एडवांस्ड सर्च

गाजियाबाद: डासना जेल में बंद 77 साल के विचाराधीन कैदी की संदिग्ध मौत

छोटी बच्ची से छेड़छाड़ के आरोपी में 77 साल के एक बुजुर्ग 25 दिसंबर से गाज‍ियाबाद की डासना जेल में बंद थे. जेल में ही अचानक उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी और उनका स्वास्थ्य गिरने लगा. इसके बाद उन्हें एमएमजी अस्पताल भेजा गया जहा डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

Advertisement
तनसीम हैदर [Edited By: श्‍यामसुंदर गोयल ]नई दिल्ली, 05 January 2019
गाजियाबाद: डासना जेल में बंद 77 साल के विचाराधीन कैदी की संदिग्ध मौत प्रतीकात्‍मक फोटो

गाजियाबाद की डासना जेल में बंद 77 साल के विचाराधीन कैदी की संदिग्ध हालात में मौत हो गई. गुरुवार को दोपहर अचानक जेल में बन्द बुजुर्ग कैदी की तब‍ीयत बिगड़ गई, जिसके बाद उन्हें गाजियाबाद के जिला अस्पताल एमएमजी में भेजा गया. यहां  उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई. बुजुर्ग कैदी को इंदिरापुरम थाने से लिफ्ट में बच्ची के साथ छेड़छाड़ करने के आरोप में गिरफ्तार करके जेल भेजा गया था.

77 साल के मृतक बुजुर्ग वासु भार्गव इंदिरापुरम की एसपीएस रेजिडेंसी में रहते थे. बुजुर्ग पर 24 दिसम्बर को सोसायटी की लिफ्ट में एक बच्ची के साथ छेड़खानी करने के आरोप बच्ची के परिवार ने लगाया था और स्थानीय पुलिस से घटना की शिकायत की थी जिसके बाद इंदिरापुरम पुलिस ने 25 दिसम्बर को आरोपी बुजुर्ग को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया था.

जेल में गुरुवार को दोपहर करीब 1 बजे वासु की तबीयत अचानक खराब हो गई जिसके बाद उन्हें तुरंत जेल के अस्पताल ले जाया गया. हालत गंभीर होने पर उन्हें जिला एमएमजी अस्पताल रेफर कर दिया गया. एमएमजी अस्पताल की इमरजेंसी में उपचार के दौरान वासु ने दम तोड़ दिया. अस्पताल प्रबंधन की ओर से मामले की सूचना कोतवाली पुलिस को दी गई. पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है.

इस मामले में जेल अधीक्षक दधिराम मौर्या ने बताया कि दोपहर में वासु ने सीने में दर्द की शिकायत की थी, जिसके बाद तुरंत उन्हें उपचार के लिए भेजा गया. अस्पताल में उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई.

छोटी बच्ची से छेड़छाड़ के आरोपी भार्गव 25 दिसंबर से जेल में बंद थे और जेल में ही अचानक उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी और उनका स्वास्थ्य गिरने लगा. इसके बाद उन्हें एमएमजी अस्पताल भेजा गया जहा डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

इलाज करने वाले डॉक्टरों के अनुसार जब वह अस्पताल पहुंचे तो उन्हें इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया, लेकिन तब तक उनकी पल्स चलना बंद हो चुकी थी. उसके बाद उन्हें मृत घोषित किया गया. हालांकि अब, पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत के असल वजह की जानकारी हो पाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay