एडवांस्ड सर्च

दिल्ली में रोज़ कम से कम 5 लड़कियों से होता है बलात्कार

आंकड़ों के लिहाज़ से दिल्ली में रेप की वारदातों में बेशक मामूली कमी आई हो, लेकिन दिल्ली में अब भी हर रोज कम से कम 5 लड़कियां के साथ बलात्कार हो ही जाता है. जी हां, हर रोज कम से कम 5 लड़कियों के साथ. और ये हम नहीं बल्कि दिल्ली पुलिस के आंकड़े कह रहे हैं, जो उसने इस साल की एनुअल प्रेस कांफ्रेंस में ये कहते हुए जारी की है कि अब दिल्ली में महिलाएं सुरक्षित हैं.

Advertisement
चिराग गोठी [Edited by: परवेज़ सागर]नई दिल्ली, 11 January 2018
दिल्ली में रोज़ कम से कम 5 लड़कियों से होता है बलात्कार ज्यादातर मामलों में आरोपी पीड़िता के जानकार होते हैं

आंकड़ों के लिहाज़ से दिल्ली में रेप की वारदातों में बेशक मामूली कमी आई हो, लेकिन दिल्ली में अब भी हर रोज कम से कम 5 लड़कियां के साथ बलात्कार हो ही जाता है. जी हां, हर रोज कम से कम 5 लड़कियों के साथ. और ये हम नहीं बल्कि दिल्ली पुलिस के आंकड़े कह रहे हैं, जो उसने इस साल की एनुअल प्रेस कांफ्रेंस में ये कहते हुए जारी की है कि अब दिल्ली में महिलाएं सुरक्षित हैं.

दिल्ली पुलिस के आंकड़ों पर अगर नजर डालें तो दिल्ली में रोज़ कम से कम 5 लड़कियों से बलात्कार होता है. हैरानी की बात ये है कि रेप के 96 फ़ीसदी घटनाओं में जानकार ही गुनहगार होते हैं. यही वजह है कि रेपिस्ट में सबसे ज़्यादा तादाद 'फैमिली फ्रेंड्स' की है.

कहने को कह सकते हैं कि 2016 के मुकाबले 2017 में रेप, शील भंग और छेड़छाड़ यानी महिलाओं के खिलाफ़ होने वाले जुर्म के मामलों में कमी आई है. लेकिन सच्चाई तो ये है कि पिछले दो सालों में रेप के सिर्फ़ 15 मामले ही कम हुए हैं.

2016 में दिल्ली में 2 हज़ार 64 रेप की वारदातें हुई. जबकि 2017 में 2 हज़ार 49 लड़कियां रेप का शिकार बनीं. ठीक इसी तरह 2016 में शील भंग के 4 हज़ार 35 मामले थे. जबकि पिछले साल उससे कम 3 हज़ार 2 सौ मामले दर्ज हुए2016 में छेड़छाड़ के 894 मामले दर्ज किए गए थे. जबकि पिछले साल छेड़छाड़ के 621 मामले सामने आए हैं.

लेकिन रेप के मामलों का ट्रेंड वही पहले की तरह ही ख़तरनाक है. ख़तरनाक यानी दिल्ली में जितनी लड़कियों या महिलाओं के साथ भी रेप की वारदात होती है, उनमें से 96 फ़ीसदी मामलों में बलात्कारी लड़कियों के जानकार होते हैं, जबकि सिर्फ़ 4 फ़ीसदी लड़कियां अजनबियों का शिकार बनती हैं.

दिल्ली पुलिस की मानें तो दिल्ली में सबसे ज़्यादा 38 फीसदी रेप फैमिली फ्रेंड करते हैं. इसके बाद 19 फ़ीसदी के साथ पड़ोसियों का नंबर आता है. लड़कियों की आबरू लूटने में रिश्तेदार भी पीछे नहीं हैं. 14 फीसदी रेप वही करते हैं. जबकि 4 फ़ीसदी सहकर्मी बलात्कारी निकलते हैं. इस तरह 20 फ़ीसदी बलात्कारी लड़कियों के जानकार होते हैं.

ऐसे में पुलिस महिलाओं को सुरक्षित रखने के चाहे जो भी जतन करें, खुद महिलाओं को भी सजग सतर्क रहने की ज़रूरत है. और घर में जेंडर सेंसेटाइजेशन भी वक्त की मांग है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay