांसी पर लटका दिया गया.

पहले भी हुई थी हत्या की कोशिश

बता दें, 30 जनवरी 1948 से पहले भी नाथूराम गोडसे ने बापू की हत्या के लिए मई 1934 और सितंबर 1944 में भी नाकाम कोशिश की थी. अपनी साजिश में नाकाम होने पर वह अपने दोस्त नारायण आप्टे के साथ वापस मुंबई चला गया. इन दोनों ने दत्तात्रय परचुरे और गंगाधर दंडवते के साथ मिलकर बैरेटा नामक पिस्टल खरीदी. 29 जनवरी 1948 को वापस दोनों फिर दिल्ली पहुंचे और रेलवे स्टेशन के रिटायरिंग रूम नंबर 6 में ठहरे थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay