एडवांस्ड सर्च

बुलंदशहर हिंसा पर योगी का फरमान- गोकशी हुई तो नपेंगे एसपी, डीएम

बुलंदशहर में शहीद हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के परिवार से सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को मुलाकात की. सुबोध के परिजन लगातार योगी आदित्यनाथ से मिलने की मांग कर रहे थे.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक / आशुतोष मिश्रा लखनऊ, 06 December 2018
बुलंदशहर हिंसा पर योगी का फरमान- गोकशी हुई तो नपेंगे एसपी, डीएम योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश (फाइल फोटो-पीटीआई)

बुलंदशहर में गोकशी को लेकर भड़की हिंसा के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सख्त फरमान जारी किया है. सीएम योगी ने कहा है कि किसी भी जिले में गोकशी की घटना पाई गई तो इसके लिए सीधे जिले के एसपी और डीएम जिम्मेदार होंगे.  वहीं विश्व हिन्दू परिषद ने कहा कि बिना सबूत के उनके संगठन को बदनाम किया जा रहा.

इस बात की जानकारी मुख्य सचिव ने उत्तर प्रदेश के सभी डीएम और एसपी को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से दी है, मुख्यमंत्री ने गोकशी पर अपना सख्त रुख मंगलवार रात की हुई मीटिंग में रखा था और हाई लेवल मीटिंग में उच्चाधिकारियों को गोकशी रोकने के साथ ही जिले के अधिकारियों को इसके लिए जिम्मेदार ठहराने के निर्देश दिए थे. मुख्यमंत्री के इसी हाई लेवल मीटिंग के बाद मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडे ने सभी जिला अधिकारियों और पुलिस कप्तानों को सख्त निर्देश जारी किए हैं.

सीएम योगी के निर्देश पर मुख्य सचिव ने प्रदेश के सभी मण्‍डलायुक्‍तों और फील्‍ड में तैनात पुलिस एडीजी, आईजी एवं डीआईजी को जनपद भ्रमण के दौरान निर्देशों के अनुपालन की समीक्षा करने के निर्देश दिए हैं. प्रदेश के सभी जनपदों के जिलाधिकारी और वरिष्‍ठ पुलिस अधीक्षक व पुलिस अधीक्षकों को अवैध पशुवधशालाओं के संबंध में की जा रही कार्रवाई की रिपोर्ट हर हफ्ते उपलब्‍ध कराने के निर्देश दिए हए हैं. इसी के साथ समस्‍त जनपदों के पुलिस प्रमुखों को थाना स्‍तर पर कार्रवाई सुनिश्चित कराने के लिए संबंधित थानाध्‍यक्ष को व्‍यक्तिगत तौर पर जिम्‍मेदार नामित किए जाने का निर्देश दिया गया है.

बता दें कि सोमवार को गोकशी की घटना से गुस्साए उपद्रवियों ने स्याना थानाक्षेत्र में एक पुलिस चौकी को फूंक दिया था. इस घटना में दंगाइयों ने अखलाक की हत्या की जांच के आईओ रहे इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या कर दी थी. पुलिस अधिकारी की हत्या के बाद प्रशासन सकते आ गया और आनन फानन में आला अधिकारी मौके पर पहुंचे.

घटना के बाद इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की बहन मनीषा ने पुलिस पर बेहद संगीन आरोप लगाते हुए कहा था कि उनके भाई की हत्या अखलाक केस की जांच करने के चलते की गई है. उन्होंने कहा था कि गोरक्षा के नाम पर मुख्यमंत्री योगी सिर्फ बातें कर रहे हैं. वे खुद क्यों नहीं गोरक्षा करके दिखाते हैं? उन्होंने मांग की थी कि मेरे भाई को शहीद का दर्जा दिया जाए. एटा के पैतृक गांव में उनका शहीद स्मारक बनाया जाए.

उत्तर प्रदेश सरकार के आदेश में खास बात यह है कि बुलंदशहर की घटना में मारे गए पुलिस अधिकारी के नाम का जिक्र एक बार भी नहीं आया. सूबे में लचर होती कानून व्यवस्था के सवाल को गोकशी पर केंद्रित कर दिया गया. जबकि गोरक्षा के नाम पर दंगाइयों और उपद्रवियों पर कार्रवाई करने के कोई निर्देश नहीं दिए गए.

बिना सबूत के बजरंग दल को बदनाम किया जा रहा

दूसरी ओर, विश्व हिन्दू परिषद (विहिप)/बजरंग दल के महामंत्री सुरेंद्र चक्र ने बुलंदशहर घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि इस हिंसा में सुमित और इंस्पेक्टर सुबोध की हत्या दुखद है.

उन्होंने कहा कि 3 तारीख को गांव के कुछ लोगों ने इलाके में गोकशी की घटना देखी. हमारे जिला संयोजक योगेश राज को गांववालों ने बुलाया था. गोकशी को लेकर दोपहर 12:43 पर एफआईआर लिखनी शुरू हुई.

उन्होंने कहा कि विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल के लोगों पर दोषारोपण करना गलत है. बुलंदशहर में वर्ग विशेष का धार्मिक आयोजन था. इज्जतमा के लिए गोवंश काटे गए हैं. पहले की घटना से जिला प्रशासन ने सबक क्यों नहीं ली? आज भी गोकशी हो रही है. प्रशासन की मिलीभगत से ही गौहत्या हो रही हैं.

सुरेंद्र चक्र ने कहा कि बिना सबूत और प्रमाण के बजरंग दल का नाम जोड़कर कार्यकर्ताओं को बदनाम किया जा रहा है. हमारी विचारधारा को बदनाम किया जा रहा है जबकि मुकदमों में 27 नामजद हैं और अन्य लोग अज्ञात हैं. इनमें से सिर्फ चार लोग ही हमारे संगठन के हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay