एडवांस्ड सर्च

डेटा चोरी करके ठगी करने वाला गिरोह बेनकाब, इंटरनेट से बनाते थे निशाना

नोएडा में फर्जी कंपनी के जरिए लोगों से ठगी करने वाली कंपनियों पर छापा मारकर पुलिस ने 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. ये फर्जी कंपनियां डेटा चोरी करके इंटरनेट कॉल करती थीं.

Advertisement
तनसीम हैदर [Edited by: मुकेश कुमार गजेंद्र]नोएडा, 23 November 2017
डेटा चोरी करके ठगी करने वाला गिरोह बेनकाब, इंटरनेट से बनाते थे निशाना पुलिस ने 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया

नोएडा में फर्जी कंपनी के जरिए लोगों से ठगी करने वाली कंपनियों पर छापा मारकर पुलिस ने 10 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. ये फर्जी कंपनियां डेटा चोरी करके इंटरनेट कॉल करती थीं. इसके साथ ही सामान बेचने के बहाने लोगों से पेटीएम एकाउंट में पैसे डलवाती थीं. पैसे वसूलने के बाद सामान की डिलेवरी भी नहीं करती थीं.

इतना ही नहीं ये कंपनियां ज्वैलरी से लेकर घरों में इस्तेमाल होने वाली चीजें बेचने का लुभावने वादे करती थीं. GST और इंश्योरेंस के बहाने अधिक चार्ज भी वसूलती थीं. मुखबिर की सूचना पर नोएडा पुलिस ने कई ठिकानों पर छापेमारी की और 10 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. एक फरार आरोपी की तलाश की जा रही है.

पुलिस ने इनके पास 40 सीपीयू, 25 डेस्कटॉप, 28 इंरकाम, 24 कीबोर्ड, 26 कॉलिंग फोन, 1 लैपटॉप, 1 प्रिंटर, 6 यूपीएस, 9 गले के सैट, 2 घड़ी, 4 राउटर, 3 पेन ड्राइव सहित 20 हजार रुपये नगद बरामद किए हैं. पकड़े गए आरोपियों को लोगों को बेवकूफ मनाकर उनसे ठगी करने के आरोप में जेल भेज दिया गया है. फरार की तलाश हो रही है.

पुलिस के मुताबिक, कंपनी के लोग पहले इंटरनेट या फोन कॉल के जरिए लोगों को अपने प्रॉडक्ट की तरफ आकर्षित करते थे. नोएडा सेक्टर 2 के बी-19 स्थिति पीपीएचआर ऑनलाइन, सी-52 स्थित फैशन ऑनडील, सेक्टर 3 के ई-48 स्थित टुडे शॉप, ई-2 स्थित लाइफ फैशन के नाम से इन कंपनियों का संचालन किया जा रहा था.

यहां पर छापा मारकर पुलिस ने कोमल निवासी नोएडा, इमरान, सचिन, श्रवण निवासी दिल्ली, उमेर निवासी झारखंड, नंदनराम, विक्रम ठाकुर, संतोष कुमार, हेमंत निवासी बिहार, सोनू निवासी यूपी को गिरफ्तार कर लिया. इनसे पुलिस हिरासत में पूछताछ करके इनके नेटवर्क को खंगालने की कोशिश की जा रही है. लोगों ने राहत की सांस ली है.

ऑनलाइन ठगी का बड़ा मामला

देश में ऑनलाइन ठगी का अब तक का सबसे बड़ा मामला इसी साल सामने आया था. ग्रेटर नोएडा के कॉलेज से बीटेक करने वाले अनुभव मित्तल ने डिजिटल मार्केटिंग के नाम पर एक वेबसाइट बनाई. लोगों को इसके जरिए एक साल में निवेश की रकम दोगुनी करने का झांसा दिया. वेबसाइट पर 1.15 लाख लोगों ने शुरुआती दौर में पैसा जमा किया.

लोगों से ऐसे हुई 37 अरब की लूट

पहले तो लोगों को मुनाफा दिया, लेकिन बाद में धोखधड़ी शुरू कर दी गई. एसटीएफ ने नोएडा सेक्टर 63 में कंपनी के ठिकानों पर छापा मारकर एमडी अनुभव मित्तल को गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद अनुभव के पिता सुनील मित्तल को भी गिरफ्तार किया. एसटीएफ ने सभी खाते भी फ्रीज कर दिए थे. कंपनी ने करीब 3700 करोड़ जमा कराए थे.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay