एडवांस्ड सर्च

केरलः HC ने नन के साथ रेप मामले की पुलिस जांच पर जताई संतुष्टि

केरल हाईकोर्ट ने गुरुवार को नन रेप केस में जारी जांच प्रक्रिया पर संतुष्टि जताई है. वहीं डीएसपी ने केरल हाईकोर्ट में शपथ पत्र की कॉपी दाखिल करते हुए बताया कि बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने ही इस घटना को अंजाम दिया.

Advertisement
aajtak.in
सुरेंद्र कुमार वर्मा नई दिल्ली, 13 September 2018
केरलः HC ने नन के साथ रेप मामले की पुलिस जांच पर जताई संतुष्टि बिशप फ्रैंको मुलक्कल (एएनआई)

केरल हाईकोर्ट ने गुरुवार को नन रेप केस में जारी जांच प्रक्रिया पर संतुष्टि जताई है. मुख्य न्यायाधीश ऋषिकेश राय और एके जयसंकरन नांबियार की बेंच ने 3 अलग-अलग याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए कहा कि जांच सही दिशा में चल रही है.

दाखिल याचिकाओं में जांच पर असंतुष्टि जताई गई थी. एक याचिका में मामले की जांच सीबीआई से कराए जाने की मांग की गई थी.

इससे पहले केरल में नन के साथ रेप किए जाने के मामले में बड़ा खुलासा हुआ है. आजतक/इंडिया टुडे के हाथ उस शपथ पत्र की कॉपी लगी, जिसे वैकोम के डीएसपी ने केरल हाईकोर्ट में दाखिल करते हुए बताया कि बिशप फ्रैंको मुलक्कल ने ही इस घटना को अंजाम दिया.

वैकोम के डीएसपी के. सुभाष की ओर से हाईकोर्ट में दाखिल किए गए हलफनामे के मुताबिक अब तक की जांच और जमा किए गए साक्ष्यों के अनुसार पता चला है कि आरोपी बिशप फ्रैंको ने इस ही इस जुर्म को अंजाम दिया और कई वर्ष तक इच्छा के विरुद्ध जाकर बार-बार नन के साथ बलात्कार किया.

आरोपी ने जालंधर के बिशप के रूप में उनके प्रभाव का दुरुपयोग किया और सेंट फ्रुंकिस मिशन होम कुरविलंगद के गेस्ट हाउस में कमरा संख्या 20 में इस कृत्य को अंजाम दिया. इस संबंध में 10 अगस्त 2018 को वैकोम के डीएसपी सुभाष ने हाईकोर्ट में हलफनामा दाखिल किया था.

इससे पहले केरल में नन के साथ रेप मामले में पुलिस ने 28 जून एफआईआर दर्ज कर लिया था. केरल पुलिस ने आरोपी बिशप पर इंडियन पीनल कोड (आईपीसी) की धारा  342, 376 (2)(के), 376 (2) (एन), 377 और 506 के तहत मामला दर्ज किया था.

दूसरी ओर, नन से रेप के मामले में आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल की गिरफ्तारी की मांग तेज हो गई है. पीड़ित नन ने अब वेटिकन सिटी में पोप के एंबेसडर को पत्र लिखकर अपनी शिकायत दर्ज कराई है. पत्र में कहा गया है कि बिशप ने अपने पैसे और राजनीतिक ताकत का इस्तेमाल इस केस को दबाने के लिए किया है, साथ ही पोप से इस मामले में तुरंत दखल की मांग की गई है.

नन ने 7 पन्ने के अपने पत्र में आरोप लगाया कि बिशप मुलक्कल ने साल 2014 से 2016 के बीच उसका शारीरिक उत्पीड़न किया. साथ ही यह भी बताया कि वह किस-किस के पास मदद के लिए गई, लेकिन उसकी मदद के लिए कोई भी आगे नहीं आया. पीड़िता ने पोप से इस मामले में दखल देकर न्याय की गुहार लगाई है. वेटिकन सिटी के पोप दुनियाभर में सबसे बड़े ईसाई धर्मगुरू हैं.

उधर, कार्डिनल ने निष्पक्ष जांच के लिए देशभर की चर्च के अधिकारियों से बात कर फ्रैंको मुलक्कल को बिशप के पद से तुरंत हटाने की मांग की है.

इस बीच आरोपी बिशप ने नन के साथ रेप के आरोपों को निराधार बताया. उन्होंने कहा कि पुलिस ने 9 घंटे मुझसे पूछताछ की लेकिन नन बार-बार अपना बयान बदल रही हैं. अब पुलिस तय करेगी कि आखिर कौन सच बोल रहा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay