एडवांस्ड सर्च

आजमगढ़ हिंसा: 18 मई तक इंटरनेट सेवा पर बैन

यूपी के आजमगढ़ में दो समुदायों के बीच रुक-रुक कर हिंसा जारी है. अधिकारियों ने इस पर काबू पाने के लिए शासन के निर्देश पर जिले में इंटरनेट सेवा पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी है. लखनऊ से आजमगढ़ पहुंचे आईटी विशेषज्ञ अधिकारियों की सलाह पर सोमवार को यह फैसला लिया गया. यह जानकारी शासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी है.

Advertisement
aajtak.in
मुकेश कुमार/ IANS लखनऊ, 17 May 2016
आजमगढ़ हिंसा: 18 मई तक इंटरनेट सेवा पर बैन दो समुदायों के बीच रुक-रुक कर हिंसा जारी है

यूपी के आजमगढ़ में दो समुदायों के बीच रुक-रुक कर हिंसा जारी है. अधिकारियों ने इस पर काबू पाने के लिए शासन के निर्देश पर जिले में इंटरनेट सेवा पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी है. लखनऊ से आजमगढ़ पहुंचे आईटी विशेषज्ञ अधिकारियों की सलाह पर सोमवार को यह फैसला लिया गया. यह जानकारी शासन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी है.

अधिकारियों के मुताबिक, फिलहाल आजमगढ़ में 18 मई तक इंटरनेट सेवा बंद रहेगी. प्रदेश में पहली बार इंटरनेट सेवाओं पर पाबंदी का फैसला लिया गया है. व्हाट्सएप और फेसबुक के जरिए आपत्तिजनक संदेशों के प्रसारण के कारण हिंसा बीच-बीच में भड़क रही है. इसके बाद इंटरनेट सेवा बंद करने का फैसला लिया गया है.

अधिकारियों के आग्रह पर प्रशासन ने पूरे जिले में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं. इधर, बवाल का केन्द्र बने निजामाबाद के खुदादादपुर में बड़ी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है. आसपास के इलाकों में भी मंगलवार सुबह पुलिस ने गश्त की. आरोपियों पर मुकदमा दर्ज कर धरपकड़ की कोशिशें तेज कर दी गई हैं.

बताते चलें कि कि निजामाबाद थाने के खुदादादपुर गांव में 24 मार्च को होली के दिन रंग फेंकने को लेकर शुरू हुआ विवाद पिछले तीन महीने में कई बार उग्र होते-होते बचा है. शनिवार को दो समुदायों के लोग एक बार फिर आमने-सामने आ गए. तोड़फोड़, आगजनी, पथराव और गोलीबारी की. इसमें सीओ सिटी, एसडीएम निजामाबाद सहित कई लोग घायल हो गए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay