एडवांस्ड सर्च

सर्जिकल स्ट्राइक से बौखलाई पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी का साइबर हमला

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ने हिंदुस्तान को सिर्फ सरहद पर ही नहीं बल्कि साइबर वार के जरिए भी हमले करने की सनसनीखेज प्लानिंग की है. इसके लिए एक साथ एक हजार जवानों पर इंटरनेट के जरिए हमला बोला गया है. इस तरह जवानों, अफसरों के सोशल मीडिया अकाउंट्स से खुफिया जानकारी चुराई गई है.

Advertisement
aajtak.in
मुकेश कुमार/ अरविंद ओझा नई दिल्ली, 12 October 2016
सर्जिकल स्ट्राइक से बौखलाई पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी का साइबर हमला हनीट्रैप के जरिए सेना पर बड़ा हमला

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ने हिंदुस्तान को सिर्फ सरहद पर ही नहीं बल्कि साइबर वार के जरिए भी हमले करने की सनसनीखेज प्लानिंग की है. इसके लिए एक साथ एक हजार जवानों पर इंटरनेट के जरिए हमला बोला गया है. इस तरह जवानों, अफसरों के सोशल मीडिया अकाउंट्स से खुफिया जानकारी चुराई गई है.

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने इसके लिए बकायदा कराची में एक कॉल सेंटर खोला है. वहां पाकिस्तान के हैकर बैठकर-अलग-अलग तरीकों से सेना और उससे जुड़े लोगों को अपना शिकार बना रहे हैं. उनसे लड़की बनकर चैट की जाती है और हनी ट्रैप में फंसाकर सेना से जुड़ी जानकारियां हासिल की जाती हैं.

जानकारी के मुताबिक, करांची के लालू खैत में आईएसआई ने अपना कॉल सेंटर खोला है. इकी कमान पाकिस्तान के दो सबसे बड़े हैकर्स को दी गई. कराची के रहने वाले साजिद और आबिद ने सेना पर इंटरनेट के जरिए सालों की प्लानिंग कर इतना बड़ा हमला बोला जिसे सोच पाना किसी के लिए भी आसान नहीं था.

कराची के कॉल सेंटर से पहले हनीट्रैप के जरिए सेना के जवानों से बातचीत की जाती थी. फिर भरोसे में लेकर चैटिंग के ऐसे साफ्टवेयर भेजे जाते थे कि जवानों का मोबाइल का सारा डेटा इनके पास पहुंच जाता था. सेना के ही नहीं बल्कि देश की कई बड़ी हस्तियों को भी कराची के इस कॉल सेंटर ने अपने जाल में फंसा लिया था.

रिपोर्ट के मुताबिक, साजिद और आबिद ने कॉल सेंटर तो कराची में खोला लेकिन सेना के जानकारी एकत्रित करने के लिए जर्मन सर्वर का सहारा लिया, ताकि किसी को शक ना हो पाए. आईएसआई के इस कॉल सेंटर की जानकारी जैसे ही हिंदुस्तानी खुफिया एजेंसी और साइबर एक्सपर्ट को लगी तहकीकात शुरु हुई.

इंटरनेट पर मौजूद सेना के फर्जी वेबसाइट और लड़कियों के नाम से चलाए जा रहे फेसबुक प्रोफाइल के आईपी एड्रेस निकाले जाने लगे. इस तरह एजेंसी कराचीं के इस कॉल सेंटर तक पहुंच पाई. साइबर एक्सपर्ट ने सेना के अहम जानकारी चुराए गए डेटा को कलेक्ट करने में कामयाबी हासिल कर ली है. खुलासे से हड़कंप मच गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay