एडवांस्ड सर्च

जब किसी को दी जाती है फांसी, तो जेल में रुक जाते हैं सारे काम, नहीं होता कोई मूवमेंट

जब किसी सजा पाए दोषी कैदी को फांसी दी जाती है तो वह कार्रवाई तब तक अंजाम तक नहीं पहुंचती, जब तक लाश फंदे से नीचे नहीं उतार ली जाए. फांसी की प्रकिया के दौरान पूरी जेल के अंदर हर काम रोक दिया जाता है.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर नई दिल्ली, 13 December 2019
जब किसी को दी जाती है फांसी, तो जेल में रुक जाते हैं सारे काम, नहीं होता कोई मूवमेंट फांसी की प्रक्रिया के दौरान जेल में वक्त थम सा जाता है (फोटो- GettyImages)

निर्भया कांड के चारों गुनाहगारों की मौत की उलटी गिनती शुरू हो चुकी है. हर देशवासी को इंताजर है, उस ख़बर का, जब चारों दरिंदों की मौत की ख़बर तिहाड़ जेल से बाहर आएगी. चारों दोषी मुकेश, विनय और अक्षय पिछले सात सालों से तिहाड़ में बंद हैं. चौथे दोषी पवन को भी मंडोली जेल से तिहाड़ जेल शिफ्ट किया गया है. अब फांसी की तैयारी चल रही है. आपको बता दें कि जब किसी को फांसी दी जाती है, तो जेल में वक्त थम सा जाता है.

आसान नहीं फांसी की प्रकिया

अदालती फरमान के बाद भी फांसी की प्रकिया आसान नहीं होती. जेल मैनुअल के अनुसार कई अहम बातों का ख्याल रखा जाता है. जैसे कैदी को अलग रखे जाना. उसके स्वास्थ का ख्याल रखना. 24 घंटे उसकी निगरानी करना ताकि वो खुद को कोई नुकसान ना पहुंचा सके. लेकिन जेल में सबसे अहम होता है, फांसी की प्रक्रिया के दौरान वक्त का रुक जाना.

फांसी के दौरान जेल में रुक जाता है वक्त

दरअसल, किसी भी गुनाहगार को फांसी के फंदे तक ले जाना भी एक लंबी प्रकिया है. जिसके लिए कई अहम नियम कानून हैं. जिनका पालन सख्ती के साथ किया जाता है. इसमें सबसे अहम है कि जब किसी भी सजा पाए दोषी कैदी को फांसी दी जाती है तो वह कार्रवाई तब तक अंजाम तक नहीं पहुंचती, जब तक लाश फंदे से नीचे नहीं उतार ली जाए. फांसी की प्रकिया के दौरान पूरी जेल के अंदर हर काम रोक दिया जाता है. हर कैदी अपने सेल और अपने बैरक में होता है. यहां तक कि जेल में कोई मूवमेंट नहीं होता.

आसान शब्दों में मानें तो जैसे जेल में वक्त थम सा जाता है. हर तरफ सन्नाटा और खामोशी पसर जाती है. दरअसल, ये सब जेल मैनुअल का हिस्सा है. लेकिन जैसे ही डॉक्टर कैदी को मृत घोषित करता है. लाश फंदे से उतार ली जाती है. और फांसी की प्रकिया खत्म होती है तो जेल में दोबारा सारे काम शुरू हो जाते हैं. जेल का जीवन फिर चलने लगता है.

दोषियों को फांसी, निर्भया को इंसाफ

क्या अपने देश में कभी चार लोगों को एक साथ फांसी दी गई है? फांसी देने से पहले क्या होता है. फांसी घर या फांसी कोठी में क्या होता है. फांसी के बाद क्या होता है. फांसी का गवाह कौन-कौन बनता है. ऐसे सैकड़ों सवाल हैं फांसी को लेकर जिनके जवाब हर कोई जानना चाहता है.

और ये सारे सवाल इस वक्त चार लोगों की वजह से उठ रहे हैं, जिनके नाम हैं मुकेश, पवन, अक्षय, विनय. निर्भया के ये वो चार गुनहगार हैं, जिनके हिस्से में मौत की सजा आई है. मौत से बचने के इनके सारे कानूनी दरवाजे अब बंद हो चुके हैं. सिर्फ एक रहम का दरवाजा खुला था जिसकी अर्जी ऱाष्ट्रपति के पास है. लेकिन रहम की उम्मीद ना के बराबर है. राष्ट्रपति भवन से कभी भी दया याचिका खारिज हो सकती है. और जैसे ही ऐसा होता है. इन चारों के नाम पटियाला हाउस कोर्ट से ब्लैक वारंट जारी कर दिया जाएगा. ब्लैक वारंट यानी मौत का आखिरी पैग़ाम.

क्या होता है फार्म 42 यानी ब्लैक वारंट?

ब्लैक वारंट जारी होते ही आजाद हिंदुस्तान में फांसी पाने वाले ये 58वें. 59वें, 60वें और 61वें गुनहगार होंगे. देश में पहली फांसी महात्मा गांधी के हत्यारे नाथुराम गोडसे को हुई थी जबकि आखिरी यानी 57वीं फांसी 2015 में याकूब मेमन को दी गई थी.

बैरक से काफी दूर है फांसी कोठी

1945 में तिहाड़ जेल बनना शुरू हुआ था. 13 साल बाद 1958 में तिहाड़ बन कर तैयार हुआ. और कैदी वहां आना शुरू हो गए. अंग्रेजों के ज़माने में ही तिहाड़ के नक्शे में फांसी घर का भी नक्शा बनाया गया था. उसी नक्शे के हिसाब से फांसी घर बनाया गया. जिसे अब फांसी कोठी कहते हैं. ये फांसी कोठी तिहाड़ के जेल नंबर तीन में कैदियों के बैरक से बहुत दूर बिल्कुल अलग-थलग सुनसान जगह पर है.

डेथ सेल में अकेला रहता है कैदी

ब्लैक वारंट पर दस्तखत होने के बाद फांसी की तारीख और वक्त जेल प्रशासन के सुझाव और तैयारी को देख कर अदालत तय करती है. इसके बाद सबसे पहला काम होता है, फांसी के लिए जल्लाद ढूंढना और दूसरा काम फंदे की रस्सी का इंतजाम करना. हालांकि देश में पिछली तीन फांसी जो कसाब, अफजल गुरू और याकूब मेमन को दी गई वो तीनों फांसी बगैर पेशेवर जल्लाद के दी गई. तीनों ही मामले में लिवर पुलिस वाले ने ही खींचा था.

जानें क्या है फांसी कोठी और डेथ सेल

जेल नंबर तीन में जिस बिल्डिंग में फांसी कोठी है, उसी बिल्डिंग में कुल 16 डेथ सेल हैं. डेथ सेल यानी वो जगह जहां सिर्फ उन्हीं कैदियों को रखा जाता है, जिन्हें मौत की सज़ा मिली है. डेथ सेल में कैदी को अकेला रखा जाता है. 24 घंटे में सिर्फ आधे घंटे के लिए उसे बाहर निकाला जाता है टहलने के लिए.

तमिलनाडु स्पेशल पुलिस करती है निगरानी

डेथ सेल की पहरेदारी तमिलनाडु स्पेशल पुलिस करती है. दो-दो घंटे की शिफ्ट में इनका काम सिर्फ और सिर्फ मौत की सजा पाए कैदियों पर नजरें रखने का होता है. ताकि वो खुदकुशी करने की कोशिश ना करे. इसीलिए डेथ सेल के कैदियों को बाकी और चीज तो छोड़िए पायजामे का नाड़ा तक पहनने नहीं दिया जाता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay