एडवांस्ड सर्च

मंबईः एक हीरा कारोबारी के कत्ल से जुड़ रहा है इस अभिनेत्री का नाम

हीरा व्यापारी के मर्डर के इस केस से देवोलीना के तार कितने गहरे जुड़े हुए हो सकते हैं. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मुंबई पुलिस देवोलीना से पंत नगर पुलिस स्टेशन में 20 घंटे पूछताछ की.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: परवेज़ सागर]मुंबई, 10 January 2019
मंबईः एक हीरा कारोबारी के कत्ल से जुड़ रहा है इस अभिनेत्री का नाम इस मर्डर केस में पुलिस देवोलीना से 20 घंटे पूछताछ कर चुकी है (फोटो- इंस्टाग्राम)

मुंबई में एक हीरा व्यापारी को 28 नवंबर को अगवा कर लिया जाता है. अगवा किए जाने के सात दिन बाद पांच दिसंबर को उस हीरा व्यापारी की लाश मिलती है. बाद में जब व्य़ापारी के मोबाइल फोन को पुलिस खंगालती है तो उसमें से एक नंबर छोटे पर्दे की बड़ी अदाकारा देवोलीना भट्टाचार्य उर्फ गोपी बहू का निकला. फिर कॉल डिटेल खंगालने पर पता चलता है कि दोनों के बीच लंबी-लंबी बातें हुआ करती थी. इसी के बाद पुलिस गोपी बहू से पूछताछ करने का फैसला करती है.

रिश्तों की उलझी डोर ही को सुलझाने की कोशिश कर रही है मुंबई पुलिस. इस डोर का एक सिरा छोटे पर्दे की गोपी बहू से और दूसरा सिरा मुंबई के मशहूर हीरा व्यापारी राजेश्वर किशोर उदानी से जुड़ता है. जिनकी लाश पिछले महीने मुंबई के पास पनवेल के फॉरेस्ट एरिया में मिली थी. गोपी बहू उर्फ देबोलीना भट्टाचार्य का इस हीरा व्यापारी के मर्डर से ये तार इसलिए जुड़ रहा है क्योंकि मरने से पहले उसने देवोलीना से कई बार और काफी देर देर तक फोन पर बातें की थी.

अब सवाल ये कि आखिर हीरा कारोबारी राजेश्वर किशोर उदानी से टीवी एक्ट्रेस देवोलीना से क्या कनेक्शन और उसके मर्डर केस में क्यों आ रहा है गोपी बहू का नाम. तो इसे सिलसिलेवार ढंग से समझने की कोशिश कीजिए. मुंबई पुलिस के शक़ के घेरे में घिरी देवोलीना भट्टाचार्य टॉप टीवी एक्ट्रेस गोपी बहू के नाम से मशहूर है. देवोलीना छोटे पर्दे के मशहूर सीरियल साथ निभाना साथिया, संवारे सबके सपने प्रीतो और तेरे शहर में जैसे सीरियल में लीड भूमिका निभा चुकी हैं. मगर अब तक टीवी सीरियल के कैमरे के फ्रेम में फिट बैठने वाली देवोलीना मुंबई पुलिस की जांच के फ्रेम में आ गई हैं.

हीरा व्यापारी के मर्डर के इस केस से देवोलीना के तार कितने गहरे जुड़े हुए हो सकते हैं. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मुंबई पुलिस देवोलीना से पंत नगर पुलिस स्टेशन में 20 घंटे पूछताछ कर चुकी हैं.

दरअसल, 57 साल के राजेश्वर उदानी 28 नवंबर को अपने ऑफ़िस से निकलने के बाद लापता हो गए थे. जिसके बाद 5 दिसंबर को पनवेल के जंगलों में उनकी लाश मिली. शव की पहचान होते ही पुलिस ने इस मामले में छोटे पर्दे की मशहूर गोपी बहू देवोलीना भट्टाचार्य. महाराष्ट्र के मंत्री प्रकाश मेहता के पूर्व सचिव और नेता सचिन पवार और मुंबई पुलिस के एक कॉन्स्टेबल दिनेश पवार को गिरफ्तार किया. इन सभी हाई प्रोफाइल लोगों के तार हीरा कारोबारी राजेश्वर उदानी के मर्डर से जुड़े हैं.

मुंबई के हीरा व्यापारी की हत्या का ये पूरा का पूरा मामला किसी फ़िल्म की कहानी कम नहीं. क्योंकि 28 नवंबर को राजेश्वर के लापता होने से लेकर 5 दिसंबर को उनकी लाश मिलने से लेकर तीनों आरोपियों को पकड़ने तक ये मामला बड़ा ही पेचीदा था. जांच की शुरूआत हुई राजेश्वर की गुमशुदगी की रिपोर्ट के साथ. इनवेस्टीगेशन शुरू हुई तो पता चला कि उनका मोबाइल नवी मुंबई के राबाले के आसपास है. फिर अचानक उनके मोबाइल का सिग्नल ग़ायब हो गया. और वो नॉट रीचेब्ल हो गया.

पुलिस ने राजेश्वर के करीबियों से पूछताछ और सीसीटीवी की जांच शुरू की तो पता चला कि 28 नवंबर को राजेश्वर उदानी गाड़ी से पंत नगर मार्केट के पास उतर गए थे. जहां एक दूसरी गाड़ी आई और वो उसमें बैठ गए. गाड़ी बदलने से पहले वो लगातार किसी से फोन पर बात कर रहे थे. इसके बाद 5 दिसंबर को राजेश्वर की लाश पनवेल के जंगलों से मिली. उनके बेटे ने राजेश्वर उदानी के शव की पहचान की. उदानी की हत्या के मामले में पुलिस ने क़रीब दो दर्जन लोगों से पूछताछ की. साथ ही उस गाड़ी की तलाश भी की जिसमें लापता होने से पहले वो बैठे थे.

पुलिस को हीरा व्यापारी राजेश्वर की कार ईस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे पर मिली. और सीसीटीवी कैमरों की जांच से पता चला कि राजेश्वर मुंबई से दूसरी कार में सवार होकर नवी मुंबई की तरफ गए थे. मगर वहां से लौट नहीं पाए और उन्हें पनवेल के जंगलों में मारकर छोड़ दिया गया.

हीरा व्यापारी राजेश्वर उदानी ने ईस्टर्न एक्सप्रेस हाईवे पर अपनी कार क्यों छोड़ी. क्यों वो यहां से किसी और कार में बैठे. उस कार में उनके साथ कौन था. उन्हें कहां ले जाया गया. और उन्हें किसने मौत के घाट उतारा. ये तमाम सवाल के जवाब मिलने बाकी हैं. फिलहाल पुलिस इस मामले को हनीट्रैप का नतीजा मान रही है. इसीलिए बार बार इस मामले में टीवी एक्ट्रेस गोपी बहू देवोलीना भट्टाचार्य का नाम आ रहा है.

कौन है गोपी बहू उर्फ देवोलीना भट्टाचार्य

एक्ट्रेस देवोलीना भट्टाचार्य असम से हैं और सीरियल 'साथ निभाना साथिया' में गोपी बहू का लोकप्रिय किरदार निभा चुकी हैं. इसके अलावा वो 'संवारे सबके सपने प्रीतो' में भी काम कर चुकी हैं. गुवाहाटी में 22 अगस्त 1990 को पैदा होने वाली देवोलीना भट्टाचार्य एक ट्रेन्ड भरतनाट्यम डांसर हैं. साल 2011 से अपने टीवी करियर की शुरुआत करने वाली देवोलीना डांस इंडिया डांस सीजन 2 के ऑडिशन में पहली बार नज़र आई थीं. इसके बाद वह टीवी की दुनिया में 'संवारे सबके सपने प्रीतो' में 'बानी' के किरदार के साथ उतरीं. फिर एक्ट्रेस जिया मानिक के सीरियल से हटने के बाद देवोलीना रातोरात 'साथ निभाना साथिया' के लिए चुन ली गईं. टीवी पर उनकी पहचान इसी सीरियल की मशहूर गोपी बहू की बदौलत बनी.

देवोलीना ने अपने सात साल के टीवी करियर में 'पसंदीदा बहू' के रूप में अपनी छाप छोड़ी है. इस दौरान सीरियल्स में अपने किरदार के लिए देवोलीना ने कई अवार्ड्स भी जीते है. देवोलीना को 2013 में 'आईटीए अवॉर्ड फॉर देश की धड़कन, 2014 में 'स्टार परिवार अवार्ड्स' में 'फेवरेट बहू', 2015 में 'इंडियन टेली अवॉर्ड्स' में बेस्ट एक्ट्रेस, 2016 में 'ज़ी गोल्ड अवार्ड्स' में पॉपुलर बहू ऑन इंडियन टेलीविज़न का अवार्ड जीता था. हाल के दिनों में देवोलीना अपनी कई बोल्ड तस्वीरों की बदौलत इंटरनेट पर काफ़ी लोकप्रिय रही हैं. वहीं हीरा व्यापारी राजेश्वर उडानी मर्डर केस में पुलिस पूछताछ के बाद टीवी की गोपी बहू की मुश्किलें बढा दी हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay