एडवांस्ड सर्च

वेटिकन पहुंचा नन से रेप का मामला, पीड़िता ने पोप से लगाई न्याय की गुहार

पत्र में कहा गया है कि बिशप ने अपने पैसे और राजनीतिक ताकत का इस्तेमाल इस केस को दबाने के लिए किया है, साथ ही पोप से इस मामले में तुरंत दखल की मांग की गई है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: अनुग्रह मिश्र]नई दिल्ली, 11 September 2018
वेटिकन पहुंचा नन से रेप का मामला, पीड़िता ने पोप से लगाई न्याय की गुहार प्रदर्शन करतीं नन

केरल की नन से रेप के मामले में आरोपी बिशप फ्रैंको मुलक्कल की गिरफ्तारी की मांग तेज हो गई है. पीड़ित नन ने अब वेटिकन सिटी में पोप के एंबेसडर को पत्र लिखकर अपनी शिकायत दर्ज कराई है. इस पत्र में कहा गया है कि बिशप ने अपने पैसे और राजनीतिक ताकत का इस्तेमाल इस केस को दबाने के लिए किया है, साथ ही पोप से इस मामले में तुरंत दखल की मांग की गई है.

नन ने 7 पेजों के अपने पत्र में कहा है कि बिशप मुलक्कल ने साल 2014 से 2016 के बीच उसका शारीरिक उत्पीड़न किया. साथ ही यह भी बताया कि वह किस-किस के पास मदद के लिए गई, लेकिन उसकी मदद के लिए कोई भी आगे नहीं आया. पीड़िता ने पोप से इस मामले में दखल देकर न्याय की गुहार लगाई है. वेटिकन सिटी के पोप दुनियाभर में सबसे बड़े ईसाई धर्मगुरू हैं.

बिशप को पद से हटाने की मांग

उधर, कार्डिनल ने देशभर की चर्च के अधिकारियों से बात कर फ्रैंको मुलक्कल को बिशप के पद से तुरंत हटाने की मांग की है ताकि निष्पक्ष रूप से इस मामले की जांच हो सके. बिशप को हटाने का फैसला भारत में वेटिकन के प्रतिनिधि पोप के क्षेत्राधिकार में आता है. ऐसे में उनसे भी मांग की गई है कि दोषी पाए जाने पर बिशप को स्थाई तौर पर हटाया जाए.

कोट्टायम के पुलिस अधीक्षक ने बताया कि बिशप फ्रैंको मुलक्कल की जांच टीम ने एक बार फिर से पूछताछ की है. हालांकि पुलिस का कहना है कि विरोध प्रदर्शनों के दबाव में आकर हम किसी को भी गिरफ्तार नहीं कर सकते, लेकिन पीड़िता की ओर से लगाए गए आरोपों की जांच चल रही है. किसी की गिरफ्तारी के लिए हमें पुख्ता सबूतों की जरूरत होती है, जबकि यह केस काफी पुराना है और सबूत जुटाने में वक्त लग सकता है.

सभी आरोप निराधार: बिशप

इस बीच आरोपी बिशप ने नन के आरोपों को निराधार बताया है. उन्होंने कहा कि पुलिस ने 9 घंटे मुझसे पूछताछ की लेकिन नन बार-बार अपना बयान बदल रही हैं. अब पुलिस तय करेगी कि आखिर कौन सच बोल रहा है.

वैश्या कहकर फंसे विधायक

महिला आयोग ने पीड़िता नन को वैश्या बताने वाले केरल के निर्दलीय विधायक पीसी जार्ज के खिलाफ कड़ी टिप्पणी की है. महिला आयोग का कहना है कि यह बयान बेहद आपत्तिजनक और निंदनीय है. आयोग इस बारे में राज्य के डीजीपी को खत लिखेगा, जिसमें विधायक के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जाएगी.

वहीं केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि एक जनप्रतिनिधि द्वारा पीड़ित के खिलाफ ऐसा बयान देना राजनीति में गिरावट को दिखाता है. उन्होंने कहा कि यह राज्य का मामला है और वहां के CM को इस बारे में संज्ञान लेना चाहिए.

बता दें कि पंजाब के जालंधर में जुलाई महीने में नन ने जालंधर के बिशप फ्रैंको मुलक्कल के खिलाफ रेप और शारीरिक उत्पीड़न की शिकायत दर्ज कराई थी. आरोपों के मुताबिक, आरोपी बिशप का काम के सिलसिले में अक्सर केरल आना होता था. इस दौरान उसने कई बार नन के साथ रेप की वारदात को अंजाम दिया.

मीडिया द्वारा इस मामला को जोर-शोर से उठाए जाने के बाद लोगों ने इसे लेकर दबाव बनाए जाने से केस की जांच शुरू की गई. पिछले महीने केरल से जांच टीम जालंधर गई और आरोपी बिशप के बयान दर्ज किए गए. पूछताछ के बाद वापस लौटी केरल पुलिस का कहना था कि वे शिकायतकर्ता नन के बयान में और स्पष्टता चाहते हैं.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay