एडवांस्ड सर्च

150 महिलाओं को बनाया था हवस का शिकार, हैवान को मिली उम्रकैद

Sexual harrasment डॉक्टर लैरी नासर पर शुरुआत में सात महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया था. इसके बाद जैसे-जैसे मामला तूल पकड़ता गया, लैरी पर करीब 156 महिलाओं ने आरोप लगाए.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: परवेज़ सागर]नई दिल्ली, 06 February 2019
150 महिलाओं को बनाया था हवस का शिकार, हैवान को मिली उम्रकैद कोर्ट डॉक्टर लैरी को सारी जिंदगी कैद में रखने की सजा सुनाई थी (फाइल फोटो)

लैरी नासर का नाम अमेरिका में लड़कियों के लिए खौफ का दूसरा नाम बन गया था. दरअसल, वो इलाज के नाम पर युवतियों का यौन उत्पीड़न करता था. जब उसे गिरफ्तार किया गया, तब तक वो 150 से ज्यादा लड़कियों को अपना शिकार बना चुका था. जिमनास्टिक से जुड़े पूर्व डॉक्टर लैरी नासर को अमेरिका की एक शीर्ष अदालत ने ताउम्र कैद की सजा सुनाई थी.

बात जनवरी 2018 की है. अमेरिका की अदालत में डॉक्टर लैरी नासर को पेश किया गया. उस पर इल्जाम था कि उसने इलाज के नाम पर कई युवतियों का यौन उत्पीड़न किया है. उसने कई लड़िकयों को जबरन अपनी हवस का शिकार बनाया है. हर किसी की निगाहें पर मिशिगन कोर्ट की जज के फैसले पर थी. भरी अदालत में जज ने फैसला सुनाया. अमेरिका में जिम्नास्टिक से जुड़े डॉक्टर लैरी नासर को जिंदगीभर कैद की सजा सुनाई गई.

इस फैसले के बाद तय हो गया कि अब डॉक्टर लैरी नासर को जीवनभर जेल की सलाखों के पीछे ही रहना होगा. उस पर 150 से अधिक लड़कियों के यौन शोषण का आरोप था. डॉक्टर लैरी नासर की शिकार बनीं 150 से अधिक युवतियों की गवाही के बाद जज रोजमैरी एक्विलीन ने मिशिगन की एक अदालत में कहा, 'मैंने अभी आपके डेथ वारंट पर साइन किया है. आप कभी जेल से बाहर निकलने के हकदार नहीं हैं. आप उतने खतरनाक हैं, जहां तक कोई सोच भी नहीं सकता है.'

जानकारी के मुताबिक, जिमनास्टिक से जुड़े डॉक्टर लैरी नासर पर शुरूआत में सात महिलाओं ने यौन शोषण का आरोप लगाते हुए केस दर्ज कराया था. इसके बाद जैसे-जैसे मामला तूल पकड़ता गया, लैरी पर करीब 156 महिलाओं ने आरोप लगाए. कोर्ट में इस मामले की कार्यवाही करीब सात दिनों तक लगातार चली.

कोर्ट में जज के सामने पीड़िताओं ने बताया कि डॉक्टर लैरी नासर इलाज के नाम पर उनका यौन शोषण किया करते थे. वह अपनी गंदी हरकतों को इलाज का नाम देते थे. इसलिए शुरूआत में कुछ महिलाओं ने इस पर प्रतिक्रिया नहीं दी, लेकिन लगातार शिकार हो रही महिलाओं के बीच ये बात आग की तरह फैल गई.

ओलिंपिक में गोल्ड मेडल विजेता जिम्नास्ट ऐली रेसमन ने कहा, 'तुम इतने घटिया हो. मैं जब भी तुम्हारे बारे में सोचती हूं, इतना गुस्सा आता है कि मैं खुद समझ नहीं पाती हूं. अब तुम्हे महसूस होगा कि तुमने जिन लोगों का उत्पीड़न किया आज वह ताकत बन चुकी हैं. तुम कुछ भी नहीं हो."

सजा सुनने के बाद डॉक्टर लैरी नासर ने कहा कि पिछले सात दिनों से वह महिलाओं का बयान सुनकर अंदर तक दहल गए हैं. इस बात ने उनके दिल को झकझोर दिया है. वह अपने क्लाइंट का अच्छे से इलाज किया करते थे. यही वजह है कि वे बार-बार उनके पास आते थे, लेकिन मीडिया ने मामले को अलग रंग दे दिया.

करीब 156 पीड़ित महिलाओं के बयान दर्ज किए गए. आखिरी बयान देने वाली पीड़िता रैचल डेनहॉलेंडर थीं. उन्होंने सबसे पहले सार्वजनिक रूप से नैसर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था. उन्होंने थाने में उसके खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. 15 साल की उम्र में लैरी ने रैचल को का यौन शोषण किया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay