एडवांस्ड सर्च

37 अरब की ऑनलाइन ठगीः अनुभव मित्तल की पुलिस रिमांड खत्म, जेल भेजा गया

37 अरब की ऑनलाइन ठगी के आरोपी अनुभव मित्तल की पुलिस रिमांड मंगलवार को खत्म हो गई. जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. उसके अलावा इस मामले में गिरफ्तार किए गए अन्य लोगों को भी जेल भेजा गया है.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर/ चिराग गोठी नोएडा, 14 February 2017
37 अरब की ऑनलाइन ठगीः अनुभव मित्तल की पुलिस रिमांड खत्म, जेल भेजा गया एसटीएफ पकड़े गए आरोपियों से पूछताछ कर रही है

37 अरब की ऑनलाइन ठगी के आरोपी अनुभव मित्तल की पुलिस रिमांड मंगलवार को खत्म हो गई. जिसके बाद उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. उसके अलावा इस मामले में गिरफ्तार किए गए अन्य लोगों को भी जेल भेजा गया है.

ऑनलाइन सोशल ट्रेड घोटाले के मास्टर माइंड अनुभव मित्तल की पुलिस रिमांड की अवधि मंगलवार को खत्म हो गई. उसके बाद मित्तल और उसके सहयोगियों को जेल भेज दिया गया है.

लेकिन इस मामले में हैदराबाद पुलिस अनुभव के खिलाफ वारंट लेकर आ गई है. जो उसे साथ ले जाना चाहती है. ऐसे ही प्रवर्तन निदेशालय की टीम उसे लखनऊ ले जाना चाहती है.

600 करोड़ की रकम बरामद
उधर, ऑनलाइन ठगी के इस मामले में अभी तक बरामद की गई रकम बढ़कर 600 करोड़ से ज्यादा हो गई है. जबकि इस रैकेट के सरगना अनुभव मित्तल और उसके साथियों के खिलाफ मिलने वाली शिकायतों का आंकड़ा भी दस हजार को पार कर गया है. सोशल ट्रेडिंग के इस मामले में हर रोज नए खुलासे हो रहे हैं.

ऑनलाइन ठगी के मास्टर माइंड अनुभव मित्तल की जालसाजी का जाल भी बड़ा है. इस मामले में यूपी एसटीएफ की टीम ने अभी तक कई जगहों पर छापेमारी कर 76 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम बरामद कर ली है. जिसके बाद इस मामले में कुल बरामद रकम 524 करोड़ से बढ़कर 600 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है.

इससे पहले यूपी एसटीएफ ने मित्तल की कंपनी के खातों को सीज किया था, जिनमें 524 करोड़ रुपये की रकम थी. इस ठगी के सबसे बड़े रैकेट में मिलने वाली शिकायतों में भी लगातार इजाफा हो रहा है. इस संबंध में मिली शिकायतें भी आठ हजार से बढ़कर दस हजार तक जा पहुंची हैं.

यूपी एसटीएफ से मिली जानकारी के मुताबिक अभी तक इस मामले में अनुभव मित्तल और दूसरे लोगों के खिलाफ दर्ज होने वाली एफआईआर की संख्या भी बढ़कर 6 हो गई है.

एसटीएफ ने खुलासा किया है कि अनुभव मित्तल की कंपनी ने mobiwik के साथ भी सोशल ट्रेड के लिए एक करार किया था. इस संबंध में एसटीएफ ने करीब 5 करोड़ रुपया फ्रीज किया है.

जानकारी के मुताबिक यूपी पुलिस और एसटीएफ चाहती है कि वे 3700 करोड़ के इस महाघोटाले में ज्यादा से ज्यादा पैसा बरामद कर लें. इसी मकसद को पूरा करने के लिए लगातार पूछताछ के आधार पर कई जगहों पर दबिश दी जा रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay