एडवांस्ड सर्च

पिता की शिकायत लेकर थाने पहुंचे मासूम को पुलिस ले गई घुमाने

इटावा के कोतवाली थाने में 31 दिसंबर को एक 11 वर्षीय नाबालिग बच्चा पहुंचा और पुलिस से अपने पिता की शिकायत कर उन्हें डांटने के लिए कहने लगा. इटावा पुलिस बच्चे की शिकायत पर खुद उसे मेला घुमाने निकल पड़ी.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: आशुतोष]इटावा, 07 January 2018
पिता की शिकायत लेकर थाने पहुंचे मासूम को पुलिस ले गई घुमाने पुलिस के साथ मेला घूमता बच्चा

उत्तर प्रदेश के इटावा में एक मासूम बच्चे द्वारा अपने पिता की मेला न घुमाने को लेकर पुलिस से शिकायत करने का हैरान करने वाला मामला सामने आया है. सबसे अच्छी बात यह रही कि पुलिस ने भी संवेदनशीलता का परिचय देते हुए न सिर्फ मासूम की अच्छी तरह शिकायत सुनी बल्कि ऐसा उपाय निकाला, जिसे देखकर पुलिस के प्रति लोगों की आम धारणा बदल जाएगी.

दरअसल इटावा पुलिस बच्चे की शिकायत पर खुद उसे मेला घुमाने निकल पड़ी. मामला इटावा के कोतवाली थाना क्षेत्र का है. 31 दिसंबर को एक 11 वर्षीय नाबालिग बच्चा कोतवाली थाने पहुंचा और पुलिस से अपने पिता की शिकायत कर उन्हें डांटने के लिए कहने लगा.

बच्चे ने पुलिस से कहा कि उसके पिता उसे नुमाइश घुमाने नहीं ले जा रहे और पुलिस चलकर उन्हें डांटे ताकि वह उसे नुमाइश घुमाएं. बच्चे ने बताया कि उसने जब अपने पिता से नुमाइश घुमाने के लिए कहा तो उसकी पिटाई हुई.

इटावा पुलिस ने अपने ऑफिशियल ट्विटर पर बच्चे के साथ कई वीडियो और तस्वीरें शेयर की हैं. एक वीडियो में देखा जा सकता है कि मासूम पिता की शिकायत करते करते रुआंसा हो जाता है. वह पुलिस ने अपनी पिता की पिटाई करने के लिए भी कहता है.

पुलिस ने जब पूछा कि वह पिता की शिकायत करने क्यों आया है तो बच्चे ने बताया कि उसके पिता ने धमकी दी है कि जो कर पाओ कर लो, लेकिन वह उसे नुमाइश घुमाने नहीं ले जाएंगे. पिता की इसी बात पर गुस्से में बच्चा पुलिस थाने पहुंच गया पिता की शिकायत करने.

बच्चे की शिकायत पर इटावा पुलिस को कुछ नया करने की सूझी और पुलिस टीम ने न सिर्फ शिकायत करने वाले बच्चे को बल्कि वंचित तबके के कई बच्चों को अपने साथ मेले में घुमाने ले गई.

इटावा सिविल लाइन थाने के प्रभारी नीरिक्षक संजय कुमार त्यागी का इस पर कहना है कि समाज के ऐसे तबके के बच्चे जो कभी नुमाइश या मेला घूमने नहीं जा पाते, उन्हें हमारी टीम ने चिह्नित कर मेला घुमाने का फैसला किया. इसका उद्देश्य यही था कि समाज के वंचित तबके के बच्चे भी नुमाइश या मेला घूमने और झूला झूलने की ख्वाहिश पूरी कर सकें.

वहीं कोतवाली थाना के प्रभारी नीरिक्षक अनिल कुमार ने बताया कि 31 दिसंबर को ओम नारायण गुप्ता नाम का बच्चा थाने पर आया और नुमाइश न घुमाने को लेकर अपने माता पिता की शिकायत करने लगा. बच्चे का शिकायती वीडियो वायरल होने के बाद आज रविवार को हमारी पुलिस टीम ने SSP के आदेश पर वंचित तबके के बच्चों को नुमाइश घुमाने ले गए.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay