एडवांस्ड सर्च

एयर स्ट्राइक में मारा गया जैश सरगना मसूद अजहर का साला यूसुफ अजहर!

India Surgical strike on Pakistan भारत के जांबाजों ने पाकिस्तान में घुसकर एअर स्ट्राइक कर दी. जहां मोस्ट वॉन्टेड़ आतंकी मसूद अजहर के ठिकाने तबाह कर दिए गए. इसी में बालाकोट का वो इलाका भी शामिल था, जहां मौलाना मसूद अजहर का साला यूसुफ अजहर आतंक की फेक्ट्री चला रहा था.

Advertisement
aajtak.in
परवेज़ सागर नई दिल्ली, 26 February 2019
एयर स्ट्राइक में मारा गया जैश सरगना मसूद अजहर का साला यूसुफ अजहर! इंडियन एअर फोर्स ने पाकिस्तान में घुसकर जैश के ठिकाने तबाह कर दिए

जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मौलाना मसूद अजहर पाकिस्तानी एजेंसियों की पनाह में किसी बिल में जाकर छिप गया है. लेकिन सूत्रों से ख़बर आ रही है कि उसका करीबी रिश्तेदार यूसुफ अजहर इंडियन एअर फोर्स की स्ट्राइक में मारा गया है. यूसुफ अजहर ही वो शख्स था, जो मसूद अजहर की निगरानी में पाकिस्तान के बालाकोट इलाके में आतंकी कैंप चला रहा था. वहीं जैश के आतंकियों को ट्रेनिंग दी जा रही थी.

सूत्रों के मुताबिक मंगलवार की सुबह भारतीय वायु सेना के 12 मिराज-2000 विमानों ने पाकिस्तान में घुसकर एअर स्ट्राइक कर दी. निशाने पर थे भारत के मोस्ट वॉन्टेड़ आतंकी मसूद अजहर के ठिकाने. इसी में शामिल है बालाकोट का वो इलाका जहां मौलाना मसूद अजहर का साला यूसुफ अजहर आतंक की फेक्ट्री चला रहा था.

कौन था मौलाना यूसुफ अजहर

पाकिस्तान के बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का ट्रेनिंग कैंप था. जिसका संचालन मसूद अजहर का निगरानी में मौलाना यूसुफ अजहर कर रहा था. उसका दूसरा नाम उस्ताद गौरी भी है. वो रिश्ते में जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर का साला है. वो काफी समय से जैश के साथ काम कर रहा था. लेकिन वो कभी लाइम लाइट में नहीं आता था. 1999 में कंधार विमान अपहरण में यूसुफ अजहर शामिल था. वो अपहरणकर्ताओं की टीम को लीड कर रहा था. मसूद को छुड़ाने के बाद वो जैश में भर्ती का काम देख रहा था. बाद में मसूद अजहर ने उसे संगठन में अहम जिम्मेदारी दी. उसे बालाकोट में मौजूद आतंकी ट्रेनिंग कैंप की जिम्मेदारी दी गई. यूसुफ मंगलवार को इंडियन एअर फोर्स के हमले में मारा गया. उसके साथ ही जैश के कई टॉप कमांडर और ट्रेनर भी मारे गए.

मौलाना मसूद अजहर

जैश चीफ मसूद अजहर कुख्यात आतंकियों की लिस्ट में शीर्ष पर आता है, 1994 में उसे श्रीनगर में गिरफ्तार किया गया था. फिर उसे छुड़ाने के लिए 1995 में उसके साथियों ने कुछ विदेशी पर्यटकों को अगवा कर लिया था. हालांकि इनमें से एक भागने में कामयाब हो गया था. इसके बाद वर्ष 1999 में कंधार विमान अपहरण कर आंतकियों ने मसूद अजहर को छुड़ा लिया था. तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने उसे रिहा किया था.

वाजपेयी शासनकाल में भारत से छुटने के बाद ही उसने भारतीय संसद पर हमले साजिश रची थी. वो यहीं नहीं ठहरा, माना जाता है कि 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले में भी उसकी अहम भूमिका थी. 2016 के पठानकोट आतंकी हमले में भी उसकी भूमिका संदिग्ध मानी जाती है. भारतीय सेना और सुरक्षा एजेंसियों ने अजहर और उसके भाई को इस वारदात के लिए दोषी माना था. इसके बाद भारत ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उसकी करतूतों को बेनकाब किया, उसके बाद इंटरपोल ने उसके खिलाफ दूसरी बार रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया.

भारत की कोशिश रही है कि अजहर को अंतरराष्ट्रीय आतंकी घोषित किया जाए, जिस पर अमेरिका सहमति जताता है. लेकिन इस मामले में चीन हमेशा वीटो लगा देता है. उसके संगठन जैश-ए-मोहम्मद को भारत समेत अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड जैसे कई देश आतंकी ग्रुप घोषित कर रखा है. जबकि पाकिस्तान में एक तरह से उसे हीरो का दर्जा मिला हुआ है.

भारत के सबूत देने के बाद भी पाकिस्तान उसके खिलाफ कोई एक्शन नहीं लेता. मुंबई आतंकी हमले के बाद भी पाक ने उसे गिरफ्तार करने से मना कर दिया. उसने यहां तक कहा कि उसे नहीं पता कि अजहर कहां रहता है, जबकि मीडिया रिपोर्ट में बताया गया कि पाक के भावलपुर में रहता है. साथ ही वह पाक की कुख्यात आईएसआई का दुलारा बना हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay