एडवांस्ड सर्च

TERROR ROUTE: पठानकोट एयरबेस में यूं दाखिल हुए आतंकी, ऐसे दिया हमले को अंजाम

भारतीय सीमा में घुसे 5 आतंकी ने पठानकोट के बग्वाल गांव के टैक्सी ड्राइवर इकागर सिंह को फोन किया. उन्होंने फोन पर एक मरीज को इमरजेंसी में अस्पताल ले जाने के लिए इनोवा कार बुलाया. ड्राइवर को पठानकोट चलने के लिए कहा. आतंकियों से अनजान इकागर सिंह ने उनको गाड़ी में बैठा लिया, लेकिन कुछ देर में ही उनके मंसूबे भांप लिए. इसके बाद टैक्सी को पठानकोट की बजाय अपनी गांव की तरफ मोड़ लिया.

Advertisement
aajtak.in
मुकेश कुमार नई दिल्ली, 06 January 2016
TERROR ROUTE: पठानकोट एयरबेस में यूं दाखिल हुए आतंकी, ऐसे दिया हमले को अंजाम पठानकोट एयरबेस पर आतंकियों ने किया था हमला

पंजाब के पठानकोट एयरबेस पर हुए आतंकी हमले का हम वो खुलासा करने जा रहे हैं, जिसको सुनकर आप भी चौंक जाएंगे. जी हां, कैसे आतंकी पठानकोट एयरबेस में दाखिल हुए? कैसे 27 घंटे गायब रहने के बाद आतंकियों ने पूरे देश को थर्रा दिया? आतंकियों ने पहले एक इनोवा कार को हाइजैक किया, उसके ड्रावर को मारा, फिर गुरदासपुर के एसपी को उनके दो साथियों के साथ गाड़ी समेत किडनैप कर लिया. अब एसपी शक के घेरे में हैं.

31 दिसंबर, 2015
रात के करीब 9.30 बजे
बग्वाल गांव, पठानकोट

भारतीय सीमा में घुसे आतंकी ने पठानकोट के बग्वाल गांव के टैक्सी ड्राइवर इकागर सिंह को फोन किया. उन्होंने फोन पर एक मरीज को इमरजेंसी में अस्पताल ले जाने के लिए इनोवा कार बुलाया. ड्राइवर को पठानकोट चलने के लिए कहा. आतंकियों से अनजान इकागर सिंह ने उनको गाड़ी में बैठा लिया, लेकिन कुछ देर में ही उनके मंसूबे भांप लिए. इसके बाद टैक्सी को पठानकोट की बजाय अपनी गांव की तरफ मोड़ लिया.

31 दिसंबर, 2015
रात के 11.30 बजे
कोलिआं गांव, पठानकोट

इस दौरान टैक्सी ड्राइवर इकागर सिंह और आतंकियों के बीच भिड़ंत हुई. लेकिन हथियारों और गोलाबारूद से लैस आतंकी उसे मार दिया. इसके बाद आतंकी ने इनोवा को कोलिआं गांव पर छोड़ दिया. यहीं से गुरदासपुर के एसपी सलविंदर सिंह, उनके दो साथियों और उनकी नीली बत्ती लगी एसयूवी को हाइजैक कर लिया. एसपी की गाड़ी में वो पठानकोट की तरफ बढ़ने लगे. रास्ते में पंजाब पुलिस का चेक पोस्ट मिला.

इस चेक पोस्ट पर पंजाब पुलिस ने एसपी सलविंदर की नीली बत्ती की गाड़ी देखकर चेकिंग करने की बजाए सेल्यूट मारकर चेक पोस्ट से पार करा दिया. एयरबेस से पहले पंजाब पुलिस की  यह चेक पोस्ट पड़ताी है, लेकिन आतंकी इस चेक पोस्ट पर भी पुलिस को चकमा दे गए. फिलहाल पठानकोट एयरबेस तक पहुंचने वाले हर रास्ते पर जबरदस्त चेकिंग की जा रही है. पंजाब पुलिस पूरी तरह से मुस्तैद है.

एसपी सलविंदर सिंह ने बताया कि कोलिआं मोड़ पर एक टर्न है, जहां उन लोगों ने गाड़ी रोक दी थी. गाड़ी उनका दोस्त राजेश वर्मा चला रहा था. उसी समय अचानक आतंकी उनकी गाड़ी में घुस गए. उन्होंने अंदर की लाइट बंद करने के लिए कहा. उन्हें पीछे धकेल दिया. उनके हाथ सीट के पीछे बांध दिए. सीट के बीच के हिस्से में बैठा दिया. उन सभी को गन प्वाइंट पर ले रखा था. हालांकि, उनको यह पता नहीं चला कि ये पुलिस अफसर की गाड़ी है.

अगवा किए जाने के करीब 30-40 मिनट बाद पंजाब पुलिस की चेक पोस्ट पार करते ही आतंकियों ने सबसे पहले एसपी को गाड़ी से गिरा दिया. उस समय वह बेहोश थे. होश में आने के बाद उन्होंने पुलिस कंट्रोल रूम को आतंकियों की जानकारी दी, लेकिन पुलिस उनकी जानकारी पर यकीन नहीं हुआ. एसपी कहते हैं कि वह एक दरगाह पर मत्था टेकने के बाद वापस आ रहे थे. उसी समय उनके साथ ये पूरी वारदात हुई.

एसपी सलविंदर सिंह के बाद उस गाड़ी में उनके दोस्त राजेश वर्मा और उनका कुक मदन गोपाल मौजूद था. विरोध करने पर आतंकियों ने राजेश की बेरहमी से पिटाई की. उनकी गर्दन पर चाकू से वार किया. आतंकी तेजी से कथलौर पुलिस चौकी से पठानकोट की तरफ बढ़ने लगे. इसी बीच उन्होंने मदन गोपाल को भी गाड़ी से गिरा दिया. कोलिआं गांव से 40 किलोमीटर दूर अकालगढ़ के रास्ते पर राजेश वर्मा को गाड़ी से फेंक दिया.

पठानकोट एयरबेस से करीब 2 किलोमीटर पहले ही आतंकियों ने एसपी की गाड़ी को छोड़ दिया. इसी बीच खुफिया सूचना मिलने के बाद पंजाब पुलिस ने सभी थानों और पुलिस अफसरों को अलर्ट जारी कर दिया. पठानकोट एयरबेस को भी सावधान कर दिया गया. 31 दिसंबर, 2015 और 1 जनवरी, 2016 की दरमियानी रात डिफेंस सिक्योरिटी फोर्स के सूबेदार मेजर फतेह सिंह ने एयरबेस की सुरक्षा का जायजा लिया.

2 जनवरी, 2016
तड़के 3.05 बजे
पठानकोट एयरबेस

सूबेदार मेजर फतेह सिंह सुरक्षा का जायजा लेने पठानकोट एयरबेस के कैंटीन के पास पहुंचे. उनकी बाइक की रोशनी को देखते ही तड़के करीब 3.05 बजे आतंकियों ने पहली फायरिंग की. आतंकियों ने कैंटीन में ही एक दूसरे सूबेदार मेजर दलजीत सिंह पर भी हमला कर दिया. इसके बाद वे किचन में घुस गए. वहां कुक मूल चंद और हवलदार कलर्क जगदीश चंद काम कर रहे थे. उनके ऊपर हमला कर दिया, जिसमें दोनों शहीद हो गए.

इसी बीच पंजाब पुलिस, एनएसजी और तमाम सुरक्षा एजेंसियों ने एयरबेस को चारों तरफ से घेर लिया. दोनों तरफ से जमकर फायरिंग होती रही. हेलीकॉप्टर के जरिए भी आतंकियों पर हमले किए गए. इस दौरान सुरक्षा एजेंसियों ने करीब चार आतंकियों को मार गिराया, लेकिन इस कार्रवाई में भारत के 10 जवान शहीद हो गए. अगले तीन दिनों तक चली कार्रवाई के बाद छह आतंकियों की मौत के साथ यह ऑपरेशन अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंचा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay