एडवांस्ड सर्च

कसौली गोलीकांड में घायल हुए गुलाब सिंह ने अस्पताल में दम तोड़ा

हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कसौली में अवैध निर्माण गिराने के लिए शुरू की गई सुप्रीम कोर्ट की मुहिम को एक बार फिर से झटका लगा है. 1 मई को कसौली में हुए गोली कांड में घायल लोक निर्माण विभाग के कर्मचारी गुलाब सिंह ठाकुर की शनिवार रात को पीजीआई चंडीगढ़ में मौत हो गई है.

Advertisement
मनजीत सहगल [Edited by: मुकेश कुमार गजेंद्र]चंडीगढ़, 13 May 2018
कसौली गोलीकांड में घायल हुए गुलाब सिंह ने अस्पताल में दम तोड़ा अस्पताल में भर्ती गुलाब सिंह (फाइल फोटो)

हिमाचल प्रदेश के प्रसिद्ध पर्यटन स्थल कसौली में सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर अवैध निर्माण गिराने के दौरान 1 मई को हुई गोलीबारी में एक और मौत हो गई है. कसौली में हुए गोली कांड में घायल लोक निर्माण विभाग के कर्मचारी गुलाब सिंह ठाकुर की शनिवार रात को पीजीआई चंडीगढ़ में मौत हो गई.

54 साल के गुलाब सिंह को 1 मई के दिन छाती पर गोली लगी थी. इसके बाद उनको गंभीर अवस्था में चंडीगढ़ के पीजीआई में भर्ती करवाया गया था. गुलाब सिंह की मौत की पुष्टि करते हुए हिमाचल सरकार के अधिकारियों ने आजतक को बताया कि गुलाब सिंह की तबीयत अचानक शुक्रवार को बिगड़ गई थी.

सहायक कमिश्नर प्रोटोकॉल सुरेंद्र जसवाल ने कहा 3 दिनों से वह जीवन और मौत के बीच झूल रहे थे. उनको छाती की दाहिनी और गोली लगी थी. गोली छाती से होते हुए उनके पेट से बाहर निकल गई थी. घाव बहुत गहरा था, लेकिन इसके बावजूद वह कुछ दिनों तक ठीक रहे. अचानक हालत बिगड़ी और उनका निधन हो गया.

लोक निर्माण विभाग के सब डिविजनल अधिकारी रंजन कुमार गुप्ता के मुताबिक गुलाब सिंह विभाग के चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी थे. वह अवैध निर्माण गिराने के लिए गठित की गई एक टीम का हिस्सा थे. वह कसौली गोली कांड में मारी गई सहायक टाउन और कंट्री प्लानिंग अधिकारी शैलबाला शर्मा के साथ मौजूद थे.

रंजन कुमार गुप्ता ने बताया कि गुलाब सिंह एक ईमानदार कर्मचारी थे और उन्होंने कभी भी किसी काम के लिए इनकार नहीं किया. वह हर काम के लिए हमेशा सबसे पहले आते थे. गोली लगने के बाद पहले दिन से ही हम उनके साथ चंडीगढ़ के पीजीआई में थे. उनकी हालत कई दिनों तक स्थिर बनी रही.

शुक्रवार रात सवा दस बजे के करीब उनकी हालत बिगड़ गई. वह 3 दिनों तक गंभीर हालत में रहे और शनिवार करीब 11 बजे उन्होंने आखिरी सांस ली. उनकी एक पत्नी और दो बेटियां हैं. गुलाब सिंह के भतीजे लेखराज ने कहा कि उनकी मृत्यु से सारा गांव सदमे में है. उनकी नौकरी में 5 साल बचे हुए थे.

उन्होंने बताया कि गुलाब सिंह सोलन के धर्मपुर के करीब एक गांव में रहते थे. वह अपनी दोनों बेटियों को शिक्षित करना चाहते थे. अपने परिवार के लिए एक घर बनाना चाहते थे. उनका यह सपना अधूरा रह गया. उनकी बड़ी बेटी स्नातक है, जबकि छोटी बेटी अभी कॉलेज में प्रथम वर्ष की छात्रा है.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay