एडवांस्ड सर्च

गाजीपुर रेप केस: मौलवी के घर तोड़फोड़, कमिश्नर से मिला पीड़ित परिवार

दिल्ली पुलिस से जांच हांथ में आने के बाद लगातार दूसरे दिन क्राइम ब्रांच ने मदरसे का मुआयना किया. मदरसे में पढ़ने वाले छात्रों से भी जानकारी जुटाई गई है और मौलवी से लगातार पूछताछ की जा रही है.

Advertisement
aajtak.in
अरविंद ओझा / आशुतोष कुमार मौर्य नई दिल्ली, 27 April 2018
गाजीपुर रेप केस: मौलवी के घर तोड़फोड़, कमिश्नर से मिला पीड़ित परिवार प्रतीकात्मक तस्वीर

पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर में एक नाबालिग लड़की से मदरसे के अंदर रेप मामले में मदरसे के मौलवी के घर कुछ लोगों ने तोड़फोड़ की और मौलवी कि गिरफ्तारी की मांग की. पुलिस ने तोड़फोड़ में शामिल कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया है. बता दें कि इस मामले की जांच लोकल पुलिस से क्राइम ब्रांच को सौंप दी गई है.

दिल्ली पुलिस से जांच हांथ में आने के बाद लगातार दूसरे दिन क्राइम ब्रांच ने मदरसे का मुआयना किया. मदरसे में पढ़ने वाले छात्रों से भी जानकारी जुटाई गई है और मदरसे के मौलवी से लगातार पूछताछ की जा रही है. क्राइम ब्रांच ने कहा कि केस में मौलवी की भूमिका की भी जांच की जा रही है और अभी उसे क्लीन चिट नहीं दी गई है. वहीं मौलवी ने क्राइम ब्रांच को बताया की वह घटना के वक्त मदरसे में थे ही नहीं और न ही उन्हें पता है कि नाबालिग लड़की कब मदरसे में आई.

इस बीच पीड़ित परिवार ने एक एनजीओ के साथ पुलिस हेटक्वार्टर पहुंचकर पुलिस कमिश्नर से मुलाकात की और पूरे केस की निष्पक्ष जांच की मांग की. पुलिस कमिश्नर ने भी पीड़ित परिवार को निष्पक्ष जांच का भरोसा जताया.

पीड़ित परिवार का आरोप है कि उनकी बच्ची के साथ मदरसे में गैंगरेप किया गया. परिवार वालों का दावा है कि घटना के वक्त मौलवी मदरसे में ही मौजूद थे और रेप करने से पहले उसने पीड़िता को बिस्किट भी खिलाया था. गुरुवार को पीड़िता के पिता मीडिया के सामने आए और पूरी घटना के बारे में बताया. पीड़िता के पिता का आरोप है कि उनकी मासूम बच्ची के साथ जो कुछ भी हुआ वो एक साजिश का हिस्सा है और इस पूरी साजिश का मास्टरमाइंड और कोई नहीं, बल्कि मदरसे का मौलवी ही है.

पिता का आरोप है कि जनबूझकर उनकी बेटी के साथ इस घिनौने अपराध को अंजाम दिया गया. पीड़िता के पिता ने साथ ही दिल्ली पुलिस पर सही तरह से काम न करने का आरोप भी लगाया है. घटना से जुड़े सीसीटीवी के सारे फुटेज पुलिस को लड़की के पिता ने ही दिए, जिसके बाद लड़की का पता चल पाया. पीड़ित के मामा ने आरोपियों को फांसी की सजा दिए जाने की मांग की है.

वहीं पीड़ित के परिवार के साथ पुलिस हेडक्वार्टर पहुंचे एनजीओ की महिलाओं ने मांग की है कि ऐसे मदरसों की गहन पड़ताल होनी चाहिए. बता दें कि पीड़िता ने मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान दिया है कि 17 साल का एक लड़का उसे अपने साथ मदरसे में लेकर गया था. पुलिस ने लड़की का मेडिकल करवाने के बाद पॉक्सो एक्ट के तहत रेप का केस दर्ज कर लिया है. आरोपी नाबालिग लड़के को गिरफ्तार कर बाल सुधार गृह भेज दिया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay