एडवांस्ड सर्च

गुरुग्रामः बच्चों के खिलाफ होने वाले अपराधों में 25 फीसदी का इजाफा

बच्चों के खिलाफ होने वाले जुर्म के मामलों में दिल्ली से सटे हरियाणा के गुरुग्राम में पुलिस बेबस और लाचार नजर आती है. कई मामले तो ऐसे भी होते हैं, जो थानों में दर्ज ही नहीं होते. ऐसे मामलों में बढ़ोत्तरी परेशानी का सबब है.

Advertisement
तनसीम हैदर [Edited by: परवेज़ सागर]गुरुग्राम, 13 August 2018
गुरुग्रामः बच्चों के खिलाफ होने वाले अपराधों में 25 फीसदी का इजाफा गुरुग्राम में बच्चे अपराधियों का सॉफ्ट टारगेट बन रहे हैं

हरियाणा के गुरुग्राम में कानून की सख्ती के बाद भी बच्चियां सुरक्षित नहीं हैं. हर महीने औसतन दस से अधिक नाबालिगों के साथ दुष्कर्म या छेड़खानी की शिकायत सामने आ रही हैं. ये मामले वे हैं जो थानों में दर्ज होते हैं. जबकि कई कई शिकायतें सीधे बाल कल्याण समिति के पास भी पहुंचती हैं. कई मामले कहीं दर्ज ही नहीं होते.

गुरुग्राम की चाइल्ड वेलफेयर कमेटी की चेयरपर्सन शकुंतला ढूल ने बताया कि पुलिस अक्सर ऐसे मामलों में खानापूर्ति करती है. भले ही केंद्र से लेकर प्रदेश सरकार पॉक्सो एक्ट के तहत तत्काल कार्रवाई किए जाने पर जोर दे रही है. लेकिन इसके बाद भी इसका खास असर नहीं दिख रहा है.

तीन साल तक की बच्चियों के साथ दुष्कर्म करने के प्रयास के मामले सामने आ रहे हैं. अधिकतर मामलों में पड़ोसी या कोई जानकार ही आरोपी के रूप में सामने आता है. कई मामले सामने नहीं आते. लोकलाज इसके पीछे बहुत बड़ा कारण है. हालांकि इसके लिए लगातार लोगों को जागरुक किया जा रहा है. फिर बहुत ही कम लोग सामने आते हैं.

अगर किसी परिवार की बच्ची के साथ गलत होता है, उसका जीना मुश्किल हो जाता है. आसपास के लोग उसके बारे में चर्चा शुरू कर देते हैं. जिस परिवार से नहीं बनती है, उस परिवार के लोग शादी में भी अड़चन पैदा करा देते हैं. शंकूतला ढूल की माने तो गुरुग्राम में 40 देशों के लोग रहते हैं.

शंकुतला अपील करते हुए कहती हैं कि बच्चों के साथ दरिंदगी करने वाले लोगों के खिलाफ या ससपिसियस लोगों की जानकरी चाइल्ड हेल्प लाइन नंबर पर जरूर दें. शहर में ऐसे मामलों में करीब 25 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. ऐसे में पुलिस की कार्यप्रणाली भी सवालों के घेरे में है.

सबसे ज्यादा हैरानी की बात ये है कि कई मामलों में तो पुलिस दर्ज ही नहीं करती ऐसे में जरूरत है कि समाज भी ऐसे मामलों पर अंकुश लगाने के लिए जिला प्रशासन की मदद करें.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay