एडवांस्ड सर्च

EXCLUSIVE: हैदराबाद गैंगरेप पीड़िता के पिता-बहन और मां ने सुनाई उस रात की आपबीती

हैदराबाद कांड के बाद आजतक की टीम पीड़िता के घर गई और उसने पीड़िता के माता-पिता और इकलौती बहन से बात की. मां ने कहा कि उनकी बेटी को जिस तरह से जलाया गया वैसे ही उन दोषियों को भी जलाया जाए. इस मामले पर जल्द से जल्द कार्रवाई हो.

Advertisement
aajtak.in
चित्रा त्रिपाठी हैदराबाद, 03 December 2019
EXCLUSIVE: हैदराबाद गैंगरेप पीड़िता के पिता-बहन और मां ने सुनाई उस रात की आपबीती हैदराबाद में पीड़िता के परिजनों के बात करती आजतक की टीम

  • पिता- अपराधी हैं और उन्हें जल्द से जल्द सजा मिलनी चाहिए
  • पीड़िता की मां बोली- दोषियों को भी उसी तरह जला दिया जाए
  • पीड़िता की बहन- पुलिस का पूरे मामले में रवैया बेहद ढीला
  • बहन ने बताया- घटनास्थल उनके घर से महज 2 किलोमीटर दूर

हैदराबाद में एक पशु चिकित्सक के साथ रेप और मर्डर की घटना के बाद जहां एक ओर पूरे देश में रोष है तो वहीं संसद में इस मामले की गूंज सुनाई दे रही है. पशु चिकित्सक के साथ हुई बर्बरता के बाद आजतक ने पीड़िता के परिजनों से बात की. पीड़िता के पिता का कहना है कि अपराध करने वालों की उम्र बेहद कम है, लेकिन उन्होंने बड़ा काम कर दिया. वे अपराधी हैं और उन्हें जल्द से जल्द सजा मिलनी चाहिए. पीड़िता की मां का कहना है कि बेटी को जिस तरह से जलाया गया उसी तरह अपराधियों को भी जलाया जाए.

हैदराबाद कांड के बाद आजतक की टीम पीड़िता के घर गई और उसने पीड़िता के माता-पिता और इकलौती बहन से बात की. मां ने कहा कि उनकी बेटी को जिस तरह से जलाया गया वैसे ही उन दोषियों को भी जलाया जाए. इस मामले पर जल्द से जल्द कार्रवाई हो.

hydrabad2_120319122415.jpgपीड़िता के पिता ने कहा कि अपराधियों को जल्द से जल्द सजा मिले

पुलिस सीसीटीवी फुटेज देखती रही

पीड़िता के पिता का कहना है कि जिस वक्त उनकी बेटी का फोन आया था उस वक्त वह घर पर नहीं थे. वो कोल्हापुर में थे. हालांकि उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस का पूरे मामले में रवैया बेहद ढीला था. पुलिस शुरुआत में स्पॉट पर नहीं गई और सिर्फ सीसीटीवी कैमरा देखती रही. हालांकि सीसीटीवी फुटेज में पीड़िता नहीं दिखी. यहां तक की पुलिस ने उनकी ही बेटी पर सवाल खड़े कर दिए कि वह कहीं चली गई.

पीड़िता के पिता कहना है कि दोषियों को जल्द से जल्द सजा मिलनी चाहिए. पहले निर्भया के आरोपियों को छोड़ दिया, और अब यह कांड हो गया. दोषियों को कड़ी सजा दी जानी चाहिए.

पीड़िता की बहन का कहना है कि वह इस वारदात के बाद से घर नहीं निकली है. पुलिस की कोई मदद नहीं मिली. अगर समय रहते उसे मदद मिलती तो वह जिंदा बच जाती. बहन की मांग है कि दोषियों को जल्द से जल्द सजा मिले.

घटनास्थल घर से महज 2 किलोमीटर दूर

पीड़िता की बहन ने आजतक से बताया कि जिस जगह घटना हुई वो उनके घर से महज 2 किलोमीटर ही दूर है. बहन की जब कॉल आई तो सिर्फ 6 मिनट ही बात हुई. उन्होंने बताया कि उसके फोन में रिकॉर्डिंग की सुविधा है और बहन के साथ उसकी आखिरी कॉल रिकॉर्ड हो गया जिसमें उसने कहा था कि डर लग रहा है.

hydrabad1_120319122333.jpgपीड़िता की बहन ने बताया कि वो उसका बहुत ख्याल रखती थी

इसे भी पढ़ें--- केजरीवाल की अमित शाह से अपील, साथ मिलकर दिल्ली को सुरक्षित बनाएं

बहन ने बताया कि वह उससे महज डेढ़ साल ही बड़ी थी, लेकिन वह बेहद ख्याल रखती थी. यहां तक कि वह खाना भी पैक करती थी. कई बार वह उसे खाना भी खिलाती थी. वह सबकी मदद करती थी.

उसने अपने सपने पूरे किएः पिता

पिता ने बताया कि वो बहुत होनहार लड़की थी. उसने अपने सारे सपने पूरे कर लिए थे. उसने रोजाना 14-14 घंटे पढ़ाई की. उसने 5 साल डॉक्टरी की पढ़ाई की. उसने सर्विस कमीशन की परीक्षा पास और 3 साल नौकरी की.

पिता ने अपनी बेटी के बारे में बताया कि वह अब उसकी शादी की तैयारी में थे और 2-3 महीने में उसकी शादी करने की योजना थी. साथ ही वह पीजी करने की तैयारी में जुटी थी, लेकिन वह शादी के बाद पीजी करने वाली थी. वो जो चाहती थी हमने उसे पूरा करने में मदद की. बेटी की चाहत पूरा करना हमारा फर्ज होता है.

लड़कों को भी संस्कार दिए जाएंः पिता

साथ ही उन्होंने कहा कि लड़कों को भी संस्कार दिए जाने की जरुरूत. घर से संस्कार दिए जाने से इस पर इस तरह की घटनाओं पर रोक लगेगी. साथ ही उन्होंने लड़कियों में भी जागरुकता फैलाने की बात कही.

उन्होंने कहा कि बच्चियों में जागरुकता फैलाने की जरूरत है. पुलिस को भी बच्चियों को इस संबंध में जागरुकता दिया जाना चाहिए. पुलिस जागरुकता को लेकर कार्यक्रम बनाए और नंबर डायल करने को बारे में बताए. नंबर डायल करने को लेकर जागरुकता होनी चाहिए.

पीड़िता ने पिता ने 100 नंबर डायल की आलोचना करते हुए कहा कि इसमें काफी समय लगता है. फोन करने पर कहा जाता है कि 1 नंबर डायल करो. 2 नंबर डायल करो. इसमें काफी समय लग जाता है. इस प्रक्रिया में काफी सुधार लाया जाना चाहिए.

पिता ने बताया कि आखिरी कॉल के दौरान उनकी बेटी ने कहा था कि फल काटकर रखना. उसे फल पसंद था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay