एडवांस्ड सर्च

जिस मिठाई के डिब्बे में छुपाया था हथियार, उसी से पकड़े गए कमलेश तिवारी के कातिल

उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले को 24 घंटे के भीतर ही सुलझा लेने का दावा किया है. इस मामले में उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि घटनास्थल पर मिठाई का डिब्बा बरामद हुआ था और वही अहम सुराग बना.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in लखनऊ, 19 October 2019
जिस मिठाई के डिब्बे में छुपाया था हथियार, उसी से पकड़े गए कमलेश तिवारी के कातिल 24 घंटे में सुलझा कमलेश तिवारी हत्याकांड मामला (फाइल फोटो)

  • 24 घंटे में सुलझा कमलेश तिवारी हत्याकांड मामला
  • मामले में मिठाई का डिब्बा बना अहम सुराग

उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी हत्याकांड मामले को 24 घंटे के भीतर ही सुलझा लेने का दावा किया है. इस मामले में उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने कहा कि घटनास्थल पर मिठाई का डिब्बा बरामद हुआ था और वही अहम सुराग बना.

हिन्दू समाज पार्टी के नेता कमलेश तिवारी की गला रेतकर शुक्रवार लखनऊ में हत्या कर दी गई. हमलावर मिठाई के डिब्बे में हथियार लेकर आए थे. भगवा कपड़े पहने हमलावर मिठाई के डिब्बे में चाकू, कट्टा लेकर खुर्शीद बाग इलाके में स्थित तिवारी के दफ्तर में आए थे.

उत्तर प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने बताया कि मिठाई का डिब्बा इस केस में सबसे अहम सुराग था. इसी मिठाई के डिब्बे को आधार बनाते हुए पुलिस की टीमें गठित की गई और जांच उत्तर प्रदेश से होते हुए गुजरात तक जा पहुंची. दरअसल, मिठाई का डिब्बा सूरत जिले की एक दुकान से जुड़ा था.

किसने खरीदी मिठाई?

इस मामले में गुजरात में मौजूद उस मिठाई की दुकान के आस-पास के सीसीटीवी फुटेज की छानबीन से संदिग्ध फैजान यूनुस की पहचान की गई. फैजान नाम के शख्स ने मिठाई खरीदी थी. यूपी डीजीपी के मुताबिक रशीद पठान नाम का शख्स इस हत्याकांड का मुख्य आरोपी है. यूपी पुलिस के डीजीपी ओपी सिंह ने शनिवार को लखनऊ में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि इस मामले में अब तक तीन लोगों को हिरासत में लिया गया है. ये तीनों इस हत्याकांड में शामिल रहे हैं. इनके नाम रशीद अहमद पठान, मौलाना मोहसिन शेख और फैजान है.

कब दिया था बयान?

बता दें कि कमलेश तिवारी ने साल 2015 में पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ विवादित बयान दिया था. इसे लेकर काफी हंगामा हुआ था, जिसके बाद कमलेश तिवारी की विवादित बयान देने के चलते गिरफ्तारी हुई थी. मुस्ल‍िम समाज ने कमलेश तिवारी को फांसी देने की मांग की थी. फिलहाल वह जमानत पर रिहा चल रहे थे. इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ बेंच ने अभी हाल ही में कमलेश तिवारी पर लगा राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) हटा दिया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay