एडवांस्ड सर्च

बृजेश ठाकुर से जुड़े हैं मनीषा दयाल के तार, पुलिस ने पूछे 15 सवाल

मनीषा दयाल पटना में एक कार्यक्रम आयोजित करती है, और उसकी ख़बर मुजफ्फरपुर के एक स्थानीय अखबार में फोटो समेत छपती है. बसी यही वो बात थी, जिसने पुलिस को सोचने पर मजबूर कर दिया. दरअसल, वो अखबार मुजफ्फरपुर कांड के मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर का है.

Advertisement
रोहित कुमार सिंह [Edited by: परवेज़ सागर]पटना, 14 August 2018
बृजेश ठाकुर से जुड़े हैं मनीषा दयाल के तार, पुलिस ने पूछे 15 सवाल  पुलिस लगातार मनीषा दयाल से पूछताछ कर रही है

पटना के आसरा शेल्टर होम की संचालिका मनीषा दयाल को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है. उसके तार मुजफ्फरपुर कांड के मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर से भी जुड़े हैं. बता दें कि शेल्टर होम में दो महिलाओं की संदिग्ध हालत में मौत हो जाने के मामले में मनीषा फिलहाल पुलिस की हिरासत में है. पुलिस उससे पूछताछ कर रही है.

पुलिस ने मनीषा दयाल को 3 दिन की रिमांड पर लेकर उससे पूछताछ शुरु कर दी है. देर रात तक पुलिस ने मनीषा से कई सवाल पूछे. जांच के दौरान अधिकारियों को पता चला कि आसरा शेल्टर होम की संचालिका मनीषा दयाल का कनेक्शन मुजफ्फरपुर कांड के मुख्य आरोपी बृजेश ठाकुर के साथ है.

आरोपी बृजेश ठाकुर मुजफ्फरपुर से ही प्रातः कमल नाम का हिंदी अखबार चलाता था. मुजफ्फरपुर कांड के सिलसिले में 31 मई को बृजेश ठाकुर गिरफ्तार हो गया था, मगर उसका अखबार 6 अगस्त तक निरंतर चलता रहा.

इसी दौरान 31 मई को मनीषा दयाल के NGO अनु माया ह्यूमन रिसोर्स फाउंडेशन ने पटना में एक कार्यक्रम का आयोजन किया था. यह अवार्ड महिलाओं को सम्मानित करने के लिए था. इस कार्यक्रम का नाम पिंकशी पावर वूमेन अवार्ड था.

दिलचस्प बात यह है कि पटना में हुआ यह कार्यक्रम अगले दिन प्रातः कमल अखबार की पेज 3 की खबर बन जाता है. प्रातः कमल अखबार के तीसरे पेज पर यह खबर प्रमुखता से छापी गई है, जिसमें मनीषा दयाल की तस्वीर भी है.

ऐसे में सवाल उठता है कि पटना में हुए एक कार्यक्रम की खबर आखिर मुजफ्फरपुर से प्रकाशित होने वाले स्थानीय अखबार प्रातः कमल में आखिर कोई क्यों छापेगा और इससे उसे क्या फायदा होगा?

तो बात साफ है कि मनीषा दयाल का बृजेश ठाकुर से कनेक्शन था, जिसकी वजह से बृजेश ठाकुर के अखबार में पटना में उसके इस कार्यक्रम की खबर अपने अखबार में प्रमुखता से छापी थी.

मनीषा दयाल से पुलिस ने पूछे ये सवाल-

1. पटना आसरा शेल्टर होम के अलावा आप कितने एनजीओ के साथ जुड़ी हुई हैं?

2. 2016 तक आप एक ngo में नौकरी करती थी फिर उसी साल आपने खुद का NGO की शुरुआत कैसे की?

3. खुद का एनजीओ खोलने के लिए आपके पास पैसे कहां से आए?

4. जिन NGO से आप जुड़ी है उसकी फंडिंग कहां से होती है?

5. आसरा शेल्टर होम को कितना फंड मिलता था?

6. आसरा शेल्टर होम को मिलने वाला अनुदान का पैसा किसको किसको जाता था? अनुदान को किस तरीके से खर्च किया जाता था? सूत्रों के मुताबिक अनुदान मिलने वाला बड़ा हिस्सा मनीषा दयाल और चिरंतन कुमार हड़प लिया करते थे.

7. बिहार के किन किन राजनेताओं के साथ आपके कनेक्शन है? नेताओं और मंत्रियों के लिए आप बड़ी पार्टियां क्यों दिया करती थी?

8. बिहार सरकार के किन रसूखदार अधिकारियों के साथ आपका उठना बैठना है जिसका फायदा उठाकर आप भारी भरकम अनुदान लिया करती थी?

9. बिहार के कई आईएएस अधिकारियों की पत्नियों के साथ आपके कैसे रिश्ते हैं? आप उनके लिए लगातार बड़ी पार्टियां और किटी पार्टी क्यों दिया करते थे?

10. आसरा शेल्टर होम में रात के वक्त कौन लोग आया करते थे? पड़ोसियों ने बताया है कि रात 11 बजे के बाद बड़ी बड़ी गाड़ियों में लोगों का आना जाना था? क्या आश्रम की लड़कियों को देर रात बाहर भी भेजा जाता था?

11. पड़ोसियों ने बताया है कि देर रात Swift कार में अक्सर एक व्यक्ति आया करता था? वह व्यक्ति कौन है?

12. कल सुबह तक आपका फेसबुक अकाउंट चल रहा था रात में इसे डीएक्टिवेट किसने किया? सवाल यह है कि जब मनीषा पुलिस की हिरासत में थी तो फिर उसका फेसबुक अकाउंट किसने डीएक्टिवेट किया?

13. आपका फेसबुक अकाउंट आपके अलावा और कौन हैंडल करता है?

14. NGO चलाने के अलावा क्या काम करती हैं? जानकारी है कि मनीषा इवेंट मैनेजमेंट का काम करती है. जिसने 2017 में पटना में कॉर्पोरेट क्रिकेट लीग और फिर 2018 में भी कॉर्पोरेट क्रिकेट लीग का आयोजन किया था?

15. आसरा होम के मालिक चिरंतन कुमार के साथ आपका क्या रिश्ता है?

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay