एडवांस्ड सर्च

दाऊद इब्राहिम के गुर्गे मुन्ना झिंगड़ा को भारत को नहीं सौंपेगा थाईलैंड

छोटा राजन पर बैंकॉक में हमला करने वाले दाऊद इब्राहिम के गुर्गे मुन्ना झिंगड़ा का केस थाईलैंड की अदालत में भारतीय जांच एजेंसियों के खिलाफ गया है. पहला केस भारतीय जांच एजेंसियों ने जीता था और साबित कर दिया था कि मुन्ना झिंगड़ा भारतीय नागरिक है, लेकिन उसके बाद ISI ने दाऊद के इशारे पर बैंकॉक की अदालत में उसे पाकिस्तानी नागरिक करार दिया.

Advertisement
aajtak.in
अरविंद ओझा नई दिल्ली, 02 October 2019
दाऊद इब्राहिम के गुर्गे मुन्ना झिंगड़ा को भारत को नहीं सौंपेगा थाईलैंड दाऊद इब्राहिम के गुर्गे मुन्ना झिंगड़ा (फोटो-अरविंद)

  • बैंकॉक की एक कोर्ट ने दाऊद इब्राहिम के गुर्गे मुन्ना झिंगड़ा को पाकिस्तानी माना
  • इससे पहले 8 अगस्त 2018 में भारतीय जांच एजेंसियों ने जीत लिया था यही केस

छोटा राजन पर बैंकॉक में हमला करने वाले दाऊद इब्राहिम के गुर्गे मुन्ना झिंगड़ा का केस थाईलैंड की अदालत में भारतीय जांच एजेंसियों के खिलाफ गया, पहले केस भारतीय जांच एजेंसियों ने जीता था और तब साबित कर दिया था कि मुन्ना झिंगड़ा भारतीय नागरिक है, लेकिन उसके बाद पाकिस्तान खुफिया एजेंसी आईएसआई ने दाऊद के इशारे पर बैंकॉक की अदालत में अपील फाइल की और इस बार अदालत ने उसे पाकिस्तानी नागरिक करार दिया.

सूत्र बताते हैं कि इसके लिए दाऊद ने पानी की तरह पैसा बहाया. 8 अगस्त 2018 में भारतीय जांच एजेंसियों ने पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के तमाम झूठे दावों को अदालत में गलत साबित किया था और केस जीत लिया था.

इसके बाद एक अपील का मौका होता है जिसमें दाऊद इब्राहिम ने जमकर पैसा लगाया और 11 सितंबर 2019 को अदालत ने मुन्ना को पाकिस्तानी नागरिक मान लिया.

भारतीय जांच एजेंसियों को झटका

पिछले 2 साल से बैंकाक की अदालत में दाऊद इब्राहिम के खास गुर्गे सैयद मुद्दसर हुसैन उर्फ मुन्ना झिंगड़ा को लेकर भारतीय जांच एजेंसियों और पाकिस्तान जांच एजेंसियों के बीच खींचतान चल रही थी, जिसमें दाऊद इब्राहिम ने इस बार जमकर पैसा बहाया और केस पाकिस्तान के पक्ष में चला गया. जबकि भारतीय जांच एजेंसी चाहती थी कि मुन्ना झिंगड़ा को भारत डिपोर्ट कर दिया जाए.

सैयद मुद्दसर हुसैन उर्फ मुन्ना झिंगड़ा ने दाऊद इब्राहिम के इशारे पर साल 2000 में बैंकाक में छोटा राजन पर हमला किया था जिसमें छोटा राजन को गोली लगी थी, लेकिन वो छत से कूद कर भाग कर अपनी जान बचाने में कामयाब रहा था जबकि उसका साथी रोहित वर्मा मारा गया था.

हमले के बाद मुन्ना झिंगड़ा को बैंकॉक में गिरफ्तार कर लिया गया और उसके पास से पाकिस्तानी पासपोर्ट बरामद हुआ था. तब से मुन्ना झिंगड़ा बैंकॉक की जेल में बंद है.

2 साल पहले बैंकॉक की अदालत में भारतीय जांच एजेंसियों ने मुन्ना झिगड़ा को भारत डिपोर्ट करने के लिए अपील फाइल की और तमाम सबूत दिए जिसके बाद दाऊद एंड कंपनी ने आईएसआई के जरिये नामी वकील बैंकॉक में खड़े कर दिए. 8 अगस्त 2018 को भारत केस जीत गया था, लेकिन फैसले के खिलाफ अपील फाइल करने का अधिकार बैंकॉक में हर कैदी को है और जिसका उसने इस्तेमाल किया. फिर 19 सितंबर 2019 को फैसला भारतीय जांच एजेंसियों के खिलाफ गया.

मुन्ना है भारत का नागरिक, ISI की खुली पोल

पाकिस्तान मुन्ना को सलीम बताता है और अदालत में उसकी शादी का झूठा सर्टिफिकेट भी दाखिल किया था. इतना ही नहीं पाकिस्तान ने मुन्ना के जिंदा बाप को मरा हुआ साबित कर दिया था. पाकिस्तान ने इन सबके लिए कई फर्जी दस्तावेज बनाए और अदालत में दाखिल किया.

पहली अपील में जो पाकिस्तान मुन्ना के पिता को मरा हुआ बता रहा था भारतीय जांच एजेंसियों ने उसी मुन्ना के पिता को बैंकॉक की अदालत में जिंदा खड़ा कर दिया. इतना ही नहीं भारतीय जांच एजेंसियों ने डीएनए सैम्पल तक अदालत में दिए थे तब जाकर केस भारत के पक्ष में रहा था.

लेकिन अब भले ही भारतीय जांच एजेंसी केस हार गई हो, लेकिन इससे एक बार फिर साबित हो गया कि दाऊद पाकिस्तान में ही है. भारतीय जांच एजेंसियों ने अदालत में जब दाऊद इब्राहीम और आईएसआई को झटका दिया और केस जीत लिया, जिससे खिलाफ कोर्ट में अपील फाइल की गई.

तो क्या पाकिस्तान में है  दाऊद?

सूत्रों के मुताबिक अपनी पोल खुलने के डर से इस बार दाऊद ने पानी की तरह पैसा बहाया और फर्जी दस्तावेज के जरिये केस जीता, दाऊद और ISI को डर है कि कहीं मुन्ना भारत डिपोर्ट हुआ तो भारत दुनिया के सामने उसकी आतंकी हरकतों की पोल खोल देगा.

छोटा राजन पर हमला करने वाले दाऊद के शूटर को पाकिस्तानी साबित कर उसे पाकिस्तान डिपोर्ट करने की जिद एक बार फिर ये साबित करती है कि दाऊद पाकिस्तान में ही छुपा हुआ है और वो भी आईएसआई की सरपरस्ती में.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay