एडवांस्ड सर्च

बेरोजगारी में मुंबई की बार डांसर बनी ड्रग पैडलर, साथी समेत पुणे में गिरफ्तार

30 साल की इस महिला का कहना है कि पिछले तीन महीने से उसके पास कोई काम नहीं था, इसीलिए उसने ड्रग्स की खेप पहुंचाने का रास्ता चुना. महिला के साथ उसके एक सहयोगी को भी गिरफ्तार किया गया है.

Advertisement
aajtak.in
पंकज खेलकर / परवेज़ सागर पुणे, 13 July 2020
बेरोजगारी में मुंबई की बार डांसर बनी ड्रग पैडलर, साथी समेत पुणे में गिरफ्तार हेमा और उसके साथी के पास से लाखों रुपये की ड्रग बरामद हुई है (फोटो- पंकज)

  • 3.3 लाख रुपये की मेफेड्रोन लेकर गई थी पुणे
  • पुलिस की एंटी नारकोटिक्स शाखा ने किया गिरफ्तार

मुंबई में बार डांसर रह चुकी एक महिला को पुणे पुलिस के एंटी नारकोटिक्स दल ने ड्रग सप्लाई के आरोप में गिरफ्तार किया है. 30 साल की इस महिला का कहना है कि पिछले तीन महीने से उसके पास कोई काम नहीं था, इसीलिए उसने ड्रग्स की खेप पहुंचाने का रास्ता चुना. महिला के साथ उसके एक सहयोगी को भी गिरफ्तार किया गया है. इनके पास से मेफेड्रोन ड्रग जब्त की गई जिसकी कीमत 3.3 लाख रुपए बताई गई है.

शुरुआती जांच के दौरान गिरफ्तार महिला हेमा ने बताया कि “लॉकडाउन अवधि में कोई काम नहीं होने की वजह से वो पैसे-पैसे को मोहताज हो गई थी. लॉकडाउन की बंदिशें कम हुईं तो मुझे पुणे ड्रग की खेप पहुंचाने के लिए कहा गया. मुझे एक आदमी के साथ रहने का नाटक करने को भी कहा गया जिससे किसी को शक न हो.”

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्लिक करें

पुणे में शनिवार शाम को नेशनल इंश्योरेंस एकेडमी के पास पुलिस गश्त के दौरान महिला और उसके सहयोगी को सदानंद होटल की ओर जाते हुए देखा गया. पुलिस को शक होने पर दोनों से पूछताछ की गई तो वो संतोषजनक जवाब नहीं दे सके. इन दोनों की पहचान विवेक तुलसीराम लुल्ला (43) और हेमा किशनलाल सिंह (30) के तौर पर हुई. दोनों ने बताया कि उन्होंने नवी मुंबई से पुणे तक टैक्सी से यात्रा की नेशनल इंश्योरेंस अकादमी के ठीक पहले उतर गए. दोनों शहर में मेफेड्रोन की अवैध खेप पहुंचाने के लिए आए थे.

एंटी नारकोटिक्स शाखा के अतिरिक्त सीपी अशोक मोराले और डीसीपी बच्चन सिंह के निर्देशों पर इस कार्रवाई को अंजाम दिया. NDPS एक्ट की धारा 8, 21, 22 और 29 के तहत केस दर्ज किया गया है. एंटी नारकोटिक्स शाखा में पुलिस निरीक्षक विजय टिकोले में एक एएसआई, 2 कांस्टेबल और एक महिला कॉन्स्टेबल शामिल थे जिन्होंने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया. आरोपियों को रविवार को अवकाश अदालत में पेश किया गया. दोनों को 2 दिन के पुलिस रिमांड में भेज दिया गया.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

पुलिस इनसे पूछताछ के जरिए ड्रग पैडलिंग गैंग के किंगपिन तक पहुंचना चाहती है. जांच अधिकारी विजय टिकोले के मुताबिक आरोपी महिला ने कबूल किया कि वो पिछले 3-4 महीनों से ड्रग पैडलिंग से जुड़े लोगों के संपर्क में थी. पुलिस पूछताछ में ये भी पता लगाने की कोशिश करेगी कि पुणे में ड्रग की खेप कहां पहुंचाई जानी थी. उस टैक्सी ड्राइवर से पूछताछ की जाएगी जो इन दोनों आरोपियों को पुणे लेकर आया. दोनों आरोपियों की मोबाइल कॉल रिपोर्ट भी खंगाली जा रही है. पुणे में हाल में ये मेफेड्रोन की जब्ती का तीसरा मामला है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay