एडवांस्ड सर्च

यूपी-उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 110 हुई

इस मामले में लापरवाही का आरोप है. और आरोपों के कठघरे में है उत्तर प्रदेश औऱ उत्तराखंड की सरकारें. लिहाजा चेहरा छिपाने के लिए योगी आदित्यनाथ ने मामले की जांच के लिए SIT बनाने का निर्देश दिया है. तो उत्तराखंड की सरकार भी अब गंभीर नजर आ रही है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: परवेज़ सागर]नई दिल्ली, 12 February 2019
यूपी-उत्तराखंड में जहरीली शराब का कहर जारी, मरने वालों की संख्या 110 हुई जहरीली शराब से सहारनपुर में अब तक 80 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है (सभी फोटो- एम. शौकीन)

यूपी और उत्तराखंड में ज़हरीली शराब का कहर जारी है. अब तक 110 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है और मौत का ये सिलसिला अभी तक थमा नहीं है. क्योंकि दोनों ही राज्यों में ज़हरीली शराब बनाने का काम भी थम नहीं रहा है. अभी तक असली मौत के ठेकेदार भी पकड़े नहीं गए हैं. हां, ये बात अलग है कि सरकार ने इस ज़हरीली शराबकांड के लिए एसआईटी का गठन कर जांच शुरू कर दी है.

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में दर्जनों घरों में पसरे मातम का कोई हिसाब नहीं है. दोनों राज्यों में जहरीली शराब के जाम ने 110 से ज्यादा जिंदगियों को हमेशा की नींद सुला दिया. अब तक हजारों गिरफ्तारियां की गई. सैकड़ों कर्मचारी सस्पेंड किए गए. दर्जनों मामले दर्ज किए गए और हजारों लीटर अवैध शराब जब्त हुई. लेकिन नशे के ज़हर से हुई इन मौतों की भरपाई नहीं हो सकती है.

लापरवाही के आरोपों के कठघरे में उत्तर प्रदेश औऱ उत्तराखंड की सरकारें खड़ी हैं. लिहाजा चेहरा छिपाने के लिए योगी आदित्यनाथ ने मामले की जांच के लिए SIT बनाने का निर्देश दिया है. SIT की अगुवाई रेलवे पुलिस के ADG संजय सिंघल करेंगे. SIT सहारनपुर और कुशीनगर में जहरीली शराब से हुई मौतौं की जांच के बाद उसकी रिपोर्ट सरकार को सौंपेंगे.

योगी सरकार ने पुलिस और उत्पाद विभाग को आदेश दिया है कि 15 दिनों के भीतर शराब माफियाओं कर ठोस कार्रवाई करें. अकेले उत्तर प्रदेश में ही 80 से ज्यादा लोग अपनी जान गवां चुके हैं, जबकि उत्तराखंड के रुड़की में 30 से ज्यादा मौत हुई हैं. इस मामले में अब तक 3049 लोग गिरफ्तार किए गए हैं. 297 केस दर्ज किए गए. 79 हज़ार लीटर से ज्यादा अवैध शराब जब्त की गई है.

wine death

ऐसे कच्ची शराब बन जाती है जहरीली

कच्ची शराब बनाने की प्रक्रिया के बारे में सुनकर आप हैरान हो उठेंगे. कच्ची शराब को बनाने के लिए मुख्य तौर पर महुए की लहन का इस्तेमाल किया जाता है. इसके अलावा गुड़ में ईस्ट और यूरिया मिलाकर इसे मिट्टी में गाड़ दिया जाता है. ये लहन उठने पर इसे भट्टी पर चढ़ा दिया जाता है. गर्म होने के बाद जब भाप उठती है. तो उससे शराब उतारी जाती है. इसके अलावा संतरे और अंगूर से भी लहन तैयार किया जाता है. कहीं-कहीं इसमें नौसादर और यूरिया भी मिलाया जाता है.

शराब को ज़्यादा नशीली बनाने के लिए इसमें ऑक्सिटोसिन मिला दिया जाता है. जिसकी वजह से ये अक्सर जहरीली हो जाती है. जो मौत का कारण बनती है. दरअसल, कच्ची शराब में यूरिया और ऑक्सिटोसिन जैसे केमिकल मिलाने की वजह से मिथाइल एल्कोल्हल बन जाता है. मिथाइल शरीर में जाते ही तेज केमि‍कल रि‍एक्शन होता है. इससे शरीर के अंदरूनी अंग काम करना बंद कर देते हैं.

अब उत्तर प्रदेश के उत्पाद मंत्री जय प्रताप सिंह कह रहे हैं कि शराबकांड में जो गुनहगार होगा उसे कतई बख्शा नहीं जाएगा. बहरहाल, सैकड़ों मौतों के बाद सरकार एक्शन में तो आई है, लेकिन काश ये नींद इस हादसे से पहले टूटी होती तो शायद मौत की ये गिनती बहुत कम होती. या फिर वो लोग आज जिंदा होते.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay