एडवांस्ड सर्च

10 अक्टूबरः यूपी पुलिस के जवान कर सकते हैं बड़ा आंदोलन!

खाकीवालों ने हाथ में काली पट्टी बांधकर खूब तस्वीरें खिंचवाई. मानो बहादुरी का मेडल मिला है. इन तस्वीरों को पूरे देश ने देखा. यूपी पुलिस की काफी किरकिरी हुई.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर नई दिल्ली, 08 October 2018
10 अक्टूबरः यूपी पुलिस के जवान कर सकते हैं बड़ा आंदोलन! विवेक हत्याकांड के बाद आरोपी पुलिसकर्मी के समर्थन में पुलिसवाले लामबंद हो रहे हैं

एनकाउंटर से वाहवाही लूटने वाली यूपी पुलिस की इमेज को विवेक तिवारी कांड से धक्का लगा है. उस पर आरोपी के समर्थन में कुछ पुलिसवालों की लामबंदी ने और किरकिरी कर दी है. आलम ये है कि सख्ती के बावजूद विरोध की आग और भड़क रही है. वायरल मैसेज के जरिए पुलिस को उकसाया जा रहा है. 10 अक्टूबर को अगर वाकई यूपी पुलिस ने असहयोग आंदोलन छेड़ दिया तो मुश्किल हो जाएगी.

यूपी पुलिस की किरकिरी

खाकीवालों ने हाथ में काली पट्टी बांधकर खूब तस्वीरें खिंचवाई. मानो बहादुरी का मेडल मिला है. इन तस्वीरों को पूरे देश ने देखा. यूपी पुलिस की काफी किरकिरी हुई. ये विरोध पुलिस के इतिहास में काले अध्याय की तरह दर्ज हो गया है. सवाल उठने लगे कि क्या कानून के रखवालों ने ही कानून पर भरोसा नहीं है. पुलिस ही अनुशासन में नहीं रहेगी तो अपराध पर लगाम कैसे लगेगी? मामला इतना बड़ा कि योगी आदित्यनाथ ने नाराजगी जताई आधा अधिकारियों को फटकार लगाई. डीजीपी अब सफाई दे रहे हैं.

यूपी पुलिस का विरोध!

गाजीपुर, वाराणसी और लखनऊ. न जाने ऐसे ही कितने और शहर हैं, जहां पुलिसवालों ने प्रशांत के समर्थन में बागी तेवर दिखाए हैं. डिपोर्टमेंट के अंदर ही विरोध के स्वर ने पुलिस को हिला दिया. गाजीपुर में काली पट्टी पहने 13 पुलिसवालों की तस्वीर वायरल हुई. वाराणसी में पुलिस वेलफेयर एसोसिएशन से जुड़े पूर्व पुलिसकर्मियों ने प्रदर्शन किया और हत्या की जगह, गैर इरादतन हत्या का केस दर्ज करने की मांग की.

लखनऊ के अलावा कई और जिलों से भी ऐसी तस्वीरें आईं. जिसके बाद एक्शन के आदेश के साथ ड्रैमेज कंट्रोल की कोशिश शुरू हुई. 3 थानों के एसएचओ को हटा दिया गया. 4 कांस्टेबल को सस्पेंड कर दिया गया है. पुलिसवालों को भड़काने के आरोप में दो पूर्व पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया गया. ताजा कार्रवाई में गाजीपुर में सब इंस्पेक्टर और हेड कांस्टेबल समेत 11 पुलिसवालों को लाइनहाजिर किया गया है. दो सस्पेंड भी हुए.

सोशल मीडिया पर अभियान चलाने वालों पर केस दर्ज हुआ. ऐसी भी खबरें आई कि आरोपियों को लिए चंदा जमा किया जा रहा है. इस पर भी पुलिस सतर्क है. अंदरखाने आला अधिकारी पुलिसकर्मियों को समझा भी रहे हैं.

आरोपी का समर्थन क्यों?

मृतक विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी ने पुलिस वालों से अपील करते हुए कहा कि आरोपी सिपाही को समर्थन देने के पहले एक बार अपने दिल पर हाथ रख कर देखें कि पीड़ित कौन है, अन्याय किसके साथ हुआ है, कौन बेसहारा हुआ है. आरोपी को लेकर ही पुलिस के आला अधिकारियों और सिपाहियों के बीच टकराव दिख रहा. ये संदेश जा रहा है कि बड़े अधिकारियों के हाथ से चीजें निकल रही हैं. जाहिर है पुलिस महकमें के अंदर खींचतान किसी भी राज्य की सेहत के लिए अच्छी नहीं है. इसलिए जरूरत है कि जल्द ही चीजों को ट्रैक पर लाया जाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay