एडवांस्ड सर्च

यूपी पुलिस के अजब एनकाउंटर, 478 बदमाशों के पैर में ही लगी पुलिस की गोली

अब यूपी पुलिस की गोली से बदमाश मरते नहीं बल्कि घायल होते हैं. उन्हें गोली लगती है वह भी सिर्फ पैर में. हर मुठभेड़ में निशाना होता है बदमाश का पैर, चाहे वो भाग रहा हो, या फिर पैदल हो या बाइक पर सवार हो.

Advertisement
aajtak.in
अरविंद ओझा / परवेज़ सागर नई दिल्ली, 13 September 2019
यूपी पुलिस के अजब एनकाउंटर, 478 बदमाशों के पैर में ही लगी पुलिस की गोली यूपी पुलिस के एनकाउंटर लगातार सवालों के घेरे में रहे हैं (फाइल फोटो)

उत्तर प्रदेश में योगी सरकार आने के बाद सूबे की पुलिस ने एक के बाद एक ताबड़तोड़ एनकाउंटर किए. कई मुजरिमों को मौत के घाट उतार दिया. एनकाउंटर का वो सिलसिला अभी तक जारी है. फर्क सिर्फ इतना है कि अब पुलिस की गोली से बदमाश अब मरते नहीं सिर्फ घायल होते हैं. उन्हें गोली तो लगती है लेकिन सिर्फ पैर में. हर मुठभेड़ में निशाना होता है बदमाश का पांव, चाहे वो भाग रहा हो, या फिर पैदल हो. बाइक पर सवार हो या फिर गाड़ी पर चल रहा हो. यूपी पुलिस की गोली सीधे बदमाश के पांव में ही लगती है. खास बात ये कि सभी बदमाशों के एनकाउंटर की कहानी भी एक जैसी होती है.

12 सितम्बर 2019

नोएडा पुलिस की देर रात तकरीबन 1 बजे शातिर बदमाश आतिश पादरी से मुठभेड़ हुई. मुठभेड़ में उसे पैर में गोली लगी फिर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के मुताबिक आतिश पादरी मध्य प्रदेश का रहने वाला है. नोएडा समेत एनसीआर में लूट की वारदात को अंजाम दे रहा था. पुलिस को सूचना मिली की वो वारदात को अंजाम देने आ रहा है. पुलिस ने उसे घेरा और रोकने की कोशिश की. उसने भागने की कोशिश की. पुलिस ने गोली चलाई जो उसके पैर में जा लगी.

11 सितम्बर 2019

गाजियाबाद के मसूरी इलाके में शाम के तकरीबन साढ़े 5 बजे 25 हजार के इनामी बदमाश मोहसिन के साथ पुलिस की मुठभेड़ हुई. मोहसिन के पैर में गोली लगी. पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के मुताबिक मोहसिन उत्तराखंड में मोबाइल के शो रूम में हुई करोड़ों की चोरी में शामिल था. पुलिस को ख़बर मिली थी कि वो मसूरी इलाके में है. चेकिंग के दौरान मोहसिन को पुलिस ने रोकने की कोशिश की. उसने भागने की कोशिश की. पुलिस ने गोली चलाई जो जाकर सीधे उसके पैर में लगी.

10 सितम्बर 2019

ग्रेटर नोएडा के सूरजपुर इलाके में शाम के तकरीबन साढ़े 5 बजे 2 शातिर हत्यारों से पुलिस की मुठभेड़ हुई. इसमें सुखमीत और योगेश नाम के बदमाशों के पैर में गोली लगी. फिर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया. पुलिस के मुताबिक दोनों दादरी में हुए एक मर्डर के मामले में वॉन्टेड थे. पुलिस को सूरजपुर इलाके में दोनों के आने की ख़बर थी. पुलिस ने दोनों को पकड़ने की कोशिश की. इस दौरान मुठभेड़ हो गई. पुलिस ने गोली चलाई और फिर दोनों के पैर में जाकर गोली लगी.

9 सितम्बर 2019

गाजियाबाद पुलिस सिहानीगेट इलाके में चेकिंग कर रही थी. उसी दौरान बावरिया गिरोह के अजीत बावरिया से पुलिस का आमना सामना हो गया. मुठभेड़ हो गई. पुलिस ने गोली चलाई. अजीत के पैर में गोली लगी. उसके बाद पुलिस ने उसे गिरफ्तार किया. पुलिस का दावा था कि इस दौरान उसका एक साथी फरार हो गया.

यूपी पुलिस के एक जैसे एनकाउंटर

ये सारे एनकाउंटर उत्तर प्रदेश पुलिस ने किए हैं. लगभग हर मुठभेड़ में पुलिस का निशाना इतना सटीक रहा कि बदमाशों के पैर में ही गोली लगी. लगभग हर मुठभेड़ में पुलिस की कहानी मिलती जुलती ही लगती है. सवाल ये है कि 100 में से 98 मुठभेड़ों में बदमाशों के पैर में ही गोली क्यों लगती है. योगी सरकार ने यूपी पुलिस को बदमाशों के एनकाउंटर की खुली छूट दे रखी है.

पश्चिमी उत्तर प्रदेश की बात करें तो मेरठ रेंज पुलिस ने 1 जनवरी 2019 से लेकर 11 सितम्बर 2019 तक यानी 9 महिने में 674 एनकाउंटर किए. जिनमें 1142 आरोपी बदमाश गिरफ्तार किए गए. एनकाउंटर के दौरान 478 बदमाश घायल हुए यानी इन 478 बदमाशों के साथ एनकाउंटर में पुलिस का निशाना सटीक रहा और सभी के पैर में ही गोलियां लगीं. 19 बदमाशों की एनकाउंटर के दौरान पुलिस की गोली लगने से मौत हुई. पुलिस का दावा है कि इस दौरान 132 पुलिस वाले भी घायल हुए हैं.

सवालों पर पुलिस का जवाब

यूपी पुलिस के एनकाउंटर पर कई बार सवाल उठते रहे हैं. खासकर एक तरह से लगभग हर एनकाउंटर की बनी बनाई स्क्रिप्ट पर और बदमाशों के पैर में गोली लगने पर. मेरठ रेंज के एडीजी प्रशांत कुमार ने आज तक से बातचीत में कहा कि कौन सवाल उठा रहा है कि पैर में ही गोली क्यों लगती है. अगर बदमाश सवाल उठाते हैं तो कौन बदमाश पुलिस पर सवाल नहीं उठाता. एनकाउंटर के बाद जिन बदमाशों के पैर में गोली लगती है. उनका अस्पताल में इलाज करवाया जाता है. उसके बाद जेल भेज दिया जाता है. बेल मिलने पर वो बाहर आ जाते हैं और सभी के पैर सही सलामत ही रहते हैं.

योगी सरकार के आने के बाद यूपी पुलिस के दनादन होने वाले एनकाउंटर का मामला सुप्रीम कोर्ट तक गया था. हालांकि यूपी पुलिस ने उस पर भी जवाब दे दिया था. लेकिन यूपी के मुख्यमंत्री ने यूपी पुलिस को बदमाशों पर जरुरत पड़ने पर गोली चलाने की खुली छूट दे रखी है. तो सवाल उठता है कि क्या पुलिस वाले अपने नंबर बनाने के चक्कर में बदमाशों को पकड़कर पैर में गोली मारकर गिरफ्तार करने के आदी तो नहीं हो रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay