एडवांस्ड सर्च

सावधानः हिंदुस्तान में फैला विदेशी ठगों का जाल, ऐसे हो रही हैं वारदातें

अगर आप सोचते हैं कि आपके फोन नंबर से कोई दूसरा फोन नहीं कर सकता, ई-मेल आईडी से कोई दूसरा मेल नहीं कर सकता तो आप गलत हैं. किसी के फोन नंबर से किसी को फोन कर सकते हैं, किसी के ईमेल ID से किसी को मेल कर सकते हैं, किसी के भी नंबर से किसी को मैसेज कर सकते हैं. इसको scoffing कहते हैं. हिंदुस्तान में बैठे विदेशी ठग इसी के सहारे हिंदुस्तान में रहकर ना केवल अर्थव्यवस्था को बड़ा चूना लगे रहे हैं बल्कि ये सिलसिला लगातार जारी है.

Advertisement
रामकिंकर सिंह [Edited by: परवेज़ सागर]नोएडा, 18 May 2018
सावधानः हिंदुस्तान में फैला विदेशी ठगों का जाल, ऐसे हो रही हैं वारदातें आए दिन इस तरह से ठगी किए जाने के मामले सामने आ रहे हैं

अगर आप सोचते हैं कि आपके फोन नंबर से कोई दूसरा फोन नहीं कर सकता, ई-मेल आईडी से कोई दूसरा मेल नहीं कर सकता तो आप गलत हैं. किसी के फोन नंबर से किसी को फोन कर सकते हैं, किसी के ईमेल ID से किसी को मेल कर सकते हैं, किसी के भी नंबर से किसी को मैसेज कर सकते हैं. इसको scoffing कहते हैं. हिंदुस्तान में बैठे विदेशी ठग इसी के सहारे हिंदुस्तान में रहकर ना केवल अर्थव्यवस्था को बड़ा चूना लगे रहे हैं बल्कि ये सिलसिला लगातार जारी है.

ऐसे होती है ऑनलाइन ठगी

ये Facebook पर अपने टारगेट को चूज़ करते हैं. फेक प्रोफाइल बनाकर फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजते हैं. जिस देश का फ्रेंड होता है, उस कंट्री का वर्चुअल नंबर लेते हैं. जैसे अमेरिका के किसी शख्स को चूना लगाने के लिए अमेरिका का वर्चुअल नंबर लेते हैं. शिकार ब्रिटेन से है, तो ब्रिटेन का वर्चुअल नंबर लेते हैं. वर्चुअल नंबर एक ऐसी सर्विस है, जिसे कोई भी आदमी खरीद सकता है. मोबाइल फोन पर WhatsApp को उस विदेशी नंबर से इनेबल कर सकता है.

ऐसे में जब भी वह पीड़ित से बात करता है, तब पीड़ित को लगता है. यह कॉल अमेरिका से या ब्रिटेन से आ रही है, वो इसलिए गुमराह हो जाते हैं. ये प्रोफाइल पर बड़ा ही हैंडसम और अमीर लोगों का फोटो लगाते हैं. आदमी को लगता है कि वह किसी ब्रिटिश से बात कर रहा है. जबकि अफ्रीकन कंट्री के कुछ लड़कों ने ठगी का ये जाल क्रिएट किया हुआ है और ठग इंडिया से ही कॉल कर रहे होते हैं. लड़कियां ही अक्सर लोगों से बात करती हैं.

पकड़े गए चार विदेशी

एसटीएफ के साइबर क्राइम हेड त्रिवेणी सिंह ने बताया 'डेढ़ साल में चार गिरफ्तारियां की है. चारों आरोपी अफ्रीकन थे. जिनको इन लोगों ने टारगेट किया था, वे बड़े पढ़े-लिखे लोग थे. जिनकी दोस्ती Facebook से शुरू हुई. ये कभी Facebook या लिंक्डइन पर अपनी प्रोफाइल क्रिएट करके मैसेज भेजते हैं, हजारों को टारगेट करने पर 10 लोग तो शिकार हो ही जाते हैं. यही इनका तरीका है.

हाइप्रोफाइल लोग बने शिकार

लखनऊ यूनिवर्सिटी की एक प्रोफेसर से 62 लाख रुपये ठग लिए गए.

ऐसे ही एक विंग कमांडर से 20 लाख रुपये ठग लिए.

एक एनजीओ की मालकिन से 35 लाख ठगे.

हर्बल सीड के नाम पर ठगी

फेसबुक प्रोफाइल से पता लगा कि पीड़ित हर्बल सीड का बिजनेस करता है. पीड़ित को बताया जाता है कि वो अमेरिका में फार्मास्यूटिकल कंपनी के हेड हैं और जिस हर्बल की उन्हें तलाश है. वो सिर्फ इंडिया में ही पाया जाता है. इंडिया में कौन सी कंपनी है, जो हर्बल सीड्स में ही काम करती है. ये बताने के लिए कुछ पैसा इन्वेस्ट करना होगा. उसके बाद ये कहते हैं कि सीड के एक्सपोर्ट पर 50% कमीशन देगें. इसी कमीशन की लालच में आर्मी के एक अफसर से करीब 20 लाख रुपये ठग लिए.

लॉटरी के नाम पर ठगी

बताते हैं कि ये कोकाकोला की स्कीम है. Samsung की लॉटरी निकली है. लाखों जीतने की बात करते हैं और कहते हैं आपको पैसे मिलने वाले हैं. चूंकि मेल ID में अकाउंट नंबर भी होता है, इसलिए आदमी समझता है कि वह लॉटरी जीता हुआ है. पहले 10 हजार मांगते हैं फिर 50 हज़ार किसी और प्रोसेस को आगे बढ़ाने का. फिर डिलीवरी कूरियर और क्लियरेंस के नाम पर ठग लेते हैं.

अलग अलग कामों के नाम पर होती है ठगी

ये ईमेल करते हैं कि बहुत पैसे वाले हैं, स्वीडन या किसी देश के रॉयल फैमिली से अपने को बताते हैं और काफी पैसा इन्वेस्ट की बात करते हैं. गरीब बच्चों के लिए कुछ काम करने की बात करते हैं. फिर चैरिटी के नाम पर वो पैसा लेकर आने की बात करते हैं. फिर एयरपोर्ट पर गिरफ्तारी हो जाती है, फिर एक लड़की फोन करती है कि कस्टम 80 हज़ार मांग रहा है. क्योंकि वो बहुत ज्यादा पैसा ला रहे हैं. कस्टम के आधे घंटे बाद आरबीआई अफसर बनकर फोन करते हैं. अगर डॉलर है तो डॉलर क्लियरेंस के लिए पैसा मांगते हैं, तो कभी इनकम टैक्स अफसर बनकर.

इंडिया में जितने भी साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन हैं कंप्लेन वहां गई हैं. अगर सबकी जांच कराई जाए तो साइबर क्राइम का बड़ा फ्रॉड निकलेगा. ये एक बहुत बड़ा फ्रॉड बिजनेस है, जो करीब 20 लाख से ज्यादा का है.

डेटा बेस लीक करने का खेल

खेल डेटाबेसेस का है. डेटा सिक्योरिटी कैसे हो प्रोफाइल कैसे सुरक्षित रखें इतनी जागरुकता इंडिया में नहीं है. लोग किसी भी वेबसाइट पर रैंडम अपनी ईमेल ID अकाउंट नंबर आधार नंबर सब शेयर कर देते हैं, यह कोई भी मिस यूज कर सकता है. अगर क्रिमिनल के हाथ में जाएगा तो क्रिमिनल मिसयूज करेगा. यूपी साइबर क्राइम हेड त्रिवेणी सिंह ने खुलासा किया कि आपका पूरा डेटा ”हैकर्स के सर्वर में है जो आपका पूरा डेटा का Site tripper tools के ज़रिए क्लोन बना लेते हैं. जितने क्रेडेंशियल हैं, सब एक जगह कर लेते हैं. डाटा एनालिसिस करते हैं. फिर वह टारगेटेड अटैक करते हैं. डाटा ब्रीच इंडिया के लिए बहुत बड़ी समस्या है.

ऐसे बचें इन ठगों से

फाइनेंस से रिलेटेड कोई सूचना फोन या ई-मेल पर ना दें.

Facebook, लिंकडिन या किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अजनबी से दोस्ती ना करें.

किसी भी मेल ओपन करें तो किसी को भी पासवर्ड शेयर ना करें.

दूसरी कंट्री के किसी भी नंबर से फोन आए तो ना उठाएं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay