एडवांस्ड सर्च

आतंक के खिलाफ लड़ाई में फ्रांस साथ, मैक्रों बोले- कश्मीर पर दखल ना दे तीसरा देश

फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा, हम चाहेंगे कि कोई भी तीसरा आदमी इसमें हस्तक्षेप नहीं करे और न ही हिंसा भड़काने का काम करे. प्रधानमंत्री मोदी ने मुझे कश्मीर पर उनके निर्णय के बारे में बताया. ये भी जरूरी है कि कश्मीर में स्थिरता बनी रहे.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 23 August 2019
आतंक के खिलाफ लड़ाई में फ्रांस साथ, मैक्रों बोले- कश्मीर पर दखल ना दे तीसरा देश प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इमैनुएल मैक्रों (PIB)

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच गुरुवार को द्विपक्षीय बातचीत हुई. इसके बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने दो टूक कहा कि कश्मीर मामले में किसी तीसरे देश को हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए. ये भारत और पाकिस्तान का मसला है. गौरतलब है कि अमेरिका कई बार कश्मीर मसले पर मध्यस्थता की बात कह चुका था, लेकिन फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा कि न ही कोई इसमें हस्तक्षेप करे और न ही हिंसा भड़काने का काम करे.

फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने कहा कि हम दोनों (फ्रांस और भारत) की साझेदारी अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर भी बड़ी भूमिका निभाती है. हम दोनों के बीच बहुत भरोसा है और ये भरोसा आसानी से नहीं मिलता है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मैंने कश्मीर पर बातचीत की. प्रधानमंत्री मोदी ने कश्मीर के हालात के बारे में मुझे बताया और मैंने उन्हें कहा कि भारत और पाकिस्तान को मिलकर इस पर नतीजा निकालना होगा.

फ्रांस के राष्ट्रपति बोले कि हम चाहेंगे कि कोई भी तीसरा आदमी इसमें हस्तक्षेप नहीं करे और न ही हिंसा भड़काने का काम करे. ये भी जरूरी है कि कश्मीर में स्थिरता बनी रहे. कुछ दिनों बाद मैं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री से भी बातचीत करूंगा. हम चाहते हैं कि कहीं कोई आतंकवाद की घटना नहीं हो.

इमैनुएल मैक्रों बोले कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कुछ महीने पहले ही एक बार फिर से चुनाव जीतकर दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के नेता बने. मैं आपको बधाई देता हूं. इससे पता चलता है कि भारत का लोकतंत्र कितना मजबूत है. हमने जी-7 के बारे में कई बातें कहीं. मैं चाहता था कि इसमें भारत भागीदार हो. मैंने जी-7 के तरीकों को कुछ बदला है. मैं चाहता था कि जी-7 में हम कई अहम मुद्दों पर चर्चा करें. इसमें क्लाइमेट चेंज पर भी चर्चा करने का हमने फैसला किया था. हम इन मुद्दों पर भारत के बिना बात नहीं कर सकते थे.

भारत को लेकर उन्होंने कहा कि भारत का जी 7 में उपस्थित होना जरूरी था. इसलिए हमने भारत को आमंत्रित किया था. भारत और फ्रांस के बीच बहुत ज्यादा भरोसा है. हमने कई मुद्दों पर साथ काम भी किया है. इसमें चाहे पेरिस एग्रीमेंट हो. हमारे लिए जलवायु परिवर्तन बहुत अहम मुद्दा है. हम इस पर जी 7 में बातचीत करेंगे. भारत हमारा कई अन्य मुद्दों पर भी साथ दे रहा है. हमें सभी देशों को एक साथ लेना होगा. ताकि हम पर्यावरण की सुरक्षा कर सकें.

इमैनुएल मैक्रों बोले कि अभी हमने प्रधानमंत्री मोदी के साथ अन्य मुद्दों पर भी बात की. इसमें डिजिटल तकनीक और साइबर सिक्योरिटी भी शामिल है. हमने देखा है कि काफी मुद्दों पर तो हम बहुत आगे बढ़ चुके हैं. हम जानते हैं कि भारत अपना चंद्रयान भेज चुका है. पुलवामा में जो हमला हुआ था उसके लिए हमने अपनी सहानुभूति जताई है. हम आतंकवाद पर भी एक दूसरे के साथ मिलकर काम करते रहेंगे.

इमैनुएल मैक्रों हमारा रक्षा के क्षेत्र में सहयोग बहुत महत्वपूर्ण है. आतंकवाद के खिलाफ लड़ना बहुत ही जरूरी है. पहला राफेल विमान अगले महीने भारत पहुंच जाएगा. भारत और फ्रांस के बीच व्यापार में 25 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है. इसे हम और भी बढ़ाना चाहेंगे. मार्च 2018 में जब मैं भारत गया था तो हमने अपने सहयोग व्यापार को बढ़ाने का फैसला किया था. उसे हमने इसी साल हासिल कर लिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay