एडवांस्ड सर्च

दिल्ली पुलिस के लिए दाती को पकड़ना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन हैं!

हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को फटाकर लगाते हुए कहा था कि 4 दर्जन से ऊपर महिलाओं की गवाही पुलिस ने उनके घर जाकर दर्ज की है. मुमकिन है कि दाती महाराज ने उनको डराने धमकाने की कोशिश भी की हो. और जब पीड़िता ने अपने बयान दर्ज करा दिए थे, तो अभी तक इस मामले में दाती महाराज की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: परवेज़ सागर]नई दिल्ली, 10 January 2019
दिल्ली पुलिस के लिए दाती को पकड़ना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन हैं! दाती महाराज से पुलिस कई बार पूछताछ कर चुकी है (फाइल फोटो)

रेप के मामले में फंसे दाती महाराज के खिलाफ सीबीआई जांच अब होकर रहेगी. दिल्ली हाईकोर्ट ने इस जांच को रोकने की पुनर्विचार याचिका को खारिज कर दिया है. लेकिन सबसे हैरानी की बात ये है कि फटकार के बाद भी दिल्ली पुलिस दाती को गिरफ्तार नहीं कर रही है. ऐसा लग रहा है कि दिल्ली पुलिस के लिए दाती को पकड़ना मुश्किल ही नहीं, नामुमकिन है.

दिल्ली हाई कोर्ट ने पिछले माह पीड़िता की तरफ से लगाई गई याचिका पर सुनवाई करते हुए इस मामले की जांच सीबीआई के हवाले कर दी थी. हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस की तरफ से फाइल की गई चार्जशीट पर असंतोष जताते हुए सीबीआई को इस मामले में सप्लीमेंट्री चार्जशीट दायर करने के आदेश दिए गए हैं.

गिरफ्तारी क्यों नहीं?

कोर्ट ने चार्जशीट पर सवाल उठाते हुए कहा था कि इस मामले में 4 दर्जन से ऊपर महिलाओं की गवाही पुलिस ने उनके घर जाकर दर्ज की है. मुमकिन है कि दाती महाराज ने बयान दर्ज होने के बाद उनको डराने धमकाने की कोशिश भी की हो. कोर्ट का सवाल था कि पीड़िता ने जब अपने बयान 164 में दर्ज करा दिए थे, तो अभी तक इस मामले में दाती महाराज की गिरफ्तारी क्यों नहीं हुई.

पीड़िता की तरफ से इस मामले में दाती महाराज के खिलाफ बलात्कार का मामला दिल्ली पुलिस में दर्ज करवाया गया था. पीड़िता का कहना था जनवरी और मार्च 2016 में दाती महाराज ने उसके साथ बलात्कार किया. पीड़िता ने अपनी एफआईआर में पांच और लोगों को भी बलात्कार की घटना में दाती महाराज का सहयोग करने और षड्यंत्र रचने का आरोपी बनाया है.

अब जब इस मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने केस सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया है तो पूरी जांच दोबारा सीबीआई को करनी होगी. जांच करने के बाद सीबीआई को अपनी चार्जशीट दिल्ली हाई कोर्ट को सौपनी होगी. सीबीआई की जांच से यह भी साफ होगा कि अब तक की दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच की जांच में क्या-क्या गड़बड़ी और कमियां रही हैं.

पिछले हफ्ते दिल्ली पुलिस ने दाती महाराज को मुख्य आरोपी बताते हुए बलात्कार के आरोप में साकेत कोर्ट में अपनी चार्जशीट दायर कर दी. लेकिन हाईकोर्ट ने सबसे बड़ा सवाल यही उठाया कि अब तक इतने संगीन आरोपों के बावजूद दाती महाराज की गिरफ्तारी क्यों नहीं हो सकी.

मुमकिन है कि सीबीआई जैसे जैसे अपने जांच के दायरे को बढ़ाएं दाती महाराज की गिरफ्तारी भी संभव हो. पीड़िता ने आरोप लगाया कि दाती महाराज के कई बड़े नेताओं और ब्यूरोक्रेट्स के साथ घनिष्ठ संबंध रहे हैं और इसीलिए उसकी गिरफ्तारी इस मामले में अब तक नहीं हो पाई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay